Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

पीएफ घोटाला – अखिलेश यादव फंस गए हैं; ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा

power-minister-shrikant-sharma-48_5समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव द्वारा भाजपा सरकार पर लगाए गए आरोपों पर ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा है कि अखिलेश यादव के आरोप तथ्यों से परे हैं। अखिलेश आकड़ों को छुपा रहे हैं। वह फंस गए हैं, उन्होंने गलत नंबर डायल किया है।कर्मचारियों के पीएफ पर डाका डालने वालों पर कार्रवाई होगी। घोटाले में फंसे सभी कर्मचारियों के पीएफ को लूटने वाले पूर्व व वर्तमान अधिकारियों की संपत्ति होगी।श्रीकांत शर्मा ने कहा कि अखिलेश सरकार में ही 21 अप्रैल 2014 को फैसला हुआ था। उन्होंने सिर्फ सियासत के लिए की प्रेस कांफ्रेंस की है। 17 मार्च 2017 को डीएचएफएल में पहला निवेश कर्मचारियों के पीएफ का पैसा कहां जमा होगा ये ट्रस्ट तय करता है। ऊर्जा मंत्री कीइस ट्रस्ट में कोई भूमिका नहीं होती। हमारे संज्ञान में आते ही इस मामले में शुरू हुई कार्रवाई गई और सबसे पहले विजिलेंस जांच कराकर प्रथम दृष्टया दोषियों को जेल भेजा गया। उन्होंने कहा कि इस मामले में उनकी ओर से ही सीबीआई जांच कराने की संस्तुति की गई। घोटाले की पटकथा लिखने वाले पूर्व और मौजूदा लोगों पर होगी कार्रवाई की गई। हर घर गरीब के घर बिजली पहुंचने से अखिलेश बौखला गए हैं। हमने अपने विभाग में मिली हर अनियमितता की जांच करवाई है। अखिलेश यादव और कांग्रेस को जवाब देना है। अखिलेश उल्टा चोर कोतवाल को डांटे की कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं। उनके सभी आरोप राजनीति से प्रेरित हैं।

पीएफ घोटाला: सीएम योगी ने ट्वीट कर अखिलेश से पूछा, ये रिश्ता क्या कहलाता है?

AKHILESH-yogi-1-1499274997_835x547ईओडब्ल्यू द्वारा पावर कारपोरेशन घोटाले में मंगलवार की सुबह पूर्व एमडी एपी मिश्रा को हिरासत में लिये जाने के बाद से ही मुख्यमंत्री के ट्विटर हैंडिल और समाजवादी पार्टी के समर्थकों की ओर से एक दूसरे पर सियासी तीर चलाए जाने लगे। मुख्यमंत्री की ओर से ट्वीट कर कहा गया भ्रष्टाचार के रक्तबीज पर सीएम योगी आदित्‍यनाथ की ‘जीरो टॉलरेन्स तलवार’ के वार से भ्रष्टाचारी त्राहिमाम कर रहे हैं। यूपीपीसीएल के पूर्व एमडी जो अखिलेश यादव के नयन तारे थे, इन्हें तीन बार सेवा विस्तार मिला था हिरासत में लिए गए हैं। ट्विट के अंत में तंज करते हुए पूछा गया…तो भाई अखिलेश बाबू, ये रिश्ता क्या कहलाता है?दरअसल, अखिलेश यादव की ओर से दो दिन पहले ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा की ओर से ट्विट कर 20 करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाया गया था। साथ ही पूछा गया था कि शर्मा जी बताएं ये रिश्ता क्या कहलाता है? इसी का मंगलवार को जवाब दिया गया।

एपी मिश्र अफसरों के कई सवालों का जवाब ही नहीं दे पाए

ईओडब्ल्यू के अफसरों के सामने भले ही पूर्व एमडी एपी मिश्र खुद को लगातार निर्दोष बताते रहे लेकिन पड़ताल में जुटी टीम ने जब एक-एक कर कई सवाल किए तो उनसे जवाब देते नहीं बना। छह घंटे की लगातार पूछताछ में एपी मिश्र अफसरों के कई सवालों का जवाब ही नहीं दे पाए। यहां तक ही गिरफ्तार दोनों आरोपियों से जो तथ्य सामने आये थे उनके बारे में पूछने पर पूर्व एमडी चुप्पी ही साधे रहे।

इतना उतावलापन क्यों दिखाया पूर्व एमडी ने
ईओडब्ल्यू ने पूछताछ के दौरान कई तथ्य पहले से जुटा रखे थे। पूर्व एमडी से अफसरों ने पूछा कि 15 मार्च, 2017 को डीएचएफएल ने अपना कोटेशन दिया था। फिर 16 मार्च को दो और कंपनियों से भी कोटेशन लिया गया? ईओडब्ल्यू के अधिकारियों का दावा है कि छानबीन में तथ्य हाथ लगे हैं कि फिर अचानक ही 16 मार्च की शाम तक डीएचएफएल में पीएफ का रुपया जमा करने के लिए सहमति दे दी गई थी। यही नहीं 17 मार्च को ही डीएचएफएल के खाते में 18 करोड़ रुपये आरटीजीएस (जमा) भी करा दिए गए। आखिर इतनी जल्दी क्यों दिखाई गई? इस पर एपी मिश्र संतोषजनक जवाब नहीं दे सके।

इस्तीफे के बाद भी मीटिंग में मौजूद रहे
अफसरों ने यह भी पूछा कि जब आपने 16 मार्च 2017 को इस्तीफा दे दिया था और उसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। फिर भी 22 मार्च की बोर्ड की मीटिंग में आप शामिल हुए। यहीं नहीं 23 मार्च को इस्तीफा स्वीकार हो गया। इसके बाद आपने मीटिंग की तारीख में हेरफेर कर दस्तोवजों में 24 मार्च दिखाया, फिर उसे काट कर 22 मार्च किया गया। इसकी वजह क्या थी? इस पर एपी मिश्र मौन ही रहे।

दो अफसरों ने मना भी किया था 
ईओडब्ल्यू की पड़ताल में यह भी सामने आया है कि जिस समय पीएफ घोटाले की रकम डीएचएफएल में जमा की जा रही थी, उस समय विभाग के दो अधिकारियों ने ऐसा करने से मना भी किया था। पर, तब पूर्व एमडी ने जवाब दिया था कि ऐसा ही ऊपर से करने का आदेश है। इन अफसरों को तब डांट भी पड़ी थी। ईओडब्ल्यू ने बताया कि इन दोनों अफसरों के बयान इस केस में अहम भूमिका निभाएंगे।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *