Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

पंजशीर में पाकिस्तानी वायुसेना की बमबारी से ईरान आगबबूला

AFGHANISTAN-CONFLICTअफगानिस्तान के पंजशीर प्रांत की जंग अभी जारी है। इस बीच पाकिस्तानी वायु सेना की तरफ से इस इलाके में की गई बमबारी को लेकर ईरान भड़क गया है। ईरान के विदेश मंत्री सईद खातिबज़दा ने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर इस हमले की निंदा की है और जांच की मांग की है। ईरान ने यह भी कहा है कि उसने इस मामले की जांच शुरू कर दी है।दरअसल, रविवार को पंजशीर प्रांत में तालिबान की मदद के लिए पाकिस्तानी वायु सेना ने बमबारी की थी। खबर यह भी थी कि इलाके में ड्रोन की मदद से बमबारी हुई। आमजन न्यूज ने पूर्व समांगन सांसद जिया अरियनजद के हवाले से कहा कि पाकिस्तानी ड्रोन ने स्मार्ट बमों का इस्तेमाल कर पंजशीर पर बमबारी की है।इस बीच सोमवार को तालिबान ने यह दावा किया कि पंजशीर प्रांत पर अब पूरी तरह उसका कब्जा है। हालांकि, विद्रोही बलों ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि उनकी जंग तब तक जारी रहेगी जब तक न्याय की जीत नहीं हो जाती। बता दें कि तालिबान को शुरू से ही पाकिस्तान का समर्थन मिलता आया है। कई अमेरिकी अधिकारियों ने भी यह दावा किया है कि तालिबान के इतनी जल्दी देश पर कब्जा करने के पीछे पाकिस्तान का ही हाथ है। खुद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान तालिबानियों को आम आदमी बता चुके हैं।

तालिबान जहां पंजशीर घाटी पर कब्जा करने का दावा कर रहा है, वहीं रेसिस्टेंस फोर्स के नेता अहमद मसूद ने इसे खारिज कर दिया है। अपने फेसबुक पेज पर एक ऑडियो संदेश साझा करते हुए, अहमद मसूद ने कहा, राष्ट्रीय प्रतिरोध बल (एनआरएफ) अभी भी पंजशीर में मौजूद है और तालिबान लड़ाकों से लड़ना जारी रखेगा

पाक आईएसआई प्रमुख ने की थी तालिबान से मुलाकात
आपको बता दें कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई प्रमुख ने तालिबान नेताओं से मिलने, सुरक्षा और सीमा मुद्दों पर चर्चा करने के लिए अफगानिस्तान का दौरा किया था। उनके दौरे के बाद ही पाकिस्तानी वायु सेना ने पंजशीर में बम बरसाए हैं। तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने मुलाकात के बारे में कहा था कि पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस एजेंसी के महानिदेशक फैज हमीद ने एक प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया और तालिबान के कब्जे से लेकर अफगानिस्तान में नई सरकार बनाने के उनके प्रयासों तक के हालिया बदलावों के बारे में बातचीत की।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »