Pages Navigation Menu

Breaking News

मोदी मंत्रिमंडल : 43 मंत्रियों की शपथ, 36 नए चेहरे, 12 का इस्तीफा

 

भारत में इस्लाम को कोई खतरा नहीं, लिंचिंग करने वाले हिन्दुत्व के खिलाफ: मोहन भागवत

देश में समान नागरिक संहिता हो; दिल्ली हाईकोर्ट

सच बात—देश की बात

सीरिया पर रूसी वायुसेना के 130 हवाई हमले, 21 आतंकी मारे गए

siriyaदमिश्क सीरिया में इजरायल के बाद अब रूस के लड़ाकू विमानों ने जमकर तबाही मचाई है। पिछले 24 घंटे में रूसी एयरस्ट्राइक में आईएसआईएस के कम से कम 21 आतंकी मारे गए हैं, जबकि सैकड़ों घायल बताए जा रहे हैं। सीरियाई सरकार समर्थित रूस की एयरफोर्स ने पिछले 24 घंटे में पूरे देश में कम से कम 130 जगहों पर एयरस्ट्राइक को अंजाम दिया है। कुछ ही दिन पहले इजरायल ने भी सीरिया में कई मिसाइलें दागकर ईरान समर्थित मिलिशिया के ठिकानों को बर्बाद कर दिया था।

24 घंटे में रूस ने किए 130 हवाई हमले
ब्रिटेन स्थित सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा कि रूसी वायुसेना के पिछले 24 घंटे में किए गए 130 हवाई हमले में 21 आतंकी मारे गए हैं। ये हमले अलेप्पो, हामा और रक्का में आईएसआईएस के ठिकानों पर किए गए हैं। आईएसआईएस ने शनिवार को सरकारी सेना और मिलिशिया पर कई हमले किए थे। जिसके बाद रूसी वायुसेना ने यह जवाबी कार्रवाई की है। आईएसआईएस के इन हमलों में सीरियाई सरकार समर्थित मिलिशिया के 8 जवान मारे गए थे।

सीरिया के हर हिस्से में जारी है लड़ाई
इस समय भी सीरिया के बादिया क्षेत्र में सरकार समर्थित सेना और आईएसआईएस के लड़ाकों के बीच भीषण युद्ध जारी है। जिसमें रूसी सेना भी सीरियाई सरकारी सेना की तरफ से सहायता कर रही है। साल 2014 के बाद से ही सीरिया और ईराक आईएसआईएस का आतंक झेल रहे हैं। इससे पूरा सीरिया ही जंग के मैदान में बदल गया है। वर्तमान में सीरिया की राजधानी दमिश्क को छोड़कर कोई भी ऐसा इलाका नहीं है जो सीधे सरकार के नियंत्रण में हो। हर जगह या तो स्थानीय हथियारबंद गुट कब्जा बनाए हुए हैं या फिर आईएसआईएस के बचे हुए आतंकी।

जंग का मैदान बना सीरिया
आईएसआईएस के आतंकियों के हाथों तबाह हो चुका सीरिया अब दुनियाभर के शक्तिशाली देशों के बीच जंग का मैदान बनता जा रहा है। वहां रूस और अमेरिका के बीत पहले से ही तनातनी जारी है। जिसमें रूस सीरियाई सरकार का समर्थन कर रही है, वहीं अमेरिका उनका विरोध। अमेरिका ने सीरिया के अल्पसंख्यक गुट कुर्दों के सैन्य दस्तों को समर्थन दिया हुआ है। वहीं, इजरायल भी सीरिया में ईरानी मिलिशिया की मौजूदगी को खत्म करने के लिए लगातार हमले कर रहा है। तुर्की भी सीरिया में भाड़े के सैनिकों के दम पर अपने हितों को सााधने में जुटा है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »