Pages Navigation Menu

Breaking News

झारखंड: दूसरे चरण का मतदान,20 सीटों पर 62.40 फीसदी वोटिंग
रेप केस को 2 महीने में निपटाने की तैयारी में सरकार: रविशंकर प्रसाद  
उन्नाव रेप पीड़िता के परिजनों को 25 लाख और घर देगी योगी सरकार

ट्रेड वॉर का फायदा उठाने के लिए कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती

nirmilaनई दिल्ली लोकसभा में कॉर्पोरेट टैक्स कटौती पर चर्चा के दौरान अधीर रंजन चौधरी के बयान पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने न सिर्फ करारा जवाब दिया, बल्कि अर्थव्यवस्था पर सरकार के रुख का बचाव भी किया। उन्होंने कहा कि वह आलोचनाओं के डर से पीछे भागने वाली नहीं हैं और जिस कॉर्पोरेट टैक्स की कटौती के कदम पर हंगामा मचाया जा रहा है, वह ट्रेड वॉर का फायदा उठाने और नए निवेश को आकर्षित करने के लिया उठाया गया था।

 ‘कांग्रेस को किसानों की बात करने का हक नहीं’

कांग्रेस पर हमला करते हुए वित्त मंत्री ने कहा, ‘कांग्रेस आज किसानों के लिए बड़ी-बड़ी बातें कर रही है, लेकिन वह तब कहां थी, जब वह बाली में डब्लयूटीओ के समझौते पर हस्ताक्षर कर आई थी। अगर प्रधानमंत्री मोदी पीस क्लॉज नहीं लाए होते तो किसानों को न तो आज एमएसपी मिल पाता और न ही जनवितरण प्रणाली के तहत अनाज और अन्य वस्तुओं वितरण हो पाता।’

‘सबकी सुनती है मोदी सरकार’
वित्त मंत्री ने अर्थव्यवस्था से जुड़े सांसदों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार हर सवाल और आलोचनाओं को सुनती है। उन्होंने कहा कि जब भी सदन में पीएम, वित्त मंत्री या रक्षा मंत्री से सवाल पूछा गया उन्होंने सदन में उपस्थित होकर जवाब दिया।

GDP पर भी दिया बयान
वित्त मंत्री ने अधीर रंजन चौधरी के बयान की ओर इशारा करते हुए कहा कि हम आलोचनाओं से पीछे भागने वाले नहीं हैं। उन्होंने दूसरी तिमाही में जीडीपी के 4.5 फीसदी के निचले स्तर पर जाने को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा, ‘ऐसा पहली बार नहीं है कि जीडीपी विकास दर का आंकड़ा 4.5 फीसदी आया है। पहले की सरकारों में भी जीडीपी की दरें कम हुई हैं।’

टैक्स कट के टाइम पर बोलीं एफएम
वित्त मंत्री ने कहा कि गलोबल सिचुएश का फायदा उठाने, मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों को देश में बुलाने और ताजा निवेश आकर्षित करने के लिए ही इस वक्त कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती का कदम उठाया गया।

‘प्रत्यक्ष कर संग्रह में लगातार बढ़ोतरी’
प्रत्यक्ष कर संग्रह से जुड़े सुप्रिया सुले के सवाल के जवाब में वित्त मंत्री ने कहा, ‘आपको पता होना चाहिए कि इसमें कमी नहीं आई, बल्कि बढ़ोतरी हुई है और लगातार बढ़ोतरी हो रही है।’

कॉर्पोरेट टैक्स कटौती से सबको फायदा
वित्त मंत्री ने कहा कि कार्पोरेट टैक्स कम करने में सिर्फ अमीरों को फायदा नहीं मिलता, बल्कि छोटे कारोबार से बड़े तक सभी को मिलता है। उन्होंने कहा कि कार्पोरेट टैक्स का फायदा सूट-बूट वाले लोगों को मिलने की जो बात करते हैं, वह यहां नहीं चलता है। उज्ज्वला योजना, आयुष्मान योजना और पीएम किसान सम्मान निधि में जिन लोगों को लाभ मिल रहा है, वे लोग हमारे भाई हैं क्या?

हमने हर बार जवाब दिया
निर्मला सीतारमण ने कहा कि मुझे संसद में कई नामों से बुलाया गया। अगर किसी के डीएनए में सवाल पूछना और जवाब दिए जाने से पहले भाग जाना है तो यह किसी और पार्टी का है न कि हमारी पार्टी का। हमने हर बार आकर जवाब दिया है।

‘कांग्रेस ने बीएसएनएल को डुबोया’
सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (पीएसयू) की बिक्री के बारे में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस वाले पीएसयू की बदहाली की बात कर रहे हैं और घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं। यह वही कांग्रेस है, जिसने भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) को 4जी के लिए पैसों का आवंटन नहीं किया। यूपीए के सरकार द्वारा बीएसएनएल को दरकिनार किए जाने की वजह से इसकी हालत खराब हुई और अन्य कंपनियों की भी यही हालत हुई है।’ उन्होंने बीएसएनएल पर सरकार का रुख स्पष्ट करते हुए कहा कि एनडीए सरकार बीएसएनएल को बचाने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

‘राजकोषीय घाटा पिछले स्तर पर बरकरार रखा’
वित्त मंत्री में राजकोषीय घाटे पर एक सवाल का जवाब देते हुए कहा, ‘यूपीए की सरकार में राजकोषीय घाटा औसतन 5.5 रहा है और हमारी सरकार में यह औसतन 5.6 फीसदी रहा है। हमने राजकोषीय घाटे का जो पहला स्तर है, उसे बरकरार रखने का प्रयास किया है।’

‘मैंने तो लोगों से आइडियाजा मांगा’
वित्त मंत्री ने कहा, ‘मुझे सबसे बुरा वित्त मंत्री बताया गया। लोग तो मेरा कार्यकाल पूरे होने तक का इंतजार भी नहीं कर रहे हैं। मैंने उनसे कहा कि कृपया, हमें आइडियाज दीजिए।’

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *