Pages Navigation Menu

Breaking News

लद्दाख का पूरा हिस्सा, भारत का मस्तक है; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की तारीख 30 नवंबर तक 

टिक टॉक सहित 59 चायनीज ऐप पर प्रतिबंध

GST सदी का सबसे बड़ा पागलपन; सुब्रमण्यम स्वामी

Subramanian_Swamyहैदराबाद बीजेपी के दिग्गज नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने GST को 21वीं सदी का सबसे बड़ा ‘पागलपन’ बताया है। उन्होंने कहा कि देश को 2030 तक ‘महाशक्ति’ बनने के लिए सालाना 10 प्रतिशत की वृद्धि दर के साथ आगे बढ़ना होगा। स्वामी ने पूर्व प्रधानमंत्री पी. वी. नरसिंह राव को उनके कार्यकाल में किए गए सुधारों के लिए देश का सबसे बड़ा नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ दिए जाने की भी मांग की।

राव के सुधारों के सामने कोई नहीं टिकता’
सुब्रमण्यम स्वामी यहां प्रज्ञा भारती द्वारा ‘भारत- वर्ष 2030 तक एक आर्थिक महाशक्ति’ विषय पर आयोजित सम्मेलन में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि समय-समय पर हालांकि देश ने आठ प्रतिशत आर्थिक वृद्धि दर हासिल की है, लेकिन कांग्रेस नेता द्वारा आगे बढ़ाए गए सुधारों में आगे कोई बेहतरी नहीं दिखाई दी।

‘कारोबारियों को आतंकित न करें’
स्वामी ने कहा, ‘ऐसे में हम उस 3.7 प्रतिशत (निवेश इस्तेमाल के लिए जरूरी दक्षता कारक) को कैसे हासिल करेंगे। इसके लिए एक तो (हमें जरूरत है) भ्रष्टाचार से लड़ने की और दूसरे निवेश करने वालों को पुरस्कृत करने की जरूरत है। आप उन्हें (निवेशकों को) आयकर और जीएसटी, जो कि 21वीं सदी का सबसे बड़ा पागलपन है, इसके जरिए आतंकित मत कीजिए।’

‘जीएसटी बेहद जटिल’
राज्य सभा सांसद ने कहा कि जीएसटी इतना जटिल है कि कोई भी यह नहीं समझ पा रहा है कि कहां कौन सा फॉर्म भरना है और वे चाहते हैं कि इसे कंप्यूटर पर अपलोड किया जाए। स्वामी ने निवेश के मामले में दक्षता स्तर में सुधार के मुद्दे पर कहा, ‘कोई राजस्थान, बाड़मेर से आया, उसने कहा हमारे पास बिजली नहीं है, हम कैसे इसे अपलोड करें? इस पर मैंने उससे कहा कि इसे अपने माथे पर अपलोड कर लो और प्रधानमंत्री के पास जाकर उन्हें कहो।’

’10 साल 10% वृद्धि दर की जरूरत’
उन्होंने कहा कि भारत को आर्थिक महाशक्ति बनने के लिए अगले 10 साल तक हर साल 10 प्रतिशत की दर से आर्थिक वृद्धि हासिल करनी होगी। उन्होंने कहा कि यह गति बनी रहती है तो 50 साल में चीन को पीछे छोड़ देंगे और अमेरिका को पहले स्थान के लिए चुनौती दी जा सकती है। स्वामी ने कहा भारत के समक्ष आज जो समस्या है, वह मांग की कमी की समस्या है। लोगों के पास खर्च करने के लिए पैसे नहीं है, जिसका आर्थिक चक्र पर प्रभाव पड़ रहा है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *