Pages Navigation Menu

Breaking News

 आत्मनिर्भर भारत के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की तारीख 30 नवंबर तक बढ़ी

कोरोना के साथ आर्थिक लड़ाई भी जीतनी है ; नितिन गडकरी

भड़कीं ममता; नुकसान 1 लाख करोड़ का, मिले 1 हजार करोड़

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अम्फान तूफान से तबाह हुए पश्चिम बंगाल के कई जिलों का हवाई दौरा किया. इसके बाद उन्होंने एक हजार करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया. पीएम मोदी के इस ऐलान पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बिफर पड़ी हैं. उनका कहना है कि नुकसान एक लाख करोड़ का हुआ और पैकेज सिर्फ एक हजार करोड़ का दिया जा रहा है.पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने एक हजार करोड़ के राहत पैकेज का ऐलान किया है, लेकिन इससे जुड़ी कोई जानकारी नहीं दी है. यह पैसा कब मिलेगा या यह अग्रिम धनराशि है. अम्फान तूफान के कारण एक लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ. 56 हजार करोड़ रुपया तो हमारा ही केंद्र पर बकाया है.पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अपील को स्वीकार करते हुए शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल पहुंचे. सुबह 11:00 बजे वह दमदम हवाई अड्डे पर उतरे, जहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने उनका स्वागत किया. पीएम के साथ केंद्रीय पर्यावरण राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो, महिला और बाल विकास राज्यमंत्री देवश्री चौधरी, धर्मेंद्र प्रधान और प्रताप सारंगी भी हैं. हवाई अड्डे पर एक दूसरे से मुलाकात के बाद दो हेलीकॉप्टर से ये सभी हवाई सर्वेक्षण करने के लिए निकले. पढ़िए अजय कुमार की रिपोर्ट.

mamta pm

मोदी ने क्या कहा था

हवाई सर्वेक्षण के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था, ‘अम्फान चक्रवात से निपटने के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने मिलकर भरसक प्रयास किया, लेकिन उसके बावजूद करीब 80 लोगों का जीवन नहीं बचा पाएं, इसका हम सभी को दुख है और जिन परिवारों ने अपना स्वजन खोया है उनके प्रति केंद्र और राज्य सरकार की संवेदनाएं हैं.’आगे पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘लोगों को हर संभव मदद प्रदान करने के लिए केंद्र और राज्य मिलकर काम कर रहे हैं. अभी तत्काल राज्य सरकार को कठिनाई न हो इसके लिए 1000 करोड़ रुपये भारत सरकार की तरफ से व्यवस्था की जाएगी. साथ ही प्रधानमंत्री राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये की सहायता दी जाएगी.’

बंगाल में भारी तबाही, 80 लोगों की मौत

48 घंटे से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी इन क्षेत्रों में अभी भी पानी जमा हुआ है. सड़कों पर टूटे पड़े पेड़, बिजली के खंभे, तार आदि जस के तस बिखरे पड़े हैं. संचार व्यवस्था ठप हो जाने की वजह से यहां बिजली आपूर्ति भी नहीं हो पा रही. बिजली का कनेक्शन नहीं होने के कारण पानी आदि की आपूर्ति भी संभव नहीं हो पा रही है. इसलिए लोग काफी परेशानी में हैं. एनडीआरएफ की 23 टीम और राज्य प्रशासन की टीम मिलकर लोगों के लिए राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई है. दोपहर के करीब हवाई सर्वेक्षण के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हेलीकॉप्टर बसीरहाट कॉलेज मैदान में उतरा है. अब सीएम के साथ उनकी बैठक होगी, जिसमें नुकसान का आंकलन किया जायेगा. तूफान से बंगाल में 80 लोगों की मौत हो चुकी है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *