Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

भूपेन्द्र पटेल अब गुजरात के नए मुख्यमंत्री

cm gujratगुजरात में विजय रूपाणी के इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री पद को लेकर चल रहा कयासों का दौर खत्म हो गया है. उत्तराखंड की तरह भारतीय जनता पार्टी ने एक बार फिर से गुजरात में भी अपने फैसले से चौंका दिया है. विधायक दल की बैठक में बीजेपी की ओर से भूपेन्द्र पटेल का नाम फाइनल किया गया है.भूपेन्द्र पटेल अब गुजरात के नए मुख्यमंत्री  होंगे. गांधीनगर में हुई विधायक दल की बैठक में उनका नाम तय हुआ और पार्टी ने उन्हें नया सीएम बनाए जाने की घोषणा कर दी.

कौन हैं भूपेंद्र पटेल?

भूपेन्द्र पटेल  गुजरात की घाटलोडिया विधानसभा सीट से वर्तमान में विधायक हैं. वे पाटीदार समाज से आते हैं और जमीन से जुड़े नेता माने जाते हैं. भूपेंद्र पटेल की उम्र 59 साल बताई जाती है. वे अहमदाबाद के शिलाज इलाके के रहने वाले हैं. शिक्षा की बात करें तो मिली जानकारी के अनुसार, उन्होंने सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया है.

पहली विधायकी में ही सीएम की कुर्सी!

भूपेंद्र पटेल लंबे समय से राजनीति से जुड़े हुए हैं. वे सामाजिक और राजनीतिक तौर पर अच्छा अनुभव रखते हैं. वर्ष 1999-2000 में वे स्थायी समिति के अध्यक्ष और मेमनगर नगरपालिका के अध्यक्ष रहे थे. 2010-15 के दौरान वे थलतेज वार्ड से पार्षद रहे थे.

2015-17 के दौरान वे AUDA यानी अहमदाबाद शहरी विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रह चुके हैं. वहीं सामाजिक जिम्मेदारी की बात करें तो वे 2008-10 में एएमसी के स्कूल बोर्ड के उपाध्यक्ष रह चुके हैं.

बीते विधानसभा चुनाव में उन्होंने पहली बार जीत दर्ज की और करीब साढ़े तीन साल के बाद उन्हें प्रदेश का नेतृत्व करने का मौका मिल गया. वे पटेल पाटीदार संगठनों सरदार धाम और विश्व उमिया फाउंडेशन में ट्रस्टी भी हैं. ऐसे में पाटीदार समाज को रिझाने में वे बड़ी भूमिका निभा सकते हैं.

पाटीदार समाज पर फोकस

गुजरात विधानसभा चुनाव में महज 15 महीने शेष रह गए हैं. अगले साल दिसंबर में चुनाव संभावित है. गुजरात बीजेपी का गढ़ रहा है और बीजेपी के लिए अपना गढ़ बचाए रखना चुनौती है. पिछले चुनाव में पाटीदार आंदोलन और कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिली थी. इस बार चुनौती ज्यादा न हो, इसलिए किसी पटेल नेता को लाना जरूरी था. इसे देखते हुए भूपेंद्र पटेल को लाया गया है ताकि पाटीदार समाज में बीजेपी की आवाज पहुंच सके.

सरकार बनाने में पाटीदार समाज की भूमिका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात में सबसे लंबे समय(4610 दिन) तक मुख्यमंत्री रहे थे. उसके बाद वे केंद्र की राजनीति में आ गए और अपने विकल्प के तौर पर आनंदीबेन पटेल को पहली महिला मुख्यमंत्री बनाया. आनंदीबेन को हटाकर विजय रूपाणी को सीएम बनाया गया था.बहरहाल गुजरात में सरकार बनाने में पाटीदार समाज की बड़ी भूमिका रही है. पाटीदार आंदोलन से उभरे नेता हार्दिक पटेल कांग्रेस में शामिल हो गए और प्रदेश में बीजेपी को नुकसान पहुंचाया. बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रदेश की कुल आबादी में करीब 14 फीसदी पाटीदार हैं, वहीं वोटर्स में उनकी संख्या करीब 21 फीसदी है. प्रदेश में इस समाज से अच्छे-खासे विधायक हैं.भूपेंद्र पटेल को नया सीएम बनाए जाने की रणनीति को राजनीतिक विशेषज्ञ बीजेपी के बड़े कदम के तौर पर देख रहे हैं. उनके मुताबिक पाटीदारों को रिझाने के लिए ऐसा करना जरूरी था.

पहली बार में विधायक से सीएम बने
बताया जाता है कि आनंदीबेन पटेल का करीबी होना उनके लिए बहुत फायदेमंद रहा। इसके अलावा आरएसएस से भी उनका जुड़ाव कापुी पुराना है। भूपेंद्र पटेल की अभी तक की सबसे बड़ी राजनीतिक उपलब्धि 2017 का विधानसभा चुनाव है। यहां पर उन्होंने घाटलोदिया विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था। उन्होंने कांग्रेस के शशिकांत पटेल को 1,17,000 वोटों के भारी अंतर से शिकस्त दी थी। उनसे पहले यह सीट गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के पास हुआ करती थी।  पटेल को करीब से जानने वाले लोग उन्हें जमीन से जुड़ा नेता बताते हैं, जो लोगों से चेहरे पर मुस्कान के साथ मिलते हैं। उन्होंने नगर पालिका स्तर के नेता से लेकर प्रदेश की राजनीति में शीर्ष पद तक का सफर तय किया है।

इतनी संपत्ति होने का किया था दावा
माई नेता डॉट इंफो पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक भूपेंद्र पटेल ने 2017 के विधानसभा चुनाव में अपनी संपत्ति का ब्यौरा दिया था। इसके मुताबिक उन्होंने तब अपनी कुल संपत्ति 69, 55,707 रुपए बताई थी। उनकी पत्नी का नाम रजनीकांत पटेल है। 2017 की एफिडेविड के मुताबिक भूपेंद्र पटेल के पास ह्यूंडई कार थी। वहीं उनकी पत्नी के नाम होंडा एक्टिवा कार थी।

समर्थकों के बीच दादा के नाम से मशहूर
अपने समर्थकों के बीच ‘दादा के नाम से पुकारे जाने वाले पटेल को गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री तथा उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का करीबी माना जाता है। वह जिस विधानसभा का प्रतिनिधित्व करते हैं, वो गांधीनगर लोकसभा सीट का हिस्सा है, जहां से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सांसद हैं। पटेल विधानसभा चुनाव लड़ने से पहले स्थानीय राजनीति में सक्रिय थे और अहमदाबाद जिले की मेमनगर नगरपालिका के सदस्य रहे और दो बार इसके अध्यक्ष बने। भूपेंद्र पटेल को मृदुभाषी कार्यकर्ता के रूप में जाना जाता है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »