Pages Navigation Menu

Breaking News

राम मंदिर के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिए 5 लाख 100 रुपये

 

भारत में कोरोना टीकाकरण अभियान शुरू

किसानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें, उन्हें गुमराह न करें; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

संघ प्रमुख के बयान पर बिफरे राहुल गांधी- ओवैसी

rahul congressनई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ  प्रमुख मोहन भागवत  के सीएए वाले बयान से ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन  प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी नाखुश नजर आ रहे हैं. ओवैसी ने कहा है कि हम बच्चे नहीं हैं, जिन्हें नागरिकता संशोधन कानून  को लेकर गुमराह किया जाए. अपने ट्वीट में ओवैसी ने आंदोलन के दौरान कांग्रेस और आरजेडी के चुप्पी पर भी सवाल उठाए.भागवत के बयान के बाद राहुल गांधी ने रविवार को अपने ट्वीट में लिखा, “अंदर ही अंदर, मोहन भागवत सच जानते हैं. वह सिर्फ इसका सामना करने से डरते हैं. सच्चाई यह है कि चीन ने हमारी जमीन ली है तथा भारत सरकार और आरएसएस (RSS) ने इसकी अनुमति दी.

क्या है मामला?
संघ की सालाना दशहरा रैली में पहुंचे भागवत ने कहा था कि सीएए का मतलब किसी भी समुदाय का विरोध करना नहीं है. इस नए कानून का विरोध करने वाले लोग मुस्लिम भाइयों को गुमराह करना चाहते हैं. वे मुस्लिम भाइयों को बताना चाहते हैं कि इस कानून का मकसद मुस्लिम आबादी को काबू करना है. उन्होंने कहा कि सीएए का इस्तेमाल कर मौका परस्त लोग विरोध के जरिए संगठित हिंसा फैला रहे हैं.

ओवैसी का हमला
अपने ट्वीट में ओवैसी ने लिखा ‘हम बच्चे नहीं हैं, जिन्हें गुमराह किया जाए. बीजेपी ने इस बारे में कुछ नहीं कहा कि सीएए+एनआरसी का करना क्या था. अगर यह मुस्लिमों के बारे में नहीं है, तो इसमें से धार्मिक संबंधी हर चीज को हटा दें. उन्होंने लिखा ‘यह याद रखें कि हम तब तक विरोध करते रहेंगे जब तक ऐसा एक भी कानून रहेगा, जो हमें हमारी भारतीयता साबित करने को कहेगा.’हम हर उस कानून का विरोध करेंगे, जो नागरिकता का आधार धर्म को बताएगा. उन्होंने लिखा ‘मैं कांग्रेस, आरजेडी और उनके हमशक्लों से भी यह कहना चाहता हूं कि आंदोलन के दौरान आपकी चुप्पी भूले नहीं हैं. जब बीजेपी नेता लोगों को सीमांचल घुसपैठिये कह रहे थे तो आरजेडी  और कांग्रेस ने एक बार अपना मुंह नहीं खोला.’

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *