Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

लव जिहाद; निकिता ने मुसलमान बनने से क्या इंकार तो गोली मारी दी….

nikita-650_102720021830फरीदाबाद बल्‍लभगढ़ में बीकॉम छात्रा निकिता तोमर की दिनदहाड़े हत्‍या कर दी गई। सीसीटीवी में दर्ज पूरी घटना जब सामने आई तो आरोपी के कांग्रेस विधायक का रिश्‍तेदार होने की बात पता चली। गिरफ्तार तौसीफ की उम्र 21 वर्ष है। आरोपी फिजियोथैरेपी का कोर्स कर रहा है। दूसरा आरोपी रेहान मेवात का रहने वाला है। तौसीफ के दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं। उसके चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा के पूर्व मंत्री रहे हैं। नूंह से कांग्रेस विधायक आफताब अहमद उसके चचेरे भाई हैं। परिवार का आरोप है कि तौसीफ ने कई बार निकिता पर धर्मपरिवर्तन कराने का दबाव बनाया था।फरीदाबाद सांसद कृष्‍ण पाल सिंह गुर्जर ने पीड़‍ित परिवार से मुलाकात की है। उन्‍होंने न्‍यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि ‘हम पीड़‍िता के परिवार को भरोसा देना चाहते हैं कि हम उनके साथ हैं। हम जल्‍द से जल्‍द न्‍याय करेंगे।’

तौसीफ के घरवालों ने 2018 में दबाव बनाकर वापस कराया था केस
तौसीफ और निकिता दोनों फरीदाबाद के एक स्‍कूल में साथ पड़े थे। निकिता 12वीं की बोर्ड टॉपर्स में थी और सिविल सविर्सिज एग्‍जाम की तैयारी कर रही थी। 2018 में स्‍कूल खत्‍म होने के बाद दोनों अलग-अलग कॉलेज में पढ़ने लगे। पुलिस के अनुसार, उसी साल तौसीफ ने निकिता का अपहरण किया था। मामला दर्ज हुआ था लेकिन पंचायत के बाद वापस ले लिया गया। निकिता के परिवार का आरोप है कि उनपर तौसीफ के रिश्‍तेदारों ने दबाव बनाया था। नूंह में तौसीफ के परिवार का दबदबा है और निकिता के परिवार को भरोसा दिया गया था कि तौसीफ आगे कुछ नहीं करेगा।निकिता के पिता ने बताया कि तौसीफ कई सालों से उनकी बेटी पर धर्म परिवर्तन कर उससे शादी करने का दबाव बना रहा था। निकिता पढ़ाई में हमेशा अव्वल आती थी। ऐसे में वो उससे बात भी नहीं करना पसंद करती थी। निकिता के पिता का दावा है कि आरोपित की मां पिछले दो साल से बेटी पर धर्म परिवर्तन का दबाव डाल रही थी।

Aftab-Ahmedनूंह विधायक का चचेरा भाई है मुख्य आरोपी तौसीफ
बताया जाता है कि मुख्य आरोपी तौसीफ के दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं जबकि नूंह से मौजूदा कांग्रेस विधायक आफताब अहमद का चचेरा भाई है। आफताब अहमद पूर्व मंत्री रह चुके हैं। तौसीफ बसपा की टिकट पर सोहना से चुनाव लड़ने वाले जावेद अहमद का भतीजा है।तौसीफ के दादा कबीर अहमद मेवात से विधायक रह चुके हैं. उसके चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा में पूर्व मंत्री रह चुके हैं. वर्तमान में उसका चचेरा भाई आफताब अहमद नूंह से कांग्रेस का विधायक है. पीड़ित परिवार का आरोप है कि तौसीफ की निकिता पर गलत नजर थी. वह पिछले 2 साल से उसका मजहब बदलवाकर निकाह के लिए दबाव डाल रहा था.

तौसीफ का मामा है कुख्यात बदमाश
कुख्यात बदमाश पुन्हाना निवासी इस्लामुद्दीन, तौसीफ अहमद का सगा मामा है। फिलहाल वह जेल में है। फरीदाबाद पुलिस ने तौसीफ की तलाश में बीती रात इस्लामुद्दीन के घर की तलाशी ली थी, लेकिन वह नहीं मिला। बादमें उसे नूंह से गिरफ्तार कर लिया गया था।

क्राइम ब्रांच डीएलएफ ने दो आरोपितों के पास से एक देसी तमंचा भी बरामद किया है। दोनों को मंगलवार को कोर्ट में पेश करके दो दिन की रिमांड पर लिया गया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। राष्टीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने हत्याकांड का स्वतः संज्ञान लेते हुए हरियाणा के डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस को पत्र लिखा है। निकिता के भाई प्रवीण का कहना है कि हम चाहते हैं कि जल्द से जल्द हमारी बहन को न्याय मिले। दोषियों को फांसी हो या उनका एनकाउंटर किया जाए।

सहेली ने बताया घटनाक्रम
निकिता तोमर की सहेली ने कहा कि वारदात वाले दिन वे एग्जाम खत्म करके कॉलेज से बाहर निकली थी. सभी सहेलियां आपस में बात कर रही थी. उसी दौरान निकिता ने उसे बताया कि उसका एग्जाम बहुत अच्छा हुआ है. उसके बाद निकिता चली गई और वह भी निकल गई.

गोली चलते ही सड़क पर मच गई भगदड़
कुछ ही देर में कॉलेज के बाहर भगदड़ सी मची और सब लोग इधर उधर भागने लगे. उसी दौरान गोली चलने की आवाज आई. पीछे मुड़कर देखा तो एक कार भाग रही थी. घटना स्थल पर पहुंचे तो निकिता तोमर लहूलुहान हालत में पड़ी थी. हत्यारों ने उसे सीने में गोली मार दी थी. सहेली ने कहा कि घटना वाले दिन के बाद से वह बहुत बुरी तरह डर गई है.

अपहरण में फेल होने पर कर दी सरेआम हत्या
बता दें कि सोमवार को फरीदाबाद के बल्लभगढ़ में बीकॉम छात्रा निकिता तोमर की दिनदहाड़े हत्‍या कर दी गई थी. आरोपी तौसीफ (Tausif) ने अपने साथी रेहान के साथ मिलकर पहले निकिता का अपहरण करने की कोशिश की. जब वह अपहरण नहीं कर सका तो तौसीफ ने निकिता के सीने में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी. पूरी घटना पास में लगे CCTV में दर्ज हो गई. जिसके बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और लोग लगातार सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं.

 

 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »