Pages Navigation Menu

Breaking News

कोरोना से ऐसे बचे;  मास्क लगाएं, हाथ धोएं , सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और कोरोना वैक्सीन लगवाएं

 

बंगाल हिंसा: पीड़ित परिवारों से मिले राज्यपाल धनखड़, लोगों के छलके आंसू

हमास के सैकड़ों आतंकवादियों को इजराइल ने मार गिराया

सच बात—देश की बात

अमेरिका – रूस से मदद लेकर भारत पहुंचा विमान

रूसी वैक्सीन स्पूतनिक की पहली खेप पहुंची भारत

Spitnikरूसी वैक्सीन स्पूतनिक V की पहली खेप पहुंची भारत पहुंच गई है। 1.5 लाख डोज लेकर रूसी विमान शनिवार को करीब 4 बजे हैदराबाद में लैंड किया। इसके साथ ही देश कोकोरोना के खिलाफ तीसरा हथियार मिल गया है। आज ही देश में टीकाकरण के पहले फेज की शुरुआत हुई है, जिसे स्पूतनिक वी के आने से तेजी मिलेगी।वैक्सीन की पहली खेप भारत पहुंचने के बाद रूसी कंपनी ने कहा, ”स्पूतनिक V वैक्सीन की पहली खेप हैदराबाद पहुंच गई है। ठीक उसी दिन जब देश ने कोरोना के खिलाफ सभी व्यस्क आबादी के टीकाकरण की मुहिम शुरू की है। आइए साथ मिलकर इस महामारी को हराएं। एकता में ताकत है।”भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि स्पूतनिक V वैक्सीन महामारी के खिलाफ जंग में भारतीय शस्त्रागार से जुड़ेगा। यह तीसरा विकल्प हमारी वैक्सीन क्षमता को बढ़ाएगा और टीकाकरण में तेजी लाएगा। 1.5 डोज की यह पहली खेप है आगे लाखों डोज और आएंगे।भारत में रूस के राजदूत एन कुदाशेव ने कहा, ”स्पूतनिक V दुनिया में सबसे अधिक प्रभावी है। यह वैक्सीन कोविड-19 के नए स्ट्रेन के खिलाफ भी प्रभावी है। जल्द ही इसका भारत में ही उत्पादन शुरू हो जाएगा और धीरे-धीरे इसकी क्षमता प्रति वर्ष 85 करोड़ तक हो जाएगी।”स्पुतनिक वी मानव एडेनोवायरल वैक्टर पर आधारित है, तीन वैक्सीन में से एक है (अन्य दो फाइजर और मॉडर्ना की बनाई हुई हैं) जिनमें कोरोनोवायरस बीमारी के खिलाफ 90 प्रतिशत से अधिक प्रभावकारिता है, जो एसएआरएस-सीओवी -2 के कारण होती है। इसे 12 अप्रैल को भारत में विनियामक अनुमोदन या आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी गई थी।

अमेरिका से मदद लेकर भारत पहुंचा पहला विमान

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से प्रभावित भारत को अमेरिका से मदद की पहली खेप मिली है। शुक्रवार को सुबह अमेरिका से मदद लेकर आया विमान दिल्ली उतरा। भारत में करीब 10 दिन से हर रोज 3 लाख से ज्यादा कोरोना के एक्टिव केस मिल रहे हैं। अमेरिकी दूतावास की ओर से किए गए ट्वीट में लिखा गया है, ‘अमेरिका की ओर से कोरोना राहत को लेकर पहला विमान भारत पहुंच गया है! बीते 70 सालों की दोस्ती में अमेरिका हमेशा भारत के साथ रहा है। कोरोना संकट में भी हम साथ हैं।’ अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि आने वाले दिनों में अमेरिकी कंपनियों और लोगों की ओर से डोनेट किए गए उपकरणों को लेकर भी विमान आएंगे। इसी सप्ताह अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कोरोना से जंग में भारत के समर्थन का ऐलान किया था।इस बीच 400 ऑक्सीजन सिलेंडर्स, करीब 10 लाख कोरोना टेस्ट किट और अन्य उपकरणों को लेकर अमेरिकी विमान इंटरनेशन एयरपोर्ट पर पहुंचा है। अमेरिकी दूतावास ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। एक ट्वीट में जो बाइडेन ने लिखा था, ‘जैसे भारत ने कोरोना के शुरुआती दिनों में अमेरिका को मदद की थी, जब अस्पताल दबाव में थे। अब भारत की इस जरूरत के वक्त में हम उसके साथ हैं।’ अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने गुरुवार को कहा, ‘आने वाले दिनों में भारत को 100 मिलियन डॉलर की सप्लाई की जाएगी।’ इससे पहले सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच बातचीत हुई थी। इस वार्ता के बाद पीएम मोदी ने ट्वीट किया था, ‘हमने दोनों देशों में कोरोना वायरस के संकट को लेकर बातचीत की। भारत को अमेरिका की ओर से की जा रही मदद को लेकर मैंने प्रेसिडेंट जो बाइडेन को धन्यवाद दिया।वाइट हाउस की ओर से जारी बयान में भी कहा गया है, ‘राष्ट्रपति ने अमेरिका की ओर से भारत को पूर्ण सहयोग देने की अपील की है, जो कोरोना संक्रमण की नई लहर से प्रभावित है। अमेरिका की ओर से भारत को आपातकालीन मदद दी जा रही है, जैसे ऑक्सीजन से जुड़ी सप्लाई, वैक्सीन मैटीरियल आदि।’

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »