Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

ऐसे पड़ी देश में वंशवाद की नींव

gandhi_familyनई दिल्ली। 132 साल पहले जब रिटायर्ड ब्रिटिश अधिकारी एलन ओक्टावियन ह्यूम ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का गठन किया तो यह करोड़ों भारतीयों के लिए अंग्रेजों से आजादी की मांग के मुखपत्र की तरह थी। लोग इस संगठन से जुड़ते गए और आजादी की मांग बड़ी और धारदार होती गई। सब कुछ लोकतांत्रिक था।

हर साल संगठन की देश के अलग-अलग शहरों में बैठक होती थी और पार्टी का एक राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना जाता था। पार्टी के नव-निर्वाचित अध्यक्ष राहुल गांधी के परनाना जवाहरलाल नेहरू के पिता मोतीलाल नेहरू भी इसके अध्यक्ष बने। पार्टी में वंशवाद की राजनीति का बीज तब पड़ा, जब मोतीलाल ने अपने पुत्र जवाहरलाल नेहरू को पार्टी का अध्यक्ष बनाने के लिए महात्मा गांधी को एक सिफारिशी पत्र लिखा। उसके बाद तो पार्टी और परिवार एक दूसरे के पर्याय होते चले गए।

पार्टी की उम्र के करीब एक तिहाई समय तक इसकी अध्यक्षता इसी परिवार के पास रही। नेहरू, इंदिरा और यहां तक कि राजीव गांधी के काल तक परिवार के नेतृत्व को किसी प्रकार की चुनौती नहीं मिली। बाद में यदि मिली भी तो उसे पार्टीजनों का ही बहुत साथ नहीं मिला। कभी लगा कि वंशवादी राजनीति पार्टी को नुकसान पहुंचा रही है तो कभी लगा कि नेहरू-गांधी परिवार ही पार्टी को एक सूत्र में जोड़े रख सकता है। ऐसे में वंशवाद के बूते ही पूरे भारत के चलने का पिछले दिनों सनसनीखेज बयान देने वाले 47 वर्षीय राहुल गांधी अब खानदान की विरासत का ताज पहन रहे हैं।

परिवार से अब तक बने अध्यक्षों ने पार्टी और संगठन को आगे बढ़ाया है। राहुल से भी ऐसी ही उम्मीदें हैं, लेकिन उनके समक्ष चुनौतियां पहाड़ की मानिंद हैं। उत्तर भारत समेत ज्यादातर बड़े राज्यों से सत्ता से बेदखल हो चुकी कांग्रेस पर सांगठनिक पकड़ के साथ-साथ सत्ता की राजनीति का संतुलन साधने जैसी चुनौतियों से मुकाबला करने में राहुल के कौशल की कठिन परीक्षा होगी।

परिवार से छठे और पार्टी के 49वें अध्यक्ष

1885 में गठन के बाद करीब 132 साल पुरानी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी पर चार दशक से ज्यादा नेहरू-गांधी परिवार की पकड़ रही है। इस खानदान से अध्यक्ष बनने वाले राहुल गांधी छठे सदस्य हैं। 132 साल में से 43 साल तक इस पार्टी का अध्यक्ष इसी परिवार से रहा है।

मोतीलाल नेहरू

नेहरू-गांधी परिवार से कांग्रेस के पहले अध्यक्ष हुए। 1919 में जब ये अध्यक्ष बने तब इस पद का कार्यकाल एक साल का हुआ करता था। दूसरी बार 1928 में अध्यक्ष की कुर्सी संभाली।

जवाहरलाल नेहरू

मोतीलाल के बेटे जवाहरलाल ने पार्टी की कमान 1929 में संभाली और दो साल तक लगातार पद पर बने रहे। दूसरी बार 1936 में ये अध्यक्ष बने और अगले साल यानी 37 तक कुर्सी पर जमे रहे। आजादी के बाद 1947 में ये देश के पहले प्रधानमंत्री बने। बाद में 14 साल के अंतर के बाद चौथी बार ये पार्टी के अध्यक्ष पद पर 1951 में काबिज हुए और 1954 तक लगातार इसे बरकरार रखा।

इंदिरा गांधी

जवाहरलाल की पुत्री और मोतीलाल की पौत्री इंदिरा गांधी अल्प समय के लिए 1959 में पार्टी की अध्यक्ष बनीं। इसके बीस साल बाद 1978 में वे दोबारा अध्यक्ष बनीं और 31 अक्टूबर, 1984 तक अध्यक्ष रहीं।

राजीव गांधी

इंदिरा गांधी की मौत के समय उनके बेटे राजीव गांधी ने पार्टी की कमान संभाली। इससे पहले वे पार्टी के महासचिव थे। 1991 में एक आत्मघाती हमले में मारे जाने तक वे कांग्रेस के अध्यक्ष रहे।

सोनिया गांधी

पति की मौत के बाद लगातार तमाम दबावों के बावजूद अध्यक्ष पद को नहीं ग्रहण किया। विदेशी मसले के मद्देनजर वे लगातार इस पद को ठुकराती रहीं। अंतत: 1997 में कोलकाता में हुए कांग्रेस के अधिवेशन में उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता ली। मार्च, 1998 को सोनिया कांग्रेस की अध्यक्ष चुनी गईं। सीताराम केसरी की जगह सोनिया को पार्टी की मुखिया बनाने के लिए कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने अपनी विशेष शक्ति का इस्तेमाल किया। 6 अप्रैल, 1998 को आल इंडिया कांग्रेस कमेटी ने इसका अनुमोदन किया।

हालांकि 15 मई, 1999 को लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पार्टी के वरिष्ठ नेताओं शरद पवार, पीए संगमा और तारिक अनवर द्वारा विदेशी मूल मसले पर उनकी प्रधानमंत्री के उम्मीदवारी को चुनौती देने पर पद से इस्तीफा दे दिया। 20 मई, 1999 को इन तीनों नेताओं को कांग्रेस वर्किंग कमेटी से छह साल के लिए बाहर कर दिया गया। इसके बाद ही उन्होंने अपना इस्तीफा वापस लिया। बीते नौ दिसंबर को सोनिया गांधी ने अपने जीवन के 71 साल पूरे किए। और लगातार 19 साल से अधिक समय तक पार्टी की अध्यक्ष बने रहने का रिकॉर्ड भी बनाया। अगर 14 मार्च तक वे पद पर बनी रहतीं तो लगातार 20 साल तक अध्यक्ष का रिकॉर्ड बनता।

राहुल गांधी

47 साल की उम्र में पार्टी के अध्यक्ष बनने वाले ये गांधी-नेहरू खानदान के छठे सदस्य हैं।

गठन का मकसद

ब्रिटिश सरकार के सेवानिवृत्त लोक सेवा अधिकारी एलन ओक्टावियन ह्यूम ने 28 दिसंबर, 1885 को कांग्रेस की स्थापना की। 28 दिसंबर से 31 दिसंबर तक बंबई में इसका पहला सत्र आयोजित किया गया। कलकत्ता विश्वविद्यालय को लिखे अपने पत्र में उन्होंने एक ऐसी संस्था बनाने का विचार रखा था जो भारतीय हितों का प्रतिनिधित्व कर सके। उनका उद्देश्य था कि इस संस्था के जरिए पढ़े लिखे सभ्रांत भारतीयों की सरकार में भागीदारी बढ़ाई जा सके।

साथ ही भारतीय जनता और अंग्रेजी हुकूमत के बीच राजनीतिक व सामाजिक चर्चाएं करने का मंच तैयार हो सके। उन्होंने इस संस्था को खड़ा करने की पहल की और मार्च, 1885 में एक नोटिस जारी किया जिसके मुताबिक भारतीय राष्ट्रीय संघ की पहली बैठक दिसंबर में पूना में आयोजित की जानी थी। बाद में पूना में हैजा फैलने के बाद यह बैठक बंबई में रखी गई। ह्यूम ने तत्कालीन वायसराय लॉर्ड डफरिन से अनुमति लेकर पहली बैठक का आयोजन कराया। वोमेश चंद्र बनर्जी कांग्रेस के पहले अध्यक्ष बने।

पार्टी और अध्यक्ष

132 साल पुरानी कांग्रेस पार्टी के अब तक 86 लोग अध्यक्ष रह चुके हैं। 87वां नंबर राहुल गांधी का है। इसमें कळ्छ लोग एक से अधिक बार भी पार्टी के अध्यक्ष बने। देश के स्वतंत्र होने के बाद 15 लोगों ने कांग्रेस पार्टी की अध्यक्षता की है। 70 साल में से 43 साल पार्टी की कमान नेहरू-गांधी परिवार के चार सदस्यों ने संभाली।

परिवार से अध्यक्ष

नेहरू तीन साल अध्यक्ष रहे। इंदिरा गांधी और राजीव गांधी 8-8 साल के लिए पार्टी की कमान संभाली। सोनिया गांधी रिकार्ड 19 साल तक कांग्रेस की अध्यक्ष रही हैं। नेहरू-गांधी परिवार से कांग्रेस अध्यक्ष रहे तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी।

चार अध्यक्ष बने प्रधानमंत्री…

जवाहर लाल नेहरू सहित इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और पीवी नरसिंह राव कांग्रेस के अध्यक्ष रहे हैं जो देश प्रधानमंत्री भी बने।

विदेश मूल के लोग भी

करीब एक दशक पहले सोनिया गांधी के विदेशी मूल के होने की बहस छिड़ी थी। उनसे पहले विदेशी मूल के पांच लोग पार्टी अध्यक्ष रह चुके हैं। इनका जन्म भारत में नहीं हुआ था। हाउस ऑफ कॉमन्स के सदस्य अल्फ्रेड वेब, इंडियन सिविल सर्विस के पूर्व सदस्य सर विलियम व्याडरबर्न, सर हेनरी कॉटन, आइसीएस अधिकारी एनी बेसेंट और स्कॉटिश व्यापारी जॉर्ज यूल के नाम इनम शामिल हैं।

जननायकों ने भी संभाली कमान

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, सुभाष चंद्र बोस, अबुल कलाम आजाद और सरोजिनी नायडू भी कांग्रेस के अध्यक्ष रहे हैं। पत्रकार, न्यायविद और राजनेता वोमेश चंद्र बनर्जी दिसंबर 1885 में मुंबई में आयोजित कांग्रेस के पहले सत्र के अध्यक्ष थे। उनके बाद अध्यक्षता करने वालों में दादाभाई नौरोजी दूसरे थे। वहीं हिंदू महासभा के मुख्य नेताओं में से एक मदन मोहन मालवीय ने भी कांग्रेस की अध्यक्षता की।

उनके अलावा बी पट्टाभि सीतारमैया, पुरुषोत्तम दास टंडन, यू एन खीर, एन संजीव रेड्डी, के कामराज, एस निजलिंगप्पा, जगजीवन राम, शंकर दयाल शर्मा, डीके बरुआ, पीवी नरसिंह राव, सीताराम केसरी भी कांग्रेस के अध्यक्ष रहे।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *