Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

टोक्यो ओलंपिक का आगाज, मैरीकॉम और मनप्रीत ने किया भारतीय दल का नेतृत्व

oly indiaकोरोना महामारी के बीच टोक्यो ओलंपिक की शुरुआत 23 जुलाई यानी आज से हो चुकी है। 32वें ओलंपिक खेलों की ओपनिंग सेरेमनी में भारतीय दल का नेतृत्व छठी बार की वर्ल्ड चैंपियन मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम और पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह ने किया है। बता दें कि टोक्यो ओलंपिक 2021 की ओपनिंग सेरेमनी शुरू हो गई है। इस सेरेमनी में कोरोना वायरस के चलते भारत के 22 एथलीट शामिल हुए हैं। उनके साथ 6 अधिकारी भी सेरेमनी में शामिल हुए हैं। मार्च पास्ट में भारत 21वें स्थान पर आया. मेजबान जापान ने सबसे आखिरी में परेड की. आईओसी अध्यक्ष थॉमक बाख ने अपने भाषण में जापान का मुश्किल समय में आयोजन के लिए शुक्रिया अदा किया और दूसरी बार खेलों में हिस्सा ले रही रिफ्यूजी टीम का स्वागत किया.

जापान के सम्राट नारूहितो अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के प्रमुख थामस बाक के साथ स्टेडियम में पहुंचे। टोक्यो 2020 के प्रतीक को प्रदर्शित करने के लिये 20 सेकेंड तक नीली और सफेद रंग की आतिशबाजी गई गई, जिसे जापानी संस्कृति में शुभ माना जाता है। पीएम मोदी ने दी भारत को शुभकामानएं भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को टोक्यो ओलिंपिक खेलों की ओपनिंग सेरेमनी का सीधा प्रसारण देखा और जब भारतीय दल की बारी आई तो खड़े होकर तालियां बजाईं. साथ ही भारतीय दल को शानदार प्रदर्शन के लिए शुभकामनाएं दीं. ओलंपिक खेलों का आगाज आज से जापान की राजधानी टोक्यो में आज से ओलंपिक खेलों का आगाज हो गया है। कोरोना वायरस महामारी की वजह से ओलंपिक खेलों को एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया था, लेकिन एक साल बाद देरी से ही कोविड 19 महामारी में ओलंपिक खेल खेले जा रहे हैं।

986791-tokyo-2020महामारी की वजह से ओलंपिक खेलों में कई बड़े बदलाव नजर आएंगे। खिलाड़ियों को कोरोना वायरस के खतरे से बचाने के लिए बेहद सख्त बायो बबल बनाए गया है। इतना ही नहीं टोक्यो ओलंपिक मैदान पर बिना दर्शकों के ही खेले जा रहे हैं। महामारी ने हालांकि खिलाड़ियों की मुश्किलों को काफी बढ़ा दिया है। कोरोना महामारी की वजह से खिलाड़ियों को हर दिन कोविड-19 टेस्ट से गुजरना होगा। बिना कोविड 19 टेस्ट रिपोर्ट से किसी भी खिलाड़ी को मैदान पर एंट्री नहीं मिलेगी। इतना ही नहीं अगर कोई खिलाड़ी फाइनल में पहुंच गया है और उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है तो उसे मेडल की रेस से पीछे हटना पड़ेगा। कोविड के कारण एक साल की देरी से हो रहे हैं खेल वैसे तो इन खेलों का आयोजन 2020 में किया जाना था लेकिन कोविड के कारण इन खेलों को एक साल के लिए टाल दिया गया था. अब यह खेल 2021 में खेले जा रहे हैं. कोविड के कारण तमाम मुश्किलों के बाद भी जापान इन खेलों के आयोजन को लेकर प्रतिबद्ध था और उसने इन खेलों की मेजबानी करने की ठान ली थी. स्टेडियम में लाया गया ओलिंपिक झंडा स्टेडियम में छह खिलाड़ियों द्वारा ओलिंपिक झंडा लाया गया है. इन छह खिलाड़ियों में जापान के मोमोता केंटो, ऑस्ट्रेलिया से एलेना गालियावोविच, रिफ्यूजी टीम से सायरिले टचाटेचेट, अमेरिका से पाउलो पारेटो, अफ्रीका से मेहेदी इसादिक और इटली के पाउलो ओगेची इगोनी ने शामिल थे. गाया गया ओलिंपिक एंथम खेलों की आधिकारिक शुरुआत के बाद ओलिंपिक खेलों का एंथम गया है और फिर ओलिंपिक का झंडा ऊंचा किया गया. इस दौरान पूरा स्टेडियम नीले रंग में रंगा नजर आया और खिलाड़ियों के चेहरे पर मुस्कान नजर आई. इसके बाद एक बार फिर टीवी क्रू को लेकर एक छोटा सा डांस प्रस्तुत किया गया. जापान के एम्परर ने किया आधिकारिक ऐलान जापान के एम्परर नारूहितो ने 32वें ओलिंपिक खेलों का आधिकारिक ऐलान कर दिया है और अब अगले 16 दिन तक जापान में खेलों का मेला सजेगा. जहां हर खिलाड़ी अपने जीवन के सबसे बड़े सपने में से एक को सच करन के लिए जान लगा देगा. इस दौरान पूरी दुनिया की नजरें जापान पर होंगी.

आईओसी अध्यक्ष ने जापान का कहा- शुक्रिया आईओसी अध्यक्ष थॉमक बाख ने जापान का खेलों के आयोजन के लिए कहा शुक्रिया. उन्होंने कहा, “टोक्यो ओलिंपिक खेलों में आपका स्वागत है, आज उम्मीद का दिन है. हां ये मुश्किल है. लेकिन हमें इसका लुत्फ लेना चाहिए क्योंकि हम आखिरकार यहां आ गए हैं. कई टीमें एक छत के लिए नीचे आई हैं. यह खेल की ताकत है. इससे हमें उम्मीद मिलती है. हम यहां जापान के कारण हैं. हम उन्हें धन्यवाद देना चाहते हैं और उनका सम्मान करते हैं. जापान की आयोजन समिति ने शानदार काम किया है. मैं उन सभी को धन्यवाद देता हूं. 10 साल पहले आपने टोक्यो में ओलिंपिक लाने का सपना देखा था जो सच हुआ. कोविड ने काफी कुछ बिगाड़ा लेकिन हम आपको शुक्रगुजार हैं.” चीन की एंट्री ओलिंपिक में हमेशा धूम मचाने वाला देश चीन ने भी इस मार्च पास्ट में एंट्री मारी. एशिया का पावरहाउस कहा जाने वाला यह देश 406 खिलाड़ियों के दल के साथ टोक्यो आया है और इस देश के कई खिलाड़ी ओलिंपिक में पदक के दावेदार हैं. देखना होगा इस बार यह देश कितने पदक अपने नाम करता है, किर्गिस्तान को हो सकती हैं मुश्किलें ओपनिंग सेरेमनी में किर्गिस्तान ने भी हिस्सा लिया लेकिन उसके खिलाड़ी बाकी टीमों से अलग नजर आए क्योंकि उनके चेहर पर मास्क नहीं था.

ओपनिंग सेरेमनी में मास्क होना अनिवार्य है. यह टोक्यो ओलिंपिक-2020 की प्लेबुक के नियमों में शामिल है. रिफ्यूजी टीम ने भी किया मार्च पास्ट रिफ्यूजी टीम भी इन खेलों में हिस्सा ले रही है. यह दूसरी बार है जब ओलिंपिक खेलों में रिफ्यूजी टीम को हिस्सा लेने का मौका मिला है जिसमें अलग-अलग देश के खिलाड़ी होंगे. ओलिंपिक का झंड़ा लेकर इस टीम ने मार्च पास्ट किया. इससे पहले रियो ओलिंपिक-2016 में रिफ्यूजी टीम ने खेलों के महाकुंभ में हिस्सा लिया था. इन देशों ने भी किया मार्च पास्ट भारत के बाद इंडोनेशिया, युगाण्डा, यूक्रेन, उरुग्वे, ग्रेट ब्रिटेन, मिस्र, कनाडा, कतर, कजाकिस्तान, गयाना,ओमान, ऑस्ट्रेलिया, कैमरून, गैम्बिया, कम्बोडिया, गिनी, सायपरस, क्यूबा के दलों ने भी मार्चपास्ट किया. अंगोला के खिलाड़ियो की पोशाक तमाम देशों के साथ अंगोला ने भी मार्च पास्ट में हिस्सा लिया. लेकिन इस देश के खिलाड़ियों ने अपनी पोशाक से सभी का ध्यान खींचा. अंगोला की ध्वजवाहक पारंपरिक पोशाक में नजर आईं. खास ओलिंपिक रिंग्स ओपनिंग सेरेमनी में ओलिंपिक रिंग लाई गईं जो लकड़ी की बनी हैं. इन रिंग की खास बात यह है कि यह उन पेड़ों की लकड़ियों से बनी हैं जिनके बीज टोक्यो ओलिंपिक-1964 में बोए गए थे. हर रिंग का डायामीटर चार मीटर का है. शानदार डांस लाल रिबन से बंधे हुए डांसर्स ने एक शानदार डांस परफॉर्मेंस दिया जिसमें सभी डांसर एक दूसरे के जुड़े हुए नजर आ रहे थे. इसके बाद सबसे पहले जापान के ओलिंपिक दल ने मार्च पास्ट किया.

 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »