Pages Navigation Menu

Breaking News

 आत्मनिर्भर भारत के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की तारीख 30 नवंबर तक बढ़ी

कोरोना के साथ आर्थिक लड़ाई भी जीतनी है ; नितिन गडकरी

पाकिस्तान में स्थित है ऋषि कपूर की खानदानी हवेली

kapoor--jpg_1200x630xt बॉलिवुड के दिग्गज ऐक्टर ऋषि कपूर का देहांत हो गया। कई सालों तक कैंसर से जंग लड़ने के बाद आखिरकार वह हार गए और इस दुनिया को विदा कह दिया। उनके चाहने वाले केवल भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मौजूद हैं। खासतौर पर पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में। पाकिस्तान से ऋषि कपूर का खास लगाव रहा है। पाकिस्तान में ही ऋषि कपूर के पिता राज कपूर का जन्म हुआ था। वह जिस घर में रहते थे, वह आज भी पाकिस्तान के पेशावर में मौजूद है। इसे ‘कपूर हवेली’ के नाम से जाना जाता है। आइए आपको ‘कपूर हवेली’ के बारे में बताते हैं…

‘कपूर हवेली’ पाकिस्तान के पेशावर के किस्सा ख्वानी बाजार में स्थित है। इस हवेली में ही ऋषि कपूर के पिता राज कपूर का जन्म हुआ था। यह हवेली चारों ओर दुकानों से घिरी है। इस हवेली का निर्माण राज कपूर के दादा और kapoor-6-jpgपृथ्वीराज कपूर के पिता स्व. श्री बशेश्वरनाथ ने करवाया था। बशेश्वरनाथ एक दीवान थे।मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो यह हवेली 5 मंजिला थी। बाद में भूकंप के कारण इसमें दरारें पड़ गईं और इसकी ऊपरी तीन मंजिलों को ढहा दिया गया। इसमें 40-50 कमरे थे। इसका निर्माण 1918 से 1922 के बीच करवाया गया। यह उस वक्त के सबसे आलीशान निर्माणों में से एक थी। हालांकि बाद में धीरे-धीरे रखरखाव की कमी का असर हवेली पर दिखने लगा और वह जर्जर हो गई। यह तस्वीर पेशावर की ‘कपूर हवेली’ में खड़े ऋषि कपूर और रणधीर कपूर की है।साल 1990 में ऋषि कपूर को अपनी पुश्तैनी हवेली देखने का मौका मिला। इस दौरान वह अपने अंकल शशि कपूर और पिता राजकपूर के साथ पेशावर स्थित कपूर हवेली गए थे। वापस आते वक्त वह हवेली के आंगन से मिट्टी उठाकर ले आए ताकि अपनी विरासत को सहेजकर रख सकें। ऐसा उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया था।

kapoor7kapoor-4-jpgदेखरेख की कमी के कारण ‘कपूर हवेली’ जर्जर हो गई थी। इसीलिए साल 2018 में इसे एक म्यूजियम में बदल दिया गया। इसके लिए खुद ऋषि कपूर ने ही पाकिस्तान सरकार से अपील की थी। ऋषि कपूर ने ट्वीट कर पाकिस्तान सरकार से अपील की थी कि उनके पुश्तैनी घर को एक म्यूजियम में बदल दिया जाए।’कपूर हवेली’ को म्यूजियम में बदलने की जानकारी पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने दी थी। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया था कि उन्हें ऋषि कपूर का फोन आया था और ऋषि कपूर ने पेशावर स्थित अपनी पुश्तैनी हवेली को म्यूजियम में बदलने की अपील की है। उन्हें जाकर बता दीजिए कि उनकी मांग मान ली गई है।ऋषि कपूर को पाकिस्तान से काफी लगाव था। साल 2016 में ऋषि कपूर ने पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान जाने की इच्छा जताई थी। उन्होंने अपनी एक पुरानी तस्वीर शेयर की थी जिसमें वह रणधीर कपूर के साथ कपूर हवेली में खड़े हैं। इसके एक साल बाद उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मैं 65 साल हूं और मरने से पहले एक बार पाकिस्तान देखना चाहता हूं।30 अप्रैल 2020 (गुरुवार) को ऋषि कपूर का मुंबई में निधन हो गया। वह काफी लंबे समय से कैंसर से पीड़ित थे। उनका न्यू यॉर्क से इलाज चल रहा था। वह सोशल मीडिया पर काफी ऐक्टिव रहते थे। हालांकि 2 अप्रैल के बाद से वह सोशल मीडिया से पूरी तरह नदारद थे। उन्होंने अपने फिल्मी करियर में कई शानदार और सुपरहिट फिल्में दीं। इनमें बोल राधा बोल, कर्ज, दीवाना, चांदनी, हीना, लैला-मजनू, दामिनी जैसी उस वक्त की सुपर-डुपर हिट फिल्में शामिल हैं।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *