Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

योगी के राज में रामलला की जय जय

ayodhya_650x400_41508330766अयोध्या: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में दीपावली की पूर्व संध्या पर भगवान राम के अयोध्या आगमन पर उनका स्वागत करते हुए कहा कि अयोध्या हमेशा नकारात्मक चर्चा का केंद्र रही है. यह कार्यक्रम नकारात्मक चर्चा को सकारात्मक की ओर ले जाने का एक कदम है. उन्होंने कहा कि अयोध्या का विकास चार चरणों में पूरा किया जाएगा. दीपावली पर यह पहले चरण का आयोजन है. इस मौके पर 135 करोड़ की लागत से विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास किया गया. मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार प्रदेश को दुनिया के पर्यटन का हब बनाएगी और इसकी शुरूआत हो चुकी है. अयोध्या पुराना वैभव प्राप्त करे, इस ओर कार्य किए जा रहे हैं. योगी ने कहा कि केंद्र सरकार के प्रयासों से हर किसी की अपनी छत और हर हाथ को रोजगार की परिकल्पना को ayodhya twoसाकार करने के लिए तेजी से काम किए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि जिसके पास अपना घर हो, घर में रोशनी हो, हर हाथ को काम हो, यही राम राज्य है. और राम राज्य का यह सपना उत्तर प्रदेश में 2019 तक पूरा हो जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या और अन्य पर्यटक स्थलों के विकास के लिए यूपी सरकार पूरी तरह प्रयासरत है. नदियों की संस्कृति और उनके जीवन को बचाने के लिए नदियों की आरती का कार्यक्रम शुरू किया है. इस मौके पर सरयू नदी के तटों पर दो लाख से अधिक मिट्टी के दीपकों से रोशनी की गई. बताया जा रहा है कि अयोध्या में  इस तरह का भव्य आयोजन अपनेआप में एक रिकॉर्ड है.

yogi-ayodhya_240x180_51508324730मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बुधवार को ‘मेगा अयोध्या शो’ ने साबित कर दिया है कि भगवान राम की नगरी बीजेपी सरकार के एजेंडे में सबसे पहले है. ‘मेगा अयोध्या शो’ में सरयू पूजन, महाआरती, 1.71 लाख दीयों का विश्व रिकॉर्ड. लेकिन इस सबके बीच अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की बात दब ना जाए, पार्टी के भीतर से ही ये कोशिशें भी शुरू हो चुकी हैं.

राज्यसभा सांसद विनय कटियार और उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने राम मंदिर निर्माण की जोरदार वकालत की है. सवाल बड़ा यही है कि ठीक ‘मेगा अयोध्या शो’ वाले दिन को ही राम मंदिर निर्माण का मुद्दा क्यों छेड़ा गया? राम मंदिर को आस्था का सवाल बताने की धुन क्यों जोर से बजने लगी?

कभी राम मंदिर आंदोलन में बढ़ चढ़कर आगे रह चुके विनय कटियार बीते कई दिनों से अयोध्या में ही डेरा डाले हुए हैं. कटियार के मुताबिक उनके लिए राम मंदिर ही सबसे पहला और जीने-मरने का मुद्दा है. कटियार का ये भी कहना है कि जहां तक कोर्ट के फैसले का सवाल है तो वो दोधारी तलवार है लेकिन राम की जन्मभूमि तो यहीं है. हमारे लिए राम जन्मभूमि से बढ़कर कोई मुद्दा नहीं.  अयोध्या में विनय कटियार राम मंदिर पर बोले तो लखनऊ में ये मोर्चा डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने संभाला. उन्होंने कहा कि अब तो मुसलमान भी इस मुद्दे का समाधान देखना चाहते हैं, वे भी चाहते हैं कि राम मंदिर वहीं बने. अदालत का फैसला जब आएगा तब आएगा.

साफ है अयोध्या में दिवाली के बहाने राम मंदिर को फिर से सियासत के केंद्र में लाने की पुरजोर कोशिश है. 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं. इस आम चुनाव तक या तो मंदिर बनाने की पहल करनी होगी या मंदिर बनते दिखाने की कोशिश करनी होगी. ‘मेगा शो’ के जरिए बीजेपी ये जताने में कोई कसर नहीं छोड़ रही कि अयोध्या उसके एजेंडे में कितना ऊपर है.

हालांकि अयोध्या के पक्षकार बुधवार के इस महोत्सव को सही नहीं मानते. उनके मुताबिक इस तरह की दिवाली योगी आदित्यनाथ को मंदिर निर्माणका रास्ता साफ होने के बाद ही मनानी चाहिए थी. दूसरी तरफ मेगा शो से अयोध्या के लोग खुश नजर आ रहे हैं. उन्हें लगता है कि अयोध्या की पहचान फैजाबाद जिले से नहीं बल्कि खुद अयोध्या से होने जा रही है. पहली बार अयोध्या नगर निगम के तौर पर बना है और यहां पहला मेयर चुना जाने वाला है.

हालांकि अयोध्या में एक वर्ग ऐसा भी है जो मानता है कि अयोध्या में भव्य दिवाली मनाने का कार्यक्रम कहीं न कहीं राम मंदिर से फोकस हटाने की कोशिश है. दिंगबर अखाड़े और रामलला के पुरोहित ने ‘आज तक’ से बातचीत में कहा कि योगी सरकार दिवाली के इस जश्न को इतना भव्य बनाना चाहती है कि अयोध्या का मूल मुद्दा यानी राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद का मुद्दा इसके आगे छोटा पड़ जाए. क्योंकि सरकार पर 2019 के पहले राम मंदिर बनाने का दबाव है. इसलिए ये मूल मुद्दे को दबाने की कोशिश है.

उधर, योगी सरकार का दावा है कि अयोध्या में बुधवार को होने वाले आयोजनों पर सरकार बहुत ज्यादा खर्च नहीं कर रही. इन आयोजनों का कुल खर्चा तीन करोड़ से ऊपर नहीं जाएगा. हालांकि सरकार ये जताना भी नहीं भूल रही कि 133 करोड़ की विकास परियोजनाओं से अयोध्या पर्यटन के मानचित्र पर आ जाएगा.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *