Pages Navigation Menu

Breaking News

सीबीआई कोर्ट ;बाबरी विध्वंस पूर्व नियोजित घटना नहीं थी सभी 32 आरोपी बरी

कृष्ण जन्मभूमि विवाद- ईदगाह हटाने की याचिका खारिज

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

चीन के राष्ट्रपति ने सेना को दिए युद्ध की तैयारी के निर्देश

China-soldiersपेइचिंग अमेरिका और भारत समेत कई देशों से तनाव के बीच चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अपनी सेना को युद्ध की तैयारी करने के निर्देश दिए हैं। उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी तीनों सेना प्रमुखों के साथ सीमा पर बढ़ते तनाव पर बैठक की। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, सीडीएस जनरल बिपिन रावत और तीनों सेना के प्रमुख मौजूद रहे।

युद्ध के लिए तैयार रहे चीनी सेना
मंगलवार को सेंट्रल मिलिट्री कमीशन की बैठक में चिनफिंग ने कहा कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के सैनिकों के प्रशिक्षण को व्यापक रूप से बढ़ाया जाए और सेना को युद्ध के लिए तैयार किया जाए। बता दें कि कोरोना वायरस महामारी के कारण चीन का अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के साथ भी तनाव चरम पर है।
सबसे खराब स्थिति की कल्पना कर तैयारी करें
शी ने सेना को आदेश दिया कि वह सबसे खराब स्थिति की कल्पना करे, उसके बारे में सोचे और युद्ध के लिए अपनी तैयारियों और प्रशिक्षण को बढ़ाए, तमाम जटिल परिस्थितियों से तुरंत और प्रभावी तरीके से निपटे। साथ ही पूरी दृढ़ता के साथ राष्ट्रीय सम्प्रभुता, सुरक्षा और विकास संबंधी हितों की रक्षा करे।

अमेरिका और ताइवान के साथ तनाव का किया जिक्र
चीन के राष्ट्रपति ने अपने भाषण में अमेरिका के साथ बढ़ते तनाव का जिक्र किया। इसके अलावा उन्होंने ताइवान के नेताओं के साथ बातचीत और डिप्लोमेसी को बढ़ाने की भी बात की। उन्होंने यह भी कहा कि जरूरत पड़ने पर ताइवान के खिलाफ बल प्रयोग भी किया जाएगा। हांगकांग को लेकर चिनफिंग ने कहा कि नए कानून से लोकतंत्र समर्थक आंदोलनकारियों पर नकेल कसी जाएगी।
ट्रेनिंग पर भी जोर
नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के वार्षिक सत्र के मौके पर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी और पीपुल्स आर्म्ड पुलिस फोर्स के प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक में चिनफिंग ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ने में चीन के प्रदर्शन ने सैन्य सुधारों की आवश्यक्ता को दिखाया है। देश के सशस्त्र बलों को महामारी के बावजूद प्रशिक्षण के नए तरीकों का पता लगाना चाहिए।
पीएम मोदी ने भी की अहम बैठक
पूर्वी लद्दाख में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच बढ़ते तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुखों के साथ अहम बैठक की। बैठक के दौरान सीमा के ताजा हालात और भारत की सैन्य तैयारियों पर महत्वपूर्ण चर्चा की गई।

लद्दाख के नजदीक चीन ने तैनात किए फाइटर जेट
भारत से लगती सीमा पर सैन्य झड़पों के बाद चीन ने न केवल अपने सैनिकों को बड़ी संख्या में सीमा के पास तैनात कर दिया है बल्कि ऊचाईं वाले इलाके में उड़ान भरने के अनुकूल लड़ाकू विमान जे-11 और जे 16एस को भी ऑपरेट करना शुरू कर दिया है। इन तस्वीरों को ओपन सोर्स इंटेलिजेंस एनॉलिस्ट Detresfa ने जारी किया है।

कितने खतरनाक हैं ये फाइटर जेट
चीन का शेययांग जे 11 रूस की सुखोई एसयू 27 का चीनी वर्जन है। यह फाइटर प्लेन एयर सुपीरियर होने के साथ दूर तक हमला करने में सक्षम है। इसमें दो इंजन लगे होते हैं जिससे जेट को ज्यादा पॉवर मिलती है। चीन में निर्मित इस विमान को केवल चीनी एयर फोर्स ही ऑपरेट करती है। यह जेट 33000 किलोग्राम तक के वजन के साथ उड़ान भर सकता है। यह विमान एक बार में 1500 किलोमीटर की दूरी तक मार कर सकता है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *