Pages Navigation Menu

Breaking News

जेपी नड्डा बने भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष

जिनको जनता ने नकार दिया वे भ्रम और झूठ फैला रहे है; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारत में शक्ति का केंद्र सिर्फ संविधान; मोहन भागवत

राज्यसभा में मार्शल की नई ‘सेना वर्दी’ पर विपक्ष ने उठाए सवाल

rajsabha uniformनई दिल्ली. राज्यसभा में मार्शल की नई वर्दी पर विवाद खड़ा हो गया है. राज्यसभा की कार्यवाही मंगलवार को शुरू होते ही विपक्षी दलों ने वर्दी पर सवाल उठा दिए. उनका कहना है कि मार्शल की वर्दी सेना की तरह दिख रही है. राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने कहा है कि नई ड्रेस हर किसी से सलाह लेने के बाद तैयार की गई है. हालांकि विपक्ष के भारी हंगामे के चलते राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी.

क्या है विवाद की असली वजह?
सबसे पहले इस नई ड्रेस पर सोमवार को कांग्रेस के सांसद जयराम रमेश ने सवाल उठाए थे. लेकिन उस वक्त नायडू ने उन्हें शांत रहने को कहा था. बाद में शाम को पूर्व आर्मी चीफ वेद प्रकाश मलिक ने सोशल मीडिया पर नई वर्दी पर सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि ये गैरकानूनी है और इससे सुरक्षा को लेकर भी दिक्कतें आएंगी. मलिक ने ट्वीट करते हुए लिखा कि इस सिलसिले में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को तुरंत एक्शन लेना चाहिए.

क्यों बदली ड्रेस?
सूत्रों के मुताबिक मार्शल की ड्रेस में बदलाव को लेकर फैसला छह महीने पहले लिया गया था. दरअसल राज्यसभा में लोगों को मार्शल और बाकी वार्ड स्टाफ और पहरेदार के बीच अंतर पता नहीं चलता था. ऐसे में ड्रेस बदल कर मार्शल को अलग पहचान देने की कोशिश की गई.बता दें कि सोमवार से शुरू शीतकालीन सत्र में  कार्यवाही शुरू होने से ठीक पहले जैसे ही राज्यसभा अध्यक्ष वेंकैया नायडू सदन में आए तो हर कोई हैरान रह गया. दरअसल उनके साथ खड़े मार्शल बिल्कुल अलग अंदाज़ में दिख रहे थे.

क्या है ड्रेस में अंतर
पहले पुरानी ड्रेस में मार्शल बंद गला और साफा पहनते थे. लेकिन अब इनकी ड्रेस सेना की तरह दिखती है. नेवी ब्लू रंग की ड्रेस के साथ मार्शल को कैप भी दिया गया है. शीतकालीन सत्र और ग्रीष्मकालीन सत्र के अलग-अलग दो सेट दिए गए हैं. गर्मी में मार्शल के लिए नेवी ब्लू की जगह सफेद रंग का प्रावधान था.

राज्यसभा में ऐतिहासिक पल
ये  राज्यसभा का 250वां सत्र  है. राज्यसभा का पहला सेशन 1952 में हुआ था. लिहाजा इस मौके को यादगार और खास बनाने के लिए भी मार्शल की ड्रेस में बदलाव लाए गए.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *