Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

मदरसे में महापाप!

Dbm1iTzU8AAh3gVदिल्ली में 10 साल की नाबालिग लड़की के साथ अपहरण और बलात्कार का मामला सामने आया है. शनिवार 21 अप्रैल को पीड़ित लड़की दिल्ली के गाजीपुर इलाके से अपने घर के लिए निकली थी लेकिन घर वापस नहीं लौटी. घर वालों ने पुलिस को सूचना दी..छानबीन के दौरान लड़की के घर के पास ही पुलिस को सीसीटीवी में अहम सुराग मिला. सीसीटीवी में एक लड़का लड़की को ऑटो में बैठाकर ले जाता हुआ दिखाई दिया. पुलिस ने पीड़ित लड़की के मोबाईल को भी सर्विलांस पर ले लिया. 22 अप्रैल की रात 10 बजे पुलिस लड़की को तलाशते हुए साहिबाबाद के एक मदरसे तक पहुंच गई. पीडित लडकी मदरसे में पाई गई. पूछताछ में उसने पुलिस को बताया कि जान-पहचान का एक लड़का उसे मदरसा तक लेकर तक लायाऔर उसके साथ रेप किया. पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है लेकिन बीजेपी ने इस वारदात के खिलाफ कैंडिल मार्च निकाला. सवाल है कि जब दिल्ली पुलिस केंद्र के पास है और यूपी में भी बीजेपी की सरकार है तो कैंडिल मार्च का क्या मतलब.

मदरसे से बरामद की गई साहिबाबाद की रहनेवाली 11 साल की रेप पीड़िता ने पुलिस के सामने बयान दर्ज करा दिया है. मजिस्ट्रेट के सामने सीआरपीसी के सेक्शन 164 के तहत दर्ज बयान में उसने कहा कि एक 17 साल के युवक और मौलवी ने उसके साथ बलात्कार किया है. बुधवार को मौलवी को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.

पीड़िता बच्ची ने बताया कि 21 अप्रैल को दुकान जाने के लिए घर से बाहर निकली थी, तभी उसे पड़ोस की लड़की मिली, जिसने उससे एक दोस्त से मिलवाने के लिए बुलाया. यह वही नाबालिग था, जो उसे मदरसे तक लेकर गया था.

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक बच्ची ने बताया कि 17 साल के उस नाबालिग और मदरसे के मौलवी उसका यौन शोषण करने के बाद उसे कमरे में बंद कर देते. मदद के लिए चिल्लाने की आवाज़ें कोई नहीं सुन पाता क्योंकि साथ वाले कमरे में क्लासेस चलती हैं. पीड़िता ने बताया कि मदरसे में कुछ अन्य लोगों ने भी उसे गलत तरह से छुआ. उनकी पहचानने की कोशिशें भी जारी हैं.

कई पक्षों को तलाश रही है पुलिस 

जब पीड़िता को मदरसे से छुड़ाने के लिए पुलिस वहां पहुंची थी तो वह एक कपड़ा लपेटे फर्श पर बिछी चटाई पर लेटी हुई थी. जिस कमरे में बच्ची को रखा गया था, उसमें मौलवी क्लासेस के बीच आराम करने के लिए पहुंचता था.

पुलिस इस बात की जांच में भी जुटी है कि कहीं मौलवी अन्य बच्चों की किडनैपिंग में तो शामिल नहीं. वहीं, आरोपी नाबालिग के कॉल रिकॉर्ड्स चेक करने पर पुलिस ने पाया कि वह लापता होने वाले दिन लगातार पीड़िता के संपर्क में रहा. क्राइम ब्रांच कॉल रिकॉर्ड्स खंगालकर यह पता लगाने की कोशिश भी कर रही है कि उसने पीड़िता से यौन शोषण के लिए अन्य किसी से संपर्क किया था कि नहीं.

जानकारी के मुताबिक बच्ची दिल्ली के गाजीपुर की रहने वाली है. बताया जा रहा है कि आरोपी बच्ची को उसके घर से लेकर आया था. इस मामले में स्थानीय लोगों समेत कई संगठनों ने मदरसे के मौलवी को गिरफ्तार करने की मांग की है.

अपराध शाखा की टीम ने मदरसे का किया दौरा

अपराध शाखा की टीम ने गाजियाबाद के एक मदरसे का दौरा किया , जहां 10 साल की एक लड़की से एक किशोर ने कथित तौर पर बलात्कार किया था. वह लड़की को पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर स्थित उसके घर से लेकर आया था.

पुलिस ने बताया कि टीम ने मदरसे का दौरा किया और इस मामले के संबंध में वहां के निवासियों एवं आने जाने वालों से पूछताछ की. इस मामले को लेकर गाजीपुर में तनाव की स्थिति पैदा हो गयी थी.

दिल्ली पुलिस की एक टीम ने लड़की को 22 अप्रैल को मदरसे से बरामद किया था. गत 21 अप्रैल को लड़की के पिता ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करायी थी. इसके बाद लड़की को मदरसे से बरामद किया गया था और किशोर को पकड़ा गया गया था.

मामले को अपराध शाखा के पास जांच के लिए स्थानांतरित किया गया है. एक अधिकारी ने बताया कि लड़की के माता पिता का आरोप है कि मदरसा के धर्मगुरू को लड़की के बंदी बनाकर रखे जाने के बारे में पता था.

वे लोग उसकी गिरफ्तारी की भी मांग कर रहे हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि उससे इस मामले में पूछताछ की जा रही है. दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी और पूर्वी दिल्ली के सांसद महेश गिरि ने लड़की के परिजनों से मुलाकात की और हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया. गिरि ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह को लिखे एक पत्र में मामले की सीबीआई जांच की मांग की है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *