Pages Navigation Menu

Breaking News

कोरोना वायरस; अच्‍छी खबर, भारत में ठीक हुए 100 मरीज

1.7 लाख करोड़ का कोरोना पैकेज, वित्त मंत्री की 15 प्रमुख घोषणाएं

भारतीय वैज्ञानिक ने तैयार की कोरोना वायरस टेस्टिंग किट

पीएम नरेंद्र मोदी को राम मंदिर के शिलान्यास का निमंत्रण

pm-modi-ram-trust_20048204_204047383नई दिल्ली। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास और महासचिव चंपत राय समेत चार सदस्यों ने प्रधानमंत्री से मिलकर उन्हें मंदिर मामले पर फैसले की बधाई भी दी और भव्य राम मंदिर के शिलान्यास के लिए अयोध्या आने का न्योता भी दिया। वहीं प्रधानमंत्री ने भी चारों सदस्यों का सम्मान किया और आशा जताई कि जनभावना की आकांक्षा के अनुरूप ही भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा।दरअसल, प्रधानमंत्री की ओर से चार सदस्यों को ही आमंत्रित किया गया था। नृत्य गोपाल दास और सुप्रीम कोर्ट में रामलला के वकील तथा अब ट्रस्ट के सदस्य परासरन से प्रधानमंत्री मिलना चाहते थे। चंपत राय और संत गोविंद गिरी को भी उन्होंने बुलाया था। लगभग 15 मिनट की बैठक में प्रधानमंत्री ने सभी को अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया तो महंत नृत्य गोपाल दास ने पीएम को प्रसादी चुनरी भेंट की। नृत्य गोपाल दास जी ने बताया कि उन्होंने मौखिक रूप से प्रधानमंत्री को अयोध्या आने का न्योता दिया है। गौरतलब है कि बुधवार को ही ट्रस्ट की बैठक हुई थी जिसमें नृत्य गोपाल दास जी को अध्यक्ष चुना गया था और चंपत राय को महासचिव बनाया गया था। इसी बैठक में प्रधानमंत्री के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा को मंदिर निर्माण समिति का अध्यक्ष बनाया गया था।

ट्रस्ट में दिखेगी पीएम की सोच

राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिलते ही नृपेंद्र मिश्रा ने काम शुरू कर दिया है। गुरुवार को ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय समेत कुछ सदस्यों के साथ उन्होंने अनौपचारिक बैठक की और जल्द ही निर्माण को लेकर व्यापक बैठक का मन बनाया है। यह तय है कि समय सीमा के अंदर ही कार्य संपन्न किया जाएगा। दरअसल, मिश्रा का चयन ही बहुत कुछ कहता है। जाहिर तौर पर एक प्रशासक के रूप में मिश्रा का अनुभव बहुत लंबा है लेकिन उससे भी खास यह है कि उन्होंने राम मंदिर आंदोलन को बहुत नजदीक से देखा है।

राम भक्‍तों पर गोली चलाने पर नृपेंद्र मिश्रा ने जताई थी असहमति

पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के वह निजी सचिव थे और बाद में मुख्यमंत्री मुलायम सिंह के काल में वह प्रमुख सचिव थे। मुलायम के काल में जब राम भक्तों पर गोली चलाने का आदेश हुआ था तो उन्होंने इससे असहमति जताई थी। यही कारण है कि उनकी रिपोर्ट कार्ड में कुछ नकारात्मक टिप्पणी भी की गई थी। अगर वर्तमान परिप्रेक्ष्य मे देखा जाए तो उनकी मौजूदगी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच को जमीन पर उतारेगी। ध्यान रहे कि 2014 में नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद पहला अध्यादेश उन्हें पीएमओ में प्रमुख सचिव बनाने को लेकर ही जारी किया गया था। दूसरे कार्यकाल में भी वह बरकरार रहे हालांकि कुछ दिनों बाद ही उन्होंने जिम्मेदारी से मुक्ति का आग्रह किया था।

महंत नृत्य गोपाल दास को चुना गया था अध्‍यक्ष 

ज्ञात रहे कि केंद्र सरकार द्वारा गठित ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट’ की बुधवार को पहली बैठक हुई जिसमें रामजन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास को ट्रस्‍ट का अध्यक्ष-प्रबंधक का दायित्‍व सौंपा गया। वहीं विहिप के वरिष्ठ उपाध्यक्ष चंपत राय ( को महासचिव की जिम्‍मदारी दी गई। ट्रस्ट में शामिल वरिष्ठ वकील के. परासरन के आवास पर हुई बैठक में स्‍वामी गोविंद देव जी गिरी जी महाराज पूना को कोषाध्‍यक्ष चुना गया।

नृपेंद्र मिश्रा को बनाया गया मंदिर निर्माण समिति का प्रमुख

इससे पहले नृत्य गोपालदास ट्रस्ट के सदस्य नहीं थे। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा को श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट की मंदिर निर्माण समिति का प्रमुख बनाया गया है। बैठक में यह भी फैसला लिया गया है कि राम मंदिर निर्माण के लिए दान प्राप्त करने के लिए एक बैंक खाता अयोध्या की स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में खुलवाया जाएगा। बैठक के बाद चंपत राय ने पत्रकारों को उक्‍त जानकारियां दी। फिलहाल, मंदिर निर्माण कब से शुरू होगा इस पर अभी फैसला नहीं हुआ है। अगली बैठक अयोध्या में होगी जिसमें मंदिर निर्माण की तारीख का एलान किया जा सकता है।

ट्रस्‍ट के चार्टर्ड एकांउटेंट की सौंपी गई जिम्‍मेदारी  

दिल्‍ली की फर्म शंकर अय्यर एंड कंपनी रंजीत नगर, पटेल नगर नई दिल्‍ली को ट्रस्‍ट के चार्टर्ड एकाउंटेंट की जिम्‍मेदारी सौंपी गई। यह कंपनी ट्रस्‍ट के एकाउंट से संबंधित वैधानिक कार्यों को पूरा करेगी। बैठक में फैसला लिया गया कि अयोध्‍या धाम के स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया शाखा में ट्रस्‍ट का जो बैंक अकाउंट खोला जाएगा,  उसका संचालन स्‍वामी गोविंद देव गिरी जी, चंपत राय, डॉ. अनिल कुमार मिश्र में से किन्‍हीं दो के संयुक्‍त हस्‍ताक्षरों से होगा। भारत सरकार के प्रतिनिधि के रूप में अतिरिक्‍त सचिव गृह विभाग ज्ञानेश कुमार बैठक में शामिल हुए।

पहली बैठक में शामिल हुए थे सभी सदस्‍य 

श्रीराम मंदिर जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक में ट्रस्ट के सदस्यों के अलावा राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष नृत्य गोपालदास, अयोध्या के जिलाधिकारी अनुज झा और प्रमुख सचिव गृह अवनीश अवस्थी भी शामिल हुए थे। इन दोनों अधिकारियों ने उत्‍तर प्रदेश सरकार की तरफ से बैठक में प्रतिनिधित्व किया। बैठक में के. परासरन, स्‍वामी वासुदेवानंद जी महाराज, स्वामी परमानंद जी महाराज, स्‍वामी विश्‍व प्रसन्‍नतीर्थ जी महाराज, स्‍वामी गोविंद देव गिरी जी, महंत दि‍नेंद्र दास जी महाराज, विमलेंद्र मोहन प्रताप, डॉ. अनिल प्रताप मिश्रा एवं कमलेश्‍वर चौपाल भी मौजूद रहे।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *