Pages Navigation Menu

Breaking News

लव जेहाद: उत्तर प्रदेश में 10 साल की सजा का प्रावधान

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

जम्‍मू-कश्‍मीर में 25 हजार करोड़ का भूमि घोटाला

अगला कांग्रेस अध्यक्ष गांधी परिवार से बाहर का हो: प्रियंका गांधी

Rahul-Robert-Priyanka-Soniaनई दिल्ली प्रियंका गांधी वाड्रा ने पार्टी की कमान किसी गैर गांधी शख्स को सौंपे जाने की वकालत की है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने अपने बड़े भाई और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की उस बात का समर्थन किया है जिसमें उन्होंने कहा था कि गांधी परिवार के बाहर के व्यक्ति को कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त किया जाना चाहिए। प्रियंका ने कहा कि शायद (इस्तीफा) पत्र में तो नहीं लेकिन कहीं और उन्होंने कहा कि हममें से कोई भी पार्टी का अध्यक्ष नहीं होना चाहिए और मैं उनके साथ पूर्ण सहमत हूं। मुझे लगता है कि पार्टी को अपना रास्ता भी खोजना चाहिए।यह दावा एक नई किताब ‘इंडिया टुमॉरो’ में किया गया है। इसके लेखक प्रदीप चिब्बर और हर्ष शाह हैं और इसे 13 अगस्त को प्रकाशित किया गया था। किताब में आगे प्रियंका गांधी ने कहा है कि एक पार्टी अध्यक्ष भले ही गांधी परिवार से नहीं हो, वह उनका ‘बॉस’ होगा। वाड्रा ने कहा कि अगर वह (पार्टी अध्यक्ष) कल मुझे कहते हैं कि मुझे तुम्हारी जरूरत उत्तर प्रदेश में नहीं, बल्कि अंडमान व निकोबार में है, तो मैं खुशी से अंडमान और निकोबार चली जाऊंगी।

अध्यक्ष पद के लिए चुनाव कराने की मांग
2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। साथ ही पार्टी की अंदरूनी बैठक में कथित रूप से जोर देकर कहा था कि अगला अध्यक्ष किसी गैर-गांधी शख्स को बनाया जाए। हालांकि सोनिया गांधी को पिछले साल अगस्त में पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनाया गया था। बता दें कि पिछले कुछ महीनों से पार्टी अध्यक्ष पद के लिए चुनाव कराने की मांग कांग्रेस के भीतर बढ़ी है।

पति पर भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद प्रियंका ने किया था यह काम
किताब में प्रियंका गांधी ने यह भी कहा कि 2013 में जब बीजेपी ने उनके पति रॉबर्ट वाड्रा पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने शुरू किए तो उन्होंने अपना हर लेन-देन बेटे रेहान को दिखाया था। उस समय वह 13 साल का था। किताब में प्रियंका को यह कहते हुए बताया गया है कि जब उनके पति पर सारे आरोप लगाए गए तो सबसे पहले उन्होंने ये किया कि अपने बेटे के पास गई और एक-एक लेन-देन उसे दिखाया। प्रियंका गांधी ने कहा है कि प्रवर्तन निदेशालय में उनके पति से होने वाली पूछताछ और इस मामले में तमाम टीवी बहसों से उनके बच्चों पर असर पड़ने लगा था।

रणदीप सुरजेवाला बोले- प्रियंका की टिप्पणी एक साल पुरानी, हम खेल को समझते हैं

कांग्रेस में पूर्णकालिक अध्यक्ष को लेकर प्रियंका गांधी वाड्रा का एक बयान चर्चा में है जिसमें उन्होंने राहुल गांधी की तरह माना कि कांग्रेस का अगला अध्यक्ष गांधी परिवार से बाहर का हो. करीब एक साल पहले प्रियंका के कहे गए बयान के इस समय चर्चा में आने पर कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि एक साल पुरानी टिप्पणी के फिर से चर्चा में आने के खेल को समझते हैं.कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने एक के बाद एक 3 ट्वीट करके गांधी-नेहरू परिवार के त्याग और सेवा भावना की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि नेहरू-गांधी परिवार ने सत्ता के मोह से दूर, सदा सेवाभाव से कांग्रेस को एक सूत्र में बांधे रखा है. 2004 में सोनिया गांधी ने सत्ता की बजाय पार्टी की सेवा चुनी. 2019 में राहुल गांधी ने भी दृढ़ विश्वास की हिम्मत दिखाई और कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया.सुरजेवाला ने अपने अगले ट्वीट में कहा कि हम प्रियंका गांधी की एक वर्ष पुरानी टिप्पणी (1 जुलाई, 2019) में अचानक उपजी प्रायोजित मीडिया की रूचि (सत्तारूढ़ बीजेपी के इशारे पर) के खेल को समझते हैं. आज समय मोदी-शाह द्वारा भारतीय लोकतंत्र पर किए बर्बरतापूर्ण हमले का सामना करने और निडरता से इससे लोहा लेने का है.

उन्होंने अपने तीसरे ट्वीट में कहा कि लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता राहुल गांधी के अनथक संघर्ष और संकल्प के गवाह हैं, जिससे उन्होंने इस लड़ाई का नेतृत्व किया है. न विपरीत स्थिति की परवाह की और न ही मोदी सरकार के विभत्स हमलों की. यही वह निडरता और अदम्य साहस है जिसकी कांग्रेस को ही नहीं बल्कि देश को सबसे ज्यादा जरूरत है.

क्या कहा था प्रियंका गांधी ने

इससे पहले कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने एक साक्षात्कार में कहा था कि वह निकट भविष्य में पार्टी की बागडोर नहीं संभालने जा रही हैं और राहुल गांधी ही उनके नेता हैं.प्रियंका गांधी वाड्रा से पूछा गया था कि क्या वह पार्टी का नेतृत्व करेंगी. इस पर उन्होंने इनकार करते हुए कहा कि वह उत्तर प्रदेश में पार्टी को मजबूत करने पर फोकस करेंगी.उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई गैर गांधी परिवार का कांग्रेस अध्यक्ष बनता है तो उन्हें उसके साथ काम करने में कोई दिक्कत नहीं होगी. उनका परिवार राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने के फैसले और गांधी परिवार के अलावा किसी को अध्यक्ष बनाए जाने की सलाह का सम्मान करता है.हालांकि यह बातचीत लोकसभा चुनाव के बाद राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने का बाद की गई थी

 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *