Pages Navigation Menu

Breaking News

अयोध्या विकास प्राधिकरण की बैठक में सर्वसम्मति से राम मंदिर का नक्शा पास

मानसून सत्र 14 सितंबर से 1 अक्टूबर तक चलेगा, दोनों सदन अलग-अलग समय पर चलेंगे

  7 सितंबर से चरणबद्ध तरीके से मेट्रो सेवाएं होंगी शुरू, 12 सितंबर तक सभी मेट्रो लगेंगीं चलने 

तबलीगी जमात ; मौलाना साद पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज

markaz sadतबलीगी जमात के नेता मौलाना साद कांधलवी के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गया है। दिल्ली पुलिस ने बुधवार को बताया कि निजामुद्दीन मरकज में हुए तबलीगी जमात कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों में से कुछ की कोरोना वायरस से मौत हो जाने के बाद यह कदम उठाया गया है।दिल्ली पुलिस के अनुसार, इस घातक बीमारी को काबू करने के लिए केंद्र सरकार की ओर से जारी किए गए सोशल डिस्टेंसिंग संबंधी दिशानिर्देशों के बाद भी मौलाना साद ने पिछले महीने निजामुद्दीन मरकज में धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया था।निजामुद्दीन थाना प्रभारी की शिकायत पर 31 मार्च को क्राइम ब्रांच थाने में मौलाना के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। पुलिस ने कहा कि शुरू में कार्यक्रम के आयोजन को लेकर उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि तबलीगी जमात कार्यक्रम में शामिल कई लोगों की कोरोना वायरस के कारण मौत हो जाने के बाद उनके खिलाफ एफआईआर में आईपीसी की धारा 304 (गैर इरादतन हत्या) शामिल की गई है। इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले कुछ विदेशियों के खिलाफ वीजा नियमों के उल्लंघन के लिए मामला दर्ज किया गया है।तबलीगी जमात घटना के खिलाफ दर्ज एफआईआर में कहा गया है कि दिल्ली पुलिस ने 21 मार्च को निजामुद्दीन मरकज के अधिकारियों से संपर्क किया और उन्हें सरकार के उस आदेश की याद दिलाई जिसमें किसी भी राजनीतिक या धार्मिक आयोजन में 50 से अधिक लोगों के शामिल होने पर रोक लगाई गई थी। इसमें कहा गया है कि बार-बार के प्रयासों के बावजूद, कार्यक्रम के आयोजकों ने स्वास्थ्य विभाग या किसी अन्य सरकारी एजेंसी को इस संबंध में सूचना नहीं दी और जानबूझकर सरकारी आदेशों की अवहेलना की। इस कार्यक्रम में हजारों लोगों ने भाग लिया था और उनमें से कई लोगों के जरिये कोरोना वायरस का संक्रमण अन्य लोगों तक फैला।

दिल्ली पुलिस ने ली मौलाना साद के कमरे की तलाशी, बेटों से भी हुई पूछताछ

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ने बुधवार को निजामुद्दीन मरकज की तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना मोहम्मद साद कांधलवी के कमरे की लेने के साथ ही उसके बेटों से भी पूछताछ की है। मौलाना साद की तलाश में जुटी क्राइम ब्रांच की यहां सबूत जुटाने पहुंची थी।

तबलीगी जमात कार्यक्रम के द्वारा कोरोना वायरस को फैलाने का आरोपी मौलाना साद इस मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद से ही फरार चल रहा है। पुलिस काफी समय से उसकी तलाश कर रही है।

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद को पेश होने के लिए नोटिस भेजकर उससे 26 सवाल भी पूछे थे, लेकिन मौलाना साद ने अपने वकील के माध्यम से नोटिस का जवाब दाखिल कर खुद के क्वारंटाइन में होने की जानकारी दी थी। इसके अलावा कुछ दिन पहले मौलाना साद ने अपना ऑडियो संदेश जारी किया था, जिसमें उसने बताया था कि वह सेल्फ आइसोलेशन में हैं।

1900 जमातियों पर कार्रवाई, क्राइम ब्रांच ने जारी किया लुकआउट नोटिस

वहीं, मरकज से निकलने के बाद से फरार चल रहे तबलीगी जमातियों के खिलाफ भी दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने लुकआउट सर्कुलर जारी किया है। विदेश से आए करीब 1900 जमातियों पर यह कार्रवाई की गई है। देश में संभवत: पहली बार इतनी बड़ी संख्या में लुकआउट सुर्कलर जारी किए गए हैं। सूत्रों की मानें तो वीजा नियम का उल्लंघन कर विदेश से आए जमाती धार्मिक गतिविधि में शामिल हुए हैं। इन्हें चिह्नित किए जाने के बाद वीजा रद्द किए जा रहे हैं। वहीं अन्य विदेशी मूल के जमातियों की भूमिका की भी जांच की जा रही है।

जांच में जुटी क्राइम ब्रांच लोकेशन के आधार पर इन जमातियों की तलाश में छापेमारी कर रही है। वहीं तबलीगी जमात द्वारा बरती गई इस लापरवाही की जांच में18 लोगों को शामिल होने के लिए नोटिस जारी किया गया है। इनमें से 11 क्वारंटाइन किए गए लोग शामिल हैं।

960 विदेशी नागरिकों को ब्लैक लिस्ट किया केंद्र सरकार ने 960 विदेशी नागरिकों को ब्लैकलिस्ट किया है, जो फिलहाल टूरिस्ट वीजा लेकर भारत में ठहरे हैं और तबलीगी जमात में शामिल हुए थे। साथ ही सभी राज्य सरकारों से भी इस तरह के लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा गया है जो टूरिस्ट वीजा पर भारत आए और मजहबी कार्यक्रमों में हिस्सा ले रहे हैं।

 पुलिस ने मौलाना से पूछे थे ये सवाल

नोटिस में संगठन का पूरा पता और रजिस्ट्रेशन से जुड़ी जानकारियां, संगठन से जुड़े कर्मचारियों की पूरी जानकारी, मरकज के प्रबंधन से जुड़े लोगों की डिटेल मांगी गई है। ये लोग कब से मरकज से जुड़े हैं। साथ ही मरकज की पिछले तीन साल की इनकम टैक्स की डिटेल, पैन कार्ड नंबर, बैंक खाते की जानकारी और एक साल की बैंक स्टेटमेंट भी मांगी गई है। 1 जनवरी 2019 से अब तक मरकज में हुए सभी धार्मिक आयोजनों की जानकारी भी मांगी गई है। पूछा गया है कि क्या मरकज के अंदर सीसीटीवी लगे हैं। अगर लगे हैं तो कहां-कहां लगे हैं, इसकी जानकारी मुहैया कराएं। क्राइम ब्रांच टीम ने नोटिस में मौलाना साद से पूछा कि धार्मिक आयोजनों में लोगों की भीड़ जुटने से पहले क्या कोई इजाजत पुलिस या प्रशासन से मांगी गई या कभी मिली तो उसकी जानकारी और दस्तावेज मुहैया कराएं।

12 मार्च के बाद कितने लोग आए

क्राइम ब्रांच ने यह भी पूछा है कि 12 मार्च के बाद मरकज में कौन-कौन लोग आए? इनमें कितने विदेशी और कितने भारतीय हैं। इनमें से कितने लोग बीमार थे, जिन्हें अस्पताल ले जाया गया। मरकज के कोरोना कनेक्शन की पूरी जांच क्राइम ब्रांच ही कर रही है और इस मामले में मौलाना साद समेत सात लोगों पर एफआईआर दर्ज है।

पुलिस और प्रशासन से भी जानकारी मांगी

12 मार्च के बाद स्थानीय पुलिस ने मरकज के लोगों से कब-कब संपर्क किया और क्या निर्देश दिए? वहीं प्रशासन स्तर पर क्या कार्रवाई की गई? एसडीएम, डब्ल्यूएचओ और डॉक्टरों की टीम ने कब मरकज का दौरा किया था, उसकी भी जानकारी मांगी गई है। क्राइम ब्रांच ने अस्पतालों में भर्ती जमात के लोगों का ब्योरा भी मांगा है।

देशभर में छापेमारी 

मरकज में आए तब्लीगी जमात के लोगों की तलाश में दिल्ली समेत पूरे देश में छापेमारी चल रही है। खासतौर से दिल्ली, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

960 विदेशी नागरिकों को ब्लैक लिस्ट किया

भारत सरकार ने 960 विदेशी नागरिकों को ब्लैक लिस्ट कर दिया है, जो फिलहाल टूरिस्ट वीजा लेकर भारत में ठहरे हुए हैं और वो तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे। सभी राज्य सरकारों से भी ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा गया है, जो टूरिस्ट वीजा पर भारत आए हैं और मजहबी कार्यक्रमों में हिस्सा ले रहे हैं।

साद के दो घर और आलीशान फार्महाउस
28 मार्च के बाद से निजामुद्दीन इलाके में मौलाना साद को नहीं देखा गया है। उसके दो घर और एक आलीशान फार्महाउस हैं। एक घर निजामुद्दीन में मरकज के पास है, जबकि दूसरा दिल्ली के जाकिर नगर में लेकिन मौलाना साद कहा पर है, फिलहाल इसकी जानकारी किसी के पास नहीं है। उसने बस इतना कहा है कि वह सेल्फ आइसोलेशन मे है। इसलिए पुलिस ने उसपर अपनी पैनी नजर गड़ा रखी है। उस पर नजर रखने के लिए पुलिस की दो टीमों को उसके घरों के आसपास रखा है, जबकि एक टीम शामली में स्थित उसके आलीशान फार्महाउस के पास लगाई गई है। ताकि वह पुलिस को चकमा देकर कहीं फरार न हो सके।

सभी सुविधाओं से लैस है फार्महाउस
मौलाना की तलाश जारी है। इसी बीच, उसके आलीशान फार्म हाउस के बारे में व महंगी गाड़ियां होने का पता चला है। उसका फार्म हाउस स्वीमिंग पूल समेत सभी तरह की सुख सुविधाओं से लैस है। फार्म हाउस के बाहर कारों का लंबा काफिला भी नजर आ रहा है। मौलाना के फार्म हाउस में कई गाड़ियां और बाइक दिखाई दे रही हैं। तबलीगी जमात के कुछ लोगों का तो पता चला लेकिन जमात के मुखिया मौलाना साद का अबतक पता नहीं चल पाया है। क्राइम ब्रांच ने साद के खिलाफ कई गंभीर धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

आईसोलेशन में होने की बात कही थी
एक दिन पहले ही मौलाना साद ने ऑडियो जारी कर खुद को सेल्फ आईसोलेशन में होने की बात कही थी। पुलिस कार्रवाई किए जाने और मामला दर्ज होने के बाद साद के सुर बदल गए थे। पहले जहां वह मरकज में लोगों को बुलाता था, वहीं जांच एजेंसियों की सख्ती बरते जाने के बाद उसने सरकार व स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का पालन करने का ऑउियो जारी किया। इसी बीच मौलाना मोहम्मद साद को क्राइम ब्रांच ने नोटिस भेजकर कुछ जरूरी सूचनाएं मांगी हैं। क्राइम ब्रांच की टीम ने मरकज से जुड़े 26 सवालों के जवाब मांगे हैं।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *