Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

मोदी से माफी मांगें मणिशंकर अय्यर; राहुल गांधी

aiyar-rahul-modiकांग्रेस ने मणिशंकर अय्यर के पीएम मोदी के लिए ‘नीच’ वाली टिप्पणी से खुद को अलग कर लिया है। पार्टी के अध्यक्ष बनने जा रहे राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा कि मणिशंकर अय्यर को पीएम मोदी से माफी मांगनी चाहिए। राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा, ‘बीजेपी और पीएम कांग्रेस पर हमला करने के लिए लगातार खराब भाषा का इस्तेमाल करते हैं। कांग्रेस की अलग संस्कृति और विरासत है। मैं मणिशंकर द्वारा मोदी के लिए इस्तेमाल भाषा और लहजे की निंदा करता हूं। कांग्रेस और मुझे दोनों को ही लगता है कि उन्हें अपने बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए।’

मणिशंकर अय्यर द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी को नीच इंसान बताए जाने के बाद राजनीतिक बखेड़ा खड़ा हो गया है। जहां पीएम नरेंद्र मोदी ने एक चुनावी जनसभा में अय्यर पर कड़ा हमला किया, वहीं दोनों ही पार्टियों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके एक दूसरे पर हमला बोला। जहां बीजेपी ने कांग्रेस की मानसिकता पर सवाल उठाते हुए अय्यर को दरबारी करार दिया, वहीं कांग्रेस ने बीजेपी को दलित विरोधी करार दिया। अय्यर के बयान पर बीजेपी की ओर से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा, ‘मणि शंकर अय्यर ने हमारे पीएम को नीच कहा है, लेकिन हमें अपने पीएम पर गर्व है।’ प्रसाद के मुताबिक, पीएम ने बेहद शालीनता ने अय्यर की टिप्पणी का जवाब दिया है। केंद्रीय मंत्री ने अय्यर को राजीव गांधी का अंतरंग मित्र बताते हुए उन्हें ‘दरबारी मानसिकता’ का करार दिया।

वहीं, कांग्रेस की ओर से हमला बोलने की जिम्मेदारी रणदीप सुरजेवाला ने उठाई। उन्होंने कहा कि बीजेपी दलितों के लिए घड़ियाली आंसू बहा रही है। सुरजेवाला के मुताबिक, मोदी जिस आरएसएस के प्रचार प्रमुख रहे हैं, उस संगठन के मनमोहन वैद्य ने आरक्षण को खत्म करने की वकालत की थी। वहीं, वर्तमान संघ प्रमुख मोहन भागवत ने आरक्षण पर दोबारा से विचार करने का सुझाव दिया था। सुरजेवाला ने पूछा कि मोदी ने दोनों के बयान का खंडन या निंदा क्यों नहीं किया? वहीं, कांग्रेस के टि्वटर हैंडल से ट्वीट किया गया, ‘जब से मोदी जी सत्ता में आये हैं तब से हर 8 मिनट में हमारे देश में दलित पर अत्याचार हो रहा है, दलितों के बच्चों को सरकारी नौकरी की संख्या में मोदी जी ने कई सौ गुना कम कर दिया है।  बाबा साहब का नाम लेकर वोट लेने तो जायेंगे लेकिन दलितों का शोषण जो भाजपा सरकार करती है, उसका जवाब मोदी जी कभी नहीं देंगे।’

 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *