Pages Navigation Menu

Breaking News

लव जेहाद: उत्तर प्रदेश में 10 साल की सजा का प्रावधान

पाकिस्तान संसद ने माना, हिंदुओं का कराया जा रहा जबरन धर्मातरण

जम्‍मू-कश्‍मीर में 25 हजार करोड़ का भूमि घोटाला

फेक न्यूज से फिर परेशान हुए रतन टाटा

Ratan_Tata_photoनई दिल्ली. सोशल मीडिया के इस दौर में किसी भी मैसेज के वायरल होने में ज्यादा समय नहीं लगता है. लेकिन इन मैसेज की विश्वसनीयता हर बार ​ठीक नहीं होती है. दिग्गज उद्योगपति रतन टाटा फिर इसका शिकार हुए हैं. दरअसल, सोशल मीडिया पर रतन टाटा के हवाले से एक मैसेज वायरल हो रहा है. यह मैसेज न्यूजपेपर के आर्टिकल के रूप में है, जिसमें रतन टाटा के हवाले से संदेश लिखा गया है. इस मैसेज में रतन टाटा की फोटो भी लगी है.

वायरल मैसेज में क्या लिखा है?
दरअसल, रतना टाटा के नाम से वायरल हो रहे इस न्यूज पेपर आर्टिकल का शीर्षक ‘2020 जीवित रहने का साल है, लाभ हानि की चिंता न करें’ है. इस आर्टिकल में लिखा गया है, ‘व्यवसायिक पेशेवरों के लिए ​टाटा समूह टाट ट्रस्ट के चेयरमैन रतन टाटा ने लघु संदेश जारी किया है. इसमें उन्होंने व्यवसाय करने वाले, उद्योग संचालन करने वाले को प्रेरित किया है. अपने लघु संदेश में रतन टाटा ने कहा कि व्यापार की दुनिया के मेरे प्रिय दोस्त, 2020 बस जीवित रहने का वर्ष है. इस साल आप लाभ और हानि के बारे में चिंता मत करें. सपने और योजनाओं के बारे में भी बात न करें. इस वर्ष अपने आप को जीवित रखना सबसे महत्वपूर्ण है. जीवित रहना एक लाभ बनाने जैसा है.’

रतना टाटा ने क्या कहा? रविवार को खुद रतन टाटा ने इस मैसेज को अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल पर शेयर करते हुए कहा कि उन्होंने ऐसी कोई बात नहीं कही है. इस मैसेज को शेयर करते हुए रतन टाटा ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मुझे डर है, यह भी मैंने नहीं कहा है. जितनी बार हो सकेगा, उतनी बार मैं इसे फेक न्यूज कहने का प्रयास करुंगा. लेकिन आपको प्रोत्साहित करना चाहूंगा कि आप न्यूज की सोर्स को वेरिफाई करें. किसी भी कोट यानी उद्धरण के पास मेरी फोटो लगाने से वह बात मेरे द्वारा कही गई नहीं हो सकती. इस समस्या का कई लोग सामना कर रहे हैं.’

Ratan N. Tata

@RNTata2000

I’m afraid this too, has not been said by me. I will endeavour to call out fake news whenever I can, but would encourage you to always verify news sources. My picture alongside a quote does not guarantee me having said it, a problem that many people face.
पहले भी उनके नाम पर वायरल हो चुका है मैसेज
यह पहला ऐसा मामला नहीं है, जब रतन टाटा के नाम पर न्यूज पेपर आर्टिकल के रूप में कोई मैसेज वायरल हो रहा है. पिछले महीने ही एक वायरल मैसेज में रतन टाटा के हवाले से कथित तौर उन एक्सपर्ट पर निशाना साधा गया था जो कोविड-19 की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट का अनुमान लगा रहे थे. इस में लिखा गया था, ‘मैं एक्सपर्ट्स के बारे में बहुत कुछ नहीं जानता. लेकिन मैं मानवीय प्रेरणा और कड़ी मेहनत के बारे में निश्चत तौर पर जानता हूं.’इसके बाद रतन टाटा ने ट्वीट कर लिखा, ‘मैं आपसे आग्रह करता हूं कि व्हाट्सऐप व अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सर्कुलेट होने वाली जानकारी को ​वेरिफाई कर लें’ उनके नाम पर वायरल हो रहे इस फेक न्यूज का खंडन करते हुए उन्होंने कहा कि अगर मुझे कुछ कहना होगा या कोई जानकारी देनी होगी तो मैं किसी आधिकारिक चैनल के जरिये ये जानकारी दूंगा.
Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *