Pages Navigation Menu

Breaking News

जेपी नड्डा बने भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष

जिनको जनता ने नकार दिया वे भ्रम और झूठ फैला रहे है; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारत में शक्ति का केंद्र सिर्फ संविधान; मोहन भागवत

महाराष्ट्र पर संसद के दोनों सदनों में हंगामा, कार्यवाही स्थगित

sonia dharnaनयी दिल्ली, 25 नवंबर महाराष्ट्र मुद्दे पर कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी सदस्यों के हंगामे के कारण सोमवार को संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही दिन भर बाधित रही। हंगामे के कारण लोकसभा दो बार के स्थगन के बाद वहीं राज्यसभा एक बार के स्थगन के बाद पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गयी। सुबह लोकसभा की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस सदस्यों के हंगामे और और पार्टी के दो सदस्यों हिबी इडेन एवं टी एन प्रतापन और मार्शलों के बीच धक्का-मुक्की के बाद कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। सोमवार को कांग्रेस ने महाराष्ट्र में घटी राजनीतिक घटनाओं को लेकर केन्द्र सरकार को घेरने की कोशिश की और संसद में भारी हंगामा किया. जिस वजह से संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही बाधित हुई. भारी हंगामे के बीच लोकसभा की कार्यवाही दोपहर 12 बजे और राज्यसभा दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित की गई. 12 बजे लोकसभा की कार्यवाही वापस शुरू होते ही उसे दोबारा 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया. सुबह लोकसभा की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस सदस्यों के हंगामे और और पार्टी के दो सदस्यों हिबी इडेन एवं टी एन प्रतापन और मार्शलों के बीच धक्का-मुक्की के बाद कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। बैठक आरंभ होने के साथ ही कांग्रेस सदस्य नारेबाजी करते हुए आसन के निकट पहुंच गए। इडेन और प्रतापन ने बड़ा पोस्टर ले रखा था। नारेबाजी के बीच लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने प्रश्नकाल शुरू कराया और अनुसूचित जाति के लड़के-लड़कियों के छात्रावास विषय पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से पूरक प्रश्न पूछने को कहा।गांधी ने सवाल पूछने से इनकार करते हुए कहा, ‘‘महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या हुई है, ऐसे में मेरे सवाल पूछने का कोई मतलब नहीं है।’’ इसी बीच बिरला ने पोस्टर लहरा रहे इडेन और प्रतापन को ऐसा नहीं करने की चेतावनी दी। स्पीकर ने मार्शलों को दोनों कांग्रेस सदस्यों को सदन से बाहर करने का आदेश दिया। हालांकि इडेन, प्रतापन और अन्य कांग्रेस सदस्यों तथा मार्शलों के बीच धक्कामुक्की हो गयी। हंगामा बढ़ता देख अध्यक्ष ने बैठक दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। एक बार के स्थगन के बाद दोपहर 12 बजे बैठक पुन: आरंभ होते ही पीठासीन सभापति राजेंद्र अग्रवाल ने कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। दो बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजे कार्यवाही शुरू होने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा। हंगामे के बीच ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कराधान विधि संशोधन विधेयक 2019 सहित दो विधेयक पेश किया। पोत परिवहन मंत्री मनसुख एल मांडविया ने पोत पुनर्चक्रण विधेयक 2019 पेश किया। गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने एसपीजी अधिनियम संशोधन विधेयक पेश किया। इस विधेयक में किसी पूर्व प्रधानमंत्री के परिवार को एसपीजी सुरक्षा के दायरे से बाहर रखने का प्रस्ताव किया गया है। इसके बाद पीठासीन सभापति मीनाक्षी लेखी ने दोपहर दो बजकर करीब 10 मिनट पर बैठक दिनभर के लिये स्थगित कर दी।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *