Pages Navigation Menu

Breaking News

जेपी नड्डा बने भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष

जिनको जनता ने नकार दिया वे भ्रम और झूठ फैला रहे है; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारत में शक्ति का केंद्र सिर्फ संविधान; मोहन भागवत

अयोध्या; मस्जिद की प्रस्तावित जमीन परअब बनाओ स्कूल या अस्पताल….

saleem-javedनई दिल्ली।आख‍िरकार सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले पर विवादित जमीन रामलला को सौंपने का फैसला सुनाया, जबकि मस्जिद के निर्माण के लिए अलग से 5 एकड़ जमीन देने का फैसला सुनाया। इस फैसले का स्वागत पूरे देश में किया गया. मशहूर स्क्रिप्ट राइटर और प्रोड्यूसर सलीम खान ने भी इस पर अपना रिएक्शन दिया है.सलीम खान ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने कहा, ‘अब अयोध्या विवाद के खत्म होने पर मुसलमानों को मोहब्बत और माफी इन दो सद्गुणों का पालन कर आगे बढ़ना चाहिए. मोहब्बत जाहिर करिए और माफ करिए. इस तरह के मामलों को रिवाइंड या रिकैप ना करें…बस यहां से आगे बढ़ें’

सलीम ने कहा, ‘ अयोध्या मामले पर फैसला आने के बाद जिस तरह लोगों ने शांति और सामंजस्य बिठाया है, वह काबिले-तारीफ है. इस बात को स्वीकार करें कि एक बहुत पुराने विवाद का सुलह कर लिया गया है. मैं तहे दिल से इस फैसले का स्वागत करता हूं.”मुसलमानों को इस मामले पर चर्चा नहीं करना चाहिए. बल्क‍ि उन्हें अपनी बुनियादी समस्याओं और उनके हल पर चर्चा करनी चाहिए. यह‍ मैं इसलिए बोल रहा हूं क्योंकि हमें स्कूलों की और अस्पतालों की जरूरत है. मेरी सलाह यही होगी कि अयोध्या में जो 5 एकड़ जमीन मस्ज‍िद बनाने के लिए दी गई है, उस पर हम कॉलेज बना सकते हैं. हमें मस्ज‍िद की जरूरत नहीं. नमाज तो हम कहीं भी पढ़ लेंगे, ट्रेन में, प्लेन में, जमीन पर, कहीं भी पढ़ लेंगे. लेकिन हमें बेहतर स्कूलों की जरूरत है. तालीम अच्छी मिलेगी 22 करोड़ मुसलमानों को, तो इस देश की बहुत सी कमियां खत्म हो जाएंगी.’ उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थन में भी अपने विचार साझा किए. सलीम ने कहा, ‘मैं पीएम मोदी से सहमत हूं, हमें शांति की जरूरत है. हमें अपने लक्ष्य पर फोकस करने के लिए शांति की जरूरत है. हमें अपने भविष्य के बारे में सोचना होगा. हमें इस बात का एहसास होना चाहिए कि अगर हमारी श‍िक्षा अच्छे तरीके से होगी तो हमारा भविष्य भी बेहतर होगा. असल परेशानी यही है कि तालीम (श‍िक्षा) के मामले में मुसलमान बहुत अच्छे नहीं हैं. इसलिए मैं कहूंगा कि अयोध्या मामले का द एंड और अब एक नई शुरुआत होगी.’

दूसर ओर बॉलीवुड के प्रख्यात लेखक जावेद अख्तर ने अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर ट्वीट किया, ‘यह बहुत ही अच्छा रहेगा कि जिन्हें हर्जाने के तौर पर पांच एकड़ जमीन मिल रही है, उस पर एक विशाल चैरिटेबल अस्पताल बनाने का फैसला लें जिसे सभी समुदाय के लोग अपना समर्थन और साथ दें.’ इस तरह जावेद अख्तर ने पांच एकड़ जमीन पर मस्जिद बनाने की जगह अस्पताल बनाने की सलाह दी है. जावेद अख्तर के इस ट्वीट पर जोरदार रिएक्शन भी आ रहे हैं.जावेद अख्तर सोशल मीडिया पर अकसर अपनी बेबाकी के लिए पहचाने जाते हैं, और समसामयिक मसलों पर खुलकर अपनी राय भी रखते हैं. कई मौकों पर उन्हें सोशल मीडिया पर आलोचना का सामना भी करना पड़ता है. लेकिन जावेद अख्तर अपनी बात कहने से नहीं चूकते हैं. इस बार भी जावेद अख्तर के ट्वीट को सोशल मीडिया पर खूब रिस्पॉन्स मिल रहा है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *