Pages Navigation Menu

Breaking News

 अपने CM को शुक्रिया कहना कि मैं जिंदा लौट पाया; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

देश में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर

सच बात—देश की बात

शरद पवार ने पीसी चाको को दी केरल में NCP की कमान

मुंबई: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी ) की केरल इकाई का प्रमुख पीसी चाको को बनाया गया है. पार्टी महासचिव प्रफुल्ल पटेल ने बुधवार को इस बाबत घोषणा की. चाको इस वर्ष मार्च में ही एनसीपी में शामिल हुए थे. इससे पहले वह कांग्रेस में थे.चाको को संबोधित पत्र में पटेल के हवाले से कहा गया है, ‘‘एनसीपी  के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद पवार ने आपको तत्काल प्रभाव से एनसीपी  की केरल इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया है. मुझे विश्वास है कि आप राज्य में हमारी पार्टी के विकास के लिए कड़ी मेहनत करेंगे.’’ राज्यसभा सदस्य पटेल ने इस पत्र की प्रति ट्विटर पर साझा की और चाको को बधाई दी.चाको ने पार्टी के वरिष्ठ नेता टी पी पीठाम्बरम की जगह ली है जो राज्य इकाई के अध्यक्ष थॉमस चांडी के दिसंबर 2019 में निधन के बाद से अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी अस्थायी रूप से संभाल रहे थे.बता दें पीसी चाको करीब पांच दशक से कांग्रेस पार्टी से जुड़े थे. पीसी चाको कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में शामिल रहे, वह कांग्रेस सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. चाको साल 2009 से लेकर 2014 तक केरल के थ्रिसूर से सांसद रहे. उन्होंने केरल विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़ दी थी.  उन्होंने आरोप लगाया था कि विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के उम्मीदवार तय करने में गुटबाजी हावी रही. उन्होंने आरोप लगाया था कि पार्टी के उम्मीदवारों का चयन दो समूहों ने अलोकतांत्रिक तरीके से किया. एनसीपी शामिल होने के बाद चाको ने  कहा था कि मैं एक ऐसी पार्टी का हिस्सा बनकर खुश हूं जो काम कर रही है, सक्रिय है और एक दिशा के साथ आगे बढ़ रही है. उन्होंने कहा, “मुझे विश्वास है कि पवार साहब, उनका नेतृत्व, संपर्क बीजेपी के खिलाफ विपक्ष की एकता तैयार करने में सर्वाधिक प्रभावी होंगे.”

चुनावी राज्य केरल में चुनाव से ठीक पहले दिया गया पीसी चाको का इस्तीफा इसी प्रदेश से सांसद और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को शर्म से लाल करने वाला था पीसी चाको को सोनिया गांधी और राहुल गांधी दोनों का खास माना जाता था। दिल्ली कांग्रेस प्रभारी के रूप में 2014 से 2020 तक उनका कार्यकाल इस विश्वास को आसानी से दर्शाता है। पर कांग्रेस नेतृत्व के प्रति चाको की हताशा उनके पत्र से साबित होती है। पीसी चाको ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजी अपनी चिठ्ठी में लिखा और मीडिया में टिप्पणी की उसके अनुसार चाको ने कहा कि ‘कांग्रेस में लोकतंत्र नहीं बचा है। मैं केरल से आता हूं, जहां कांग्रेस कोई पार्टी नही है। कांग्रेस आलाकमान मूकदर्शक बना रहा है। मैंने कांग्रेस की खातिर जी-23 में शामिल होना सही नहीं समझा, लेकिन उन्होंने (G-23) जो सवाल उठाए वह पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।’ कांग्रेस के इस दिग्गज नेता की ऐसी तीखी टिप्पणी उस चुनौतीपूर्ण समय में आई है, जब जी-23 नेताओं द्वारा गांधी परिवार और खासकर राहुल गांधी की कार्यशैली पर सवाल उठाए जा रहे हैं। दरअसल, कांग्रेस पार्टी लगातार अपने नेताओं को खो रही है, जिन्हें कांग्रेस ने ही राजनीति में आगे बढ़ाया। साथ ही वह राज्य दर राज्य अपना राजनीतिक आधार भी खो रही है. असंतुष्टों का कहना है कि कांग्रेस अपने अस्तित्व को बचाने के संकट का सामना कर रही है. चाको के इस्तीफे ने इसी बात का सबूत पेश किया है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »