Pages Navigation Menu

Breaking News

भारत ने 45 दिनों में किया 12 मिसाइलों का सफल परीक्षण

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

राम पर झूठ बोल फंसे ओली, नेपाली जानता नाराज

Ayodhya -Nepalभगवान राम पर दिए गए नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के बयान पर हर तरफ विवाद बढ़ता ही जा रहा है. नेपाल में भी कई लोगों ने ओली के बयान पर तीव्र प्रतिक्रिया दी थी. उनके राजनीतिक विरोधियों से लेकर कई वरिष्ठ पत्रकारों और राजनीतिक समीक्षकों ने भी ओली के बयान को सही नहीं बताया था.राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी (आरपीपी) के चेयरमैन और नेपाल के पूर्व उप-प्रधानमंत्री कमल थापा ने पीएम ओली के बयान की कड़ी आलोचना की थी.उन्होंने लिखा था, “किसी भी प्रधानमंत्री के लिए इस तरह का आधारहीन और अप्रामाणित बयान देना उचित नहीं है. ऐसा लगता है कि पीएम ओली भारत और नेपाल के रिश्ते और बिगाड़ना चाहते हैं जबकि उन्हें तनाव कम करने के लिए काम करना चाहिए.”ओली के बयान पर आश्चर्य व्यक्त करते हुए उनके पूर्व प्रेस सलाहकार और नेपाल की त्रिभुवन यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर कुंदन आर्यल ने भी ट्वीट किया है.उन्होंने लिखा है, “ओली ने ये क्या कह दिया? क्या वो भारतीय टीवी चैनलों से प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं.”नेपाल के लेखक और जाने-माने राजनीतिक विश्लेषक कनक मणि दीक्षित ने ट्वीट किया है, “भगवान राम का जन्म कहाँ हुआ और अयोध्या कहाँ है, ऐसी पौराणिक बातों पर विवाद खड़ा करना पीएम ओली की मूर्खतापूर्ण कोशिश है. अभी तो सिर्फ़ भारत सरकार के मन में मौजूदा स्थिति के कारण कड़वाहट है. इससे लोगों में भी फूट पैदा हो सकती है.”

protest nepalनेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के अयोध्या और भगवान राम को लेकर दिए गए बयान पर नेपाल ने सफ़ाई दी है.मंगलवार को नेपाली विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि प्रधानमंत्री ओली किसी की भावनाओं को ठेस नहीं पहुँचाना चाहते थे.विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में तीन मुद्दों पर स्पष्टीकरण दिया है.सबसे पहले कहा गया है, “ये टिप्पणियाँ किसी राजनीतिक मुद्दे से जुड़ी नहीं थीं और किसी की भावनाएँ आहत करने का इरादा नहीं था.” आगे कहा गया है, “श्री राम और उनसे संबंधित स्थानों को लेकर कई मत और संदर्भ हैं. प्रधानमंत्री श्री राम, अयोध्या और इनसे जुड़े विभिन्न स्थानों को लेकर तथ्यों की जानकारी के लिए केवल उस विशाल सांस्कृतिक भूगोल के अध्ययन और शोध के महत्व का उल्लेख कर रहे थे जिसे रामायण प्रदर्शित करती है.”बयान के तीसरे बिंदु में कहा गया है, “इसका मतलब अयोध्या और सांस्कृतिक मूल्यों के महत्व को कम करना नहीं था.”

बयान में सबसे आख़िर में कहा गया है कि “नेपाल में हर साल विवाह पंचमी मनाया जाता है. इस अवसर पर भारत के अयोध्या से नेपाल के जनकपुर तक बारात आती है. नेपाल और भारत के प्रधानमंत्रियों ने मई 2018 में रामायण सर्किट लॉन्च किया था जिसका जनकपुर-अयोध्या बस सेवा एक अहम हिस्सा है. ये सारे तथ्य दोनों देशों और वहाँ की जनता के बीच लंबे समय से चले आ रहे सांस्कृतिक संबंधों को दर्शाते हैं.”लेकिन लगता है कि विदेश मंत्रालय की तरफ़ से आई सफ़ाई को ख़ुद नेपाल में भी गंभीरता ने नहीं लिया जा रहा है.नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री बाबूराम भट्टाराई ने विदेश मंत्रालय के स्पष्टीकरण वाले बयान के बाद ट्वीट किया, “सुराख़ छोटा होता तो रफ़ु कर भी उसे ढका जा सकता है. इतना बडा सुराख़ कैसे बंद होगा. अगर केपी ओली निजी हैसियत से बोले होते तो किसी को कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता कि उन्होंने क्या बोला है. लेकिन देश के प्रधानमंत्री की बात राजनीतिक नहीं है, भला ये कौन विश्वास करेगा. प्रधानमंत्री के लगातार असंगत व राष्ट्रहित के विपरीत आचरण को ढंकना नहीं चाहिए, उनको विदा ही करना है.”

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *