Pages Navigation Menu

Breaking News

कोरोना वायरस; अच्‍छी खबर, भारत में ठीक हुए 100 मरीज

1.7 लाख करोड़ का कोरोना पैकेज, वित्त मंत्री की 15 प्रमुख घोषणाएं

भारतीय वैज्ञानिक ने तैयार की कोरोना वायरस टेस्टिंग किट

वित्त विधेयक बिना चर्चा के पारित,लोकसभा की बैठक स्थगित

parliament-of-india_factly.in_नई दिल्ली लोकसभा ने सोमवार को वित्त विधेयक को बिना चर्चा के पारित कर दिया जिसके साथ ही संसद में आम बजट 2020-21 पारित होने की प्रकिया पूरी हो गई। कोरोना वायरस की वजह से बने हालात के बीच निचले सदन ने बिना चर्चा के वित्त विधेयक को मंजूरी दी। इस दौरान सदन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी मौजूद थे। वित्त विधेयक पास होते ही सदन की कार्यवाही को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया।
कोरोना से निपटने के लिए कांग्रेस की आर्थिक पैकेज के ऐलान की मांग
कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने सरकार से कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए आर्थिक पैकेज की घोषणा की मांग की। सदन ने सरकार के संशोधनों को स्वीकार करते हुए ध्वनिमत से वित्त विधेयक को मंजूरी दे दी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त विधेयक पर सरकारी संशोधन पेश किए। इसके बाद सदन की बैठक अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई।

3 अप्रैल तक चलना था बजट सत्र, समय से पहले हुआ खत्म
बजट सत्र का दूसरा चरण 3 अप्रैल तक चलना था लेकिन कोरोना वायरस के मद्देनजर इसे समय से पहले ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित करना पड़ा। इस बार बजट सत्र के दौरान 23 बैठकों में 109 घंटे 23 मिनट तक कामकाज हुआ। सत्रहवीं लोक सभा के तीसरे सत्र (बजट सत्र) की शुरूआत 31 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ हुई थी। बजट सत्र का दो मार्च से शुरू हुआ था। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बताया कि इस सत्र के दौरान 23 बैठकें (आज की बैठक सहित) हुईं, जो 109 घंटे 23 मिनट तक चलीं।

स्पीकर ने की सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की घोषणा
स्पीकर ने सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की घोषणा करते हुए कहा कि 31 जनवरी, 2020 को दोनों सदनों के सदस्‍यों को राष्‍ट्रपति के अभिभाषण पर धन्‍यवाद प्रस्‍ताव को मंजूरी दी। प्रस्‍ताव 15 घंटे 21 मिनट तक चले वाद-विवाद के बाद मंजूर किया गया। बिरला ने कहा कि इस सत्र में महत्वपूर्ण वित्तीय, विधायी और अन्य कार्यों को भी निपटाया गया।

कोरोना: थरूर ने स्वास्थ्य उपकरणों की खरीद के लिए सांसद निधि के नियमों में छूट की मांग की

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं लोकसभा सदस्य शशि थरूर ने सोमवार को सरकार से आग्रह किया कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए स्वास्थ्य उपकरणों की खरीद में सांसद निधि के उपयोग के मकसद से नियमों में छूट दी जाए। सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्री राव इंद्रजीत सिंह को लिखे पत्र में उन्होंने कहा कि वह अपने संसदीय क्षेत्र तिरुवनंतपुरम में जांच एवं स्क्रीनिंग सुविधाओं में सुधार के लिए अपनी सांसद निधि का इस्तेमाल करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह जानकारी मेरे संज्ञान में आई है कि स्वास्थ्य सुरक्षा से जुड़े कुछ उपकरणों (पीपीई किट) की तत्काल जरूरत है। यह हमारे चिकित्साकर्मियों की सुरक्षा और तैयारी के लिए जरूरी है।’’ कांग्रेस सांसद ने अपने क्षेत्र में कई स्वास्थ्य उपकरणों की जरूरत का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘जन स्वास्थ्य की आपात स्थिति में अगर आप सांसद निधि से जुड़े नियमों में छूट दे देंगे तो मैं आपका आभारी रहूंगा।’’ थरूर के मुताबिक कोरोना की स्थिति से निपटने के लिए उन्होंने अपने क्षेत्र के जिला कलेक्टर से आग्रह किया है कि उनकी सांसद निधि से 90 लाख रुपये खर्च किए जाएं।

लोकसभा सदस्यों ने आवश्यक सेवाकर्मियों का ताली बजाकर आभार जताया

लोकसभा सदस्यों ने कोरोना वायरस के संकट से निपटने में योगदान दे रहे लोगों का सोमवार को सदन में ताली बजाकर आभार जताया। लोकसभा अध्यक्ष ने रविवार को प्रधानमंत्री के आह्वान पर ‘जनता कर्फ्यू’ के दौरान पूरे देश में शाम पांच बजे लोगों की ओर से ताली, थाली और घंटी बजाकर आवश्यक सेवाकर्मियों का आभार प्रकट किए जाने का उल्लेख किया। उन्होंने कहा, ‘‘न कोई राजनीति दिखी, न कोई मतभिन्नता दिखी, न जाति या पंथ दिखा। जो दिखा वो भारत की आत्मा थी।’’ लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि सदस्य अपने क्षेत्र में जाएं तो वहां यह प्रयास करें कि सरकारी दिशानिर्देशों का पूरा पालन हो। बिरला ने सदन से कहा कि यह सभा भी चिकित्सा सेवा से जुड़े लोगों, सफाईकर्मियों, सुरक्षाकर्मियों और मीडियाकर्मियों के सम्मान में खड़े होकर ताली बजाए। इसके बाद सदन के सदस्यों ने अपने स्थानों से खड़े होकर ताली बजाई। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी भी सदन में मौजूद थे। लोकसभा में सोमवार को सत्तापक्ष और विपक्ष के कई सदस्य कोरोना की स्थिति के मद्देनजर मास्क पहुंचकर सदन में पहुंचे। भाजपा के जयंत सिन्हा, सत्यपाल सिंह, संगीता सिंह देव और कुछ अन्य सदस्य, कांग्रेस के गौरव गोगोई और मोहम्मद जावेद, बीजू जनता दल के पिनाकी मिश्रा और बसपा के श्याम सिंह यादव सदन में मास्क पहने हुए दिखे। शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी, समाजवादी पार्टी, आईयूएमएल और एआईएमआईएम के सदस्य सदन में मौजूद नहीं थे।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *