Pages Navigation Menu

Breaking News

सीबीआई कोर्ट ;बाबरी विध्वंस पूर्व नियोजित घटना नहीं थी सभी 32 आरोपी बरी

कृष्ण जन्मभूमि विवाद- ईदगाह हटाने की याचिका खारिज

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

अयोध्या में राम मंदिर का नक्शा सर्वसम्मति से पास

Aayodhya Ram Temple Mapअयोध्या में राम मंदिर निर्माण का नक्शा भी बुधवार को पास हो गया है। अयोध्या विकास प्राधिकरण (एडीए) की बोर्ड बैठक में इसे कुछ मिनटों में मंजूरी दे दी गई। राम मंदिर ट्रस्ट का कहना है कि अब जल्द मंदिर निर्माण के लिए नींव की खुदाई का काम शुरू हो जाएगा।राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने 70 एकड़ परिसर के दो नक्शे भेजे थे। एडीए के चेयरमैन और कमिश्नर एमपी अग्रवाल ने बताया कि एक नक्शा 2 लाख 74 हजार वर्ग मीटर के लेआउट का है। यह ओपन एरिया है। दूसरा नक्शा राम मंदिर का है, जो 12,879 वर्ग मीटर कवर्ड क्षेत्र में है। दोनों नक्शे बोर्ड की बैठक में पास कर दिए गए।

ट्रस्ट को कौन-कौन से टैक्स जमा करने होंगे

ayodhya map passएडीए ने ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा को शुल्क जमा करने का पत्र दिया है। इसके मुताबिक, विकास शुल्क और अन्य शुल्क के 2 करोड़ 11 लाख 33 हजार 184 रुपये जमा करने होंगे। विकास शुल्क में 65% की छूट दी गई है। डेवेलपमेंट फीस 472 रुपए/वर्ग मीटर है। इसके अलावा 15 लाख रुपये लेबर सेस देना होगा।एएसआई और एयरपोर्ट एनओसी भी डॉक्यूमेंट लगता है। इसे ट्रस्ट को जमा करने की जरूरत नहीं है। क्योंकि, मंदिर क्षेत्र एयरपोर्ट और एएसआई की इमारत से काफी दूर है। बैठक में बोर्ड अध्यक्ष (कमिश्नर) एमपी अग्रवाल, जिलाधिकारी अनुज कुमार झा, उपाध्यक्ष डॉ. नीरज शुक्ल के अलावा अपर निदेशक कोषागार नीरज श्रीवास्तव, मुख्य नगर एवं ग्राम्य नियोजक राजेश प्रताप सिंह, सहयुक्त नियोजक नीलेश सिंह कटियार, अधीक्षण अभियंता पीडब्ल्यूडी व जल निगम, प्राधिकरण सचिव आरपी सिंह, नामित सदस्य निर्मला सिंह, परमानंद मिश्र व कमलेशकुमार श्रीवास्तव के अलावा विशेष आमंत्रित सदस्य भी शामिल रहे।

ram-temple-planतीन तल का होगा राम मंदिर : श्रीराम मंदिर का कुल क्षेत्रफल दो लाख 74 हजार 110 वर्ग मीटर है, जबकि कवर्ड एरिया 12879.30 वर्ग मीटर है। 49.24 मीटर ऊंचाई, भूतल 9972 वर्ग मीटर, प्रथम तल-1850.70 वर्ग मीटर व द्वितीय तल 1056.60 वर्ग मीटर होगा।

ये है प्राधिकरण शुल्क : अयोध्या विकास प्राधिकरण ने आयकर की अनुमन्य छूट के बाद 35 फीसद शुल्क लिया है। इसमें विकास शुल्क एक करोड़ 79 लाख 45 हजार 477 रुपये, पर्यवेक्षण शुल्क 29 लाख 73 हजार 307 रुपये व विकास अनुज्ञा शुल्क एक लाख 50 हजार, भवन अनुज्ञा शुल्क 64 हजार 400 रुपये शामिल है।

एक महीने पहले प्रधानमंत्री ने भूमिपूजन किया था
ram-mandir lay out5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन किया था। एक दिन पहले राम मंदिर के मॉडल की तस्वीरें सामने आई थीं। 161 फीट ऊंचे राम मंदिर में पांच मंडप और एक मुख्य शिखर है। दावा है कि अयोध्या के हर कोने से यह मंदिर दिखेगा। साल 1989 में राम मंदिर का मॉडल बनाया गया था। जिसमें श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने बदलाव किया है। यह मंदिर साढ़े तीन साल में बनकर तैयार होगा।

3 एकड़ में मंदिर, 65 एकड़ में परिसर होगा
राम मंदिर का नक्शा तैयार करने वाले चीफ आर्किटेक्ट सोमपुरा के बेटे निखिल सोमपुरा के मुताबिक, मंदिर के पास 70 एकड़ जमीन है। लेकिन, मंदिर 3 एकड़ में ही बनेगा। बाकी 65 एकड़ की जमीन पर मंदिर परिसर का विस्तार किया जाएगा। मंदिर में एक दिन में एक लाख राम भक्त पहुंच सकेंगे। मंदिर के मॉडल में बदलाव किया गया है।

ram mandirश्रीरामजन्मभूमि पर राममंदिर बनाने का नक्शा पास हो गया है। पूर्व में 28 अगस्त को प्राधिकरण कोष में जमा मानचित्र शुल्क 65 हजार रुपये घटाकर 2 करोड़ 11 लाख 33 हजार 184 रुपये का चेक प्राधिकरण कोष में जमा कर रसीद ले ली गई है। जबकि लेबर सेस की रकम 15 लाख 363 रुपये उ.प्र. भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के नाम डीडी बनवाकर भी प्राधिकरण सचिव रविद्र प्रताप सिंह को सौंप दी गई है।
डॉ. अनिल मिश्र, ट्रस्टी श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र, अयोध्या

अयोध्या विकास प्राधिकरण बोर्ड की बैठक में राममंदिर के नक्शे के प्रस्ताव को पास कर दिया गया है। राममंदिर परिसर 2 लाख 74 हजार 110 वर्ग मीटर का होगा। जबकि मुख्य मंदिर का कवर्ड एरिया 12 हजार 789 वर्ग मीटर है।
एमपी अग्रवाल, मंडलायुक्त अयोध्या

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की ओर से दाखिल किए गए नक्शे पर 2 करोड़ 26 लाख 33 हजार 547 रुपये का शुल्क निर्धारित किया गया है। इसमें 15 लाख 363 रुपये लेबर सेस शामिल है। ट्रस्ट को शुल्क जमा करने के लिए लिखित जानकारी दे दी गई है।
-डॉ. नीरज शुक्ला, उपाध्यक्ष, अयोध्या विकास प्राधिकरण

 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *