Pages Navigation Menu

Breaking News

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

हरियाणा: 10 साल पुराने डीजल, पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध नहीं

सच बात—देश की बात

चन्नी मंत्रिमंडल ; पंजाब कैबिनेट विस्तार में सिद्धू खेमे का दबदबा

Punjab-Cabinet-15-MINISTERSचंडीगढ़, पंजाब में चरणजीत सिंह चन्नी मंत्रिमंडल (Punjab Cabinet Expansion) का विस्तार हो गया है. इस विस्तार में सिद्धू खेमे से लेकर कभी पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के करीबी रहे लोगों को भी जगह दी गई है. हालांकि, कुल मिलाकर इस विस्तार में सिद्धू खेमा ज्यादा प्रभावी दिख रहा है. पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धू ने ही कैप्टन के खिलाफ मोर्चा खोला था और उनके साथ देने वाले विधायकों को मंत्री पद से नवाजा गया है. आज के कैबिनेट विस्तार में कुल 15 मंत्रियों ने शपथ ली.

सिद्धू खेमे के मंत्री

सुखजिंदर रंधावा उपमुख्यमंत्री पंजाब बनाए गए हैं. नवजोत सिद्धू के साथ मिलकर कैप्टन के खिलाफ आवाज बुलंद करने वालों में सबसे आगे रहे. कैप्टन सरकार में जेल मंत्री रहे थे.

तृप्त राजिंदर बाजवा ने आज मंत्री पद की शपथ ली. कैप्टन के खिलाफ हाईकमान तक पहुंच करने वालों में अग्रणी रहे. इन्हीं की अगुवाई में 40 विधायकों द्वारा लिखी गई चिट्ठी हाईकमान तक पहुंचाई गई थी उसी के बाद कैप्टन को हटाने का फैसला लिया गया सिद्धू गुट के एक्टिव सदस्य होने के कारण दोबारा कैबिनेट में जगह.

अरुणा चौधरी ने मंत्री पद की शपथ ली. पूर्व समाज कल्याण मंत्री अरुणा चौधरी दलित वर्ग से संबंध रखती हैं. उनकी पूर्व सेवाओं को देखते हुए कैबिनेट में बनाए रखा गया है. नवजोत सिंह सिद्धू गुट के साथ.

सुख सरकारिया ने मंत्री पद की शपथ ली है. उन्होंने पूर्व पीसीएस सुरेश कुमार के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोला. कैप्टन कह चुके हैं कि जो 30 साल दोस्त रहा वो आज मेरा विरोधी हो गया.

रजिया सुल्ताना ने मंत्री पद की शपथ ली है. मलेरकोटला से विधायक हैं और पूर्व डीजीपी मोहम्मद मुस्तफा की पत्नी हैं. मुस्तफा इन दिनों कैप्टन के खिलाफ और सिद्धू खेमे के साथ हैं. नवजोत सिंह सिद्धू के पर्सनल सलाहकार भी है कैबिनेट में बरकरार रखा.

परगट सिंह ने मंत्री पद की शपथ ली है. भारतीय हॉकी टीम के कप्तान रह चुके हैं और कैप्टन के खिलाफ नवजोत सिद्धू का साथ देने में आगे रहे हैं. बरगाड़ी, बेरोजगारी और माफिया पर सवाल उठाए. अकाली दल छोड़कर कांग्रेस पर आए थे. जालंधर कैंट से विधायक हैं.

अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने मंत्री पद की शपथ ली. ऑल इंडिया यूथ कांग्रेस के प्रधान रहे हैं. युवा चेहरा है और राहुल गांधी के नजदीक मान जाते हैं और बादल परिवार को घेरते रहे हैं. यह भी नवजोत सिंह सिद्धू के गुट के है.

गुरकीरत कोटली ने मंत्री पद की शपथ ली सीएम चरणजीत चन्नी के नजदीकी हैं. 1992 में कांग्रेस की सरकार बनाने वाले पूर्व सीएम बेअंत सिंह के पोते हैं.

कैप्टन के करीबियों को भी मौका

विजय इंद्र सिंगला ने भी मंत्री पद की शपथ ली है. कैप्टन सरकार में शिक्षा मंत्री थे और राहुल की टीम के सक्रिय मेंबर माने जाते हैं. व्यापारी वर्ग से संबंध रखते हैं. सभी वर्गों में सांमजस्य के लिए कैबिनेट में जगह बरकरार रही. कैप्टन अमरिंदर सिंह के गुट के थे.

ओपी सोनी उपमुख्यमंत्री पंजाब अमृतसर सेंट्रल से लगातार दूसरी बार विधायक, कैप्टन के करीबी और हिंदू चेहरा भी है. उपमुख्यमंत्री बनाकर अमरिंदर सिंह को साधने का काम किया है.

राजकुमार वेरका ने पंजाब कैबिनेट मंत्री की शपथ ली है. दलित वर्ग से सीनियर नेता को मंत्री बनाने की मांग कई बार उठी. लंबे समय से पार्टी में सक्रिय हैं. हालांकि कैप्टन गुट के हैं.

तटस्थों को भी मौका

ब्रह्म मोहिंदरा ने आज सबसे पहले मंत्री पद की शपथ ली. वरिष्ठता के आधार पर दोबारा जगह मिली हाईकमान का निर्देश था कि सीनियर्स की अनदेखी न हो.

मनप्रीत बादल ने मंत्री पद की शपथ ली कैप्टन के खिलाफ मुहिम के दौरान तटस्थ रहे. रेवेन्यू जेनरेट करने को इस बार फाइनेंस के साथ अन्य विभाग भी मिलने की संभावना.

भारत भूषण आशू ने भी मंत्री पद की शपथ ली कैप्टन सरकार में खाद्य विभाग मंत्री थे और सांसद रवनीत, गुरप्रीत कोटली व अन्य का पूरा समर्थन. हिंदू चेहरा भी है सिद्धू कैंप का विरोध नहीं किया.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »