Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

पुणे हिंसा का आरएसएस ने किया विरोध

rssनागपुर/मुंबई/उज्जैन.  राष्ट्रीय स्वयसेवक संघ ने लोगों से शांति बरतने की अपील करते कहा कि समाज में कुछ संगठन जानबुझकर फुट डालने का प्रयास रहे हैं। लोग उनकी बातों में न आए और शांति बनाए रखे। आरएसएस ने भीमाकोरगांव हिसां का निषेध भी किया है। आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डाॅ.मनमोहन वैद्य ने विज्ञप्ति जारी कर संघ की भूमिका स्पष्ट की है।विज्ञप्ति में कहा गया है कि भीमा कोरेगांव में और अन्य जगहों पर उभरी हिंचा काफी दुखद है। इस हिंसा का हम विरोध करते हैं। विज्ञप्ति में आगे कहा है कि इस हिंसा के लिए जो जिम्मेदार हैं उन्हें सजा मिलनी चाहिए। जो घटक समाज में अफवाहें फैला रहे हैं उन पर भरोसा न करने का आवाहन संघ की ओर से किया गया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत की अध्यक्षता में संघ की उज्जैन में दो दिवसीय बैठक शुरू हो गई है जिसमें देश के वर्तमान हालात सहित अन्य मुद्दों पर विचार विमर्श किया जाएगा.आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने उज्जैन संवाददाताओं से कहा, ‘संघ साल में दो बार बैठक आयोजित करता है, जिसमें देश भर के कार्यकर्ता शामिल होते हैं. बैठक के दौरान देश के वर्तमान हालात पर विचार विमर्श किया जाता है.’ उन्होंने कहा, ‘इस बैठक के दौरान देश के वर्तमान हालात पर केवल मंथन किया जाएगा, कोई निर्णय नहीं लिया जाएगा.’

ज्यादा से ज्यादा लोग संघ से जुड़ रहे हैं

वैद्य ने बताया कि इस बैठक में भारतीय जनता पार्टी, भारतीय किसान संघ, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और संघ परिवार से जुड़े कई संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हो रहे हैं.उन्होंने दावा किया कि संघ के कार्यकर्ताओं की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.वैद्य ने कहा कि वर्ष 2017 में जनवरी से जून तक दो लाख से अधिक युवा संघ से जुड़ चुके हैं. संघ के बारे में जानने के लिए युवाओं के इससे जुड़ने हेतु लगातार आवेदन किए जा रहे हैं.उन्होंने कहा कि इसके अलावा संघ की ‘शाखा’ भी लगातार बढ़ रही हैं. यह संघ के लिए शुभ संकेत हैं.वैद्य ने बताया कि चार जनवरी को उज्जैन में महाकाल मंदिर के पास ‘भारत माता मंदिर’ का लोकार्पण संघ प्रमुख भागवत करेंगे.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *