Pages Navigation Menu

Breaking News

सीबीआई कोर्ट ;बाबरी विध्वंस पूर्व नियोजित घटना नहीं थी सभी 32 आरोपी बरी

कृष्ण जन्मभूमि विवाद- ईदगाह हटाने की याचिका खारिज

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

गहलोत सरकार ; राजस्थान में CBI अब सीधे नहीं कर सकेगी जांच

Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot .जयपुर राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच गहलोत सरकार ने केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए सीबीआई (CBI) पर बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के बाद अब राजस्थान में सीबीआई सीधे किसी मामले में जांच नहीं कर पाएगी। सीबीआई को जांच के लिए पहले राज्य सरकार की सहमति लेना जरूरी होगा। सहमति मिलने के बाद ही सीबीआई राजस्थान में किसी मामले की जांच कर पाएगी। इस संबंध में राज्य सरकार के गृह विभाग ने अधिसूचना जारी कर दी है।

क्या कहा गया है अधिसूचना में
गृह विभाग की ओर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि सीबीआई सीधे किसी भी तरह के सीधे किसी भी केस की जांच नहीं कर पाएगी। अधिसूचना में कहा गया है कि यदि सीबीआई के पास 1990 से पहले का कोई केस यदि हो, तो उसे राज्य सरकार से इस मामले में सहमति लेनी होगी। वहीं जानकारों को कहना है कि दिल्ली स्पेशल पुलिस एक्ट के नए प्रावधानों के अनुसार यदि सीबीआई किसी केस की इंवेस्टिगेशन के लिए आती है, तो उसे पहले राज्य सरकार की ओर से अनुमति लेनी होती है।

गहलोत ने लगाया था- केंद्रीय जांच एजेंसियों का दुरुपयोग का आरोप
राजस्थान की गहलोत सरकार ने सीबीाई पर यह फैसला ऐसे समय लिया है, जब राज्य में सरकार को लेकर सियासी खींचतान जारी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत केंद्र सरकार पर आरोप लगा चुके हैं कि दबाव बनाने के लिए केंद्रीय जांच एजेंसियों का दुरुपयोग किया जा रहा है।इससे पहले सीएम गहलोत ने कहा था कि आज देश में गुंडागर्दी हो रही है, मनमर्जी के हिसाब से छापे मारे जा रहे हैं। मुझे दो दिन पहले ही पता लग गया था कि मेरे करीबियों के छापे पड़ेंगे। सीएम का यह बयान राजस्थान कांग्रेस के नेताओं के ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी के बाद आया था। बता दें, राजस्थान कांग्रेस के दो बडे़ नेताओं राजीव अरोड़ा और धर्मेंद्र राठौड़ के ठिकानों पर यह छापेमारी हुई थी।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *