Pages Navigation Menu

Breaking News

भारत ने 45 दिनों में किया 12 मिसाइलों का सफल परीक्षण

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

रिटायर्ड जस्ट‍िस एके त्रिपाठी का कोरोना संक्रमण से निधन

sk triphatiनई दिल्ली. लोकपाल के सदस्य  रिटायर्ड जज एके त्रिपाठी  की कोरोना संक्रमण से मृत्यु हो गई है. जस्ट‍िस एके त्रिपाठी को 2 अप्रैल को कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद एम्स  में भर्ती कराया था. वह 63 वर्ष के थे. एम्स में कोरोना वायरस के इलाज के दौरान उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. एके त्रिपाठी को एम्स के ट्रामा सेंटर में रखा गया था. त्रिपाठी कोरोना के ऐसे पहले मरीज थे जिनका इलाज ट्रामा सेंटर में किया जा रहा था.
बेटी भी निकली थी कोरोना पॉजिटिव
सिर्फ एके त्रिपाठी ही नहीं उनकी बेटी और रसोइए को भी कोरोना संक्रमण हुआ था. हालांकि इलाज मिलने के बाद दोनों स्वस्थ हो गए थे.
कौन थे एके त्रिपाठी?
न्यायमूर्ति एके त्रिपाठी भ्रष्टाचार विरोधी लोकपाल के चार न्यायिक सदस्यों में से एक थे. उन्होंने बिहार राज्य के अतिरिक्त महाधिवक्ता के रूप में भी कार्य किया था और पटना उच्च न्यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के पद पर पदोन्नत हुए और बाद में मुख्य न्यायाधीश बने. उन्हें पिछले साल 23 मार्च को लोकपाल के न्यायिक सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया था.जस्ट‍िस त्रिपाठी को एम्स में भर्ती कराया गया था और जांच में उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी जिसके बाद उन्हें ट्रॉमा सेंटर भेज दिया गया गसर था. त्रिपाठी कोरोना के पहले ऐसे मरीज थे जिन्हें वहां भेजा गया था.एम्स के ट्रॉमा सेंटर में ज्यादातर दुर्घटना के श‍िकार लोगों का इलाज किया जाता है लेकिन उसे हाल ही में समर्पित कोरोना अस्पताल बनाया गया है.स्वास्थ्य पेशेवरों ने कहा है कि कोरोनोवायरस विशेष रूप से बहुत छोटे बच्चों और बुजुर्गों के लिए खतरनाक है.

देशभर की बात करें तो कोरोना संक्रमितों आंकड़ा बढ़कर 37,776 पर पहुंच गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय  द्वारा शनिवार शाम को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोरोनावायरस से अब तक 1,223 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमितों की संख्या 37,776 हो गई है. वहीं, पिछले 24 घंटों में कोरोना के सबसे ज्यादा 2,411 नए मामले सामने आए हैं और 71 लोगों की मौत हुई है. हालांकि, थोड़ी राहत वाली बात यह है कि इस बीमारी से अब तक 10,018 मरीज ठीक को चुके हैं. रिकवरी रेट 26.64 प्रतिशत हो गया. बता दें कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देशभर में लॉकडाउन लगाया गया. लॉकडाउन के मौजूदा चरण को बढ़ाकर 17 मई कर दिया गया है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *