Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव में बसपा के अच्छे प्रदर्शन से मायावती खुश

mayawati-71647उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के हर क्षेत्र में अच्छे प्रदर्शन से पार्टी की मुखिया मायावती बेहद खुश हैं।उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में प्रदेश के 75 जिलों में से बसपा के 25 में शानदार प्रदर्शन पर प्रसन्नता व्यक्त की है। बसपा के इस प्रदर्शन से उत्साहित मायावती ने कहा कि पार्टी के समर्थित प्रत्याशियों ने 25 जिलों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। बसपा की सुप्रीमो मायावती ने कहा कि आगरा, मथुरा, मेरठ, बुलंदाशहर, गाजियाबाद, सहारनपुर, आजमगढ़ सहित करीब 25 जिलों से बहुजन समाज पार्टी की परिणाम काफी अच्छा आया है। मायावती ने जीत दर्ज करने वाले बसपा समर्थित उम्मीदवारों को जीत की बधाई दी है। मायावती ने कहा है कि पंचायत चुनाव में सत्ता और सरकारी मशीनरी का भारी दुरुपयोग हुआ है, इसके बाद भी हमारे सभी प्रत्याशियों ने इसका डटकर मुकाबला किया। विरोधी पार्टियों ने अपार धन बल की अनुचित इस्तेमाल के बावजूद बहुजन समाज पार्टी ने लगभग पूरे प्रदेश में जो परिणाम सभी के सामने रखा है वह अति उत्साहवर्धक है।

बसपा मुखिया मायावती ने कहा कि यह परिणाम आगामी विधानसभा चुनावों के लिए लोगों में नई ऊर्जा जोश भरने व हौसले बुलंद करने वाला है। हमारी पार्टी के प्रत्याशियों के साथ ही कार्यकर्ता तथा नेता इस परिणाम को पाकर बेहद उत्साहित हैं। उन्होंने कहा कि हम प्रदेश की जनता का तहे दिल से आभार प्रकट करते हैं। हमारी पार्टी के हर स्तर के सभी छोटे व बड़े कार्यकर्ताओं को हार्दिक बधाई। उन्होंने कहा कि जितने भी निर्दलीय उम्मीदवार कामयाब हुए हैं, उनमें से ज्यादातर वास्तव में बसपा से ही जुड़े हुए लोग हैं। इसमें भी खासकर आरक्षित सीटों पर आम सहमति नहीं बन पाने पर इन सभी ने अपने-अपने बूते पर ही चुनाव लड़कर जीत हासिल की है। जिन जिलों में बीएसपी समर्थित उम्मीदवार के लिए आम सहमति बन गई, वहां अच्छा रिजल्ट आया।

मायावती ने कहा कि कई जिलों में आम सहमति नहीं बनने के कारण कई सीट पर कई लोग बीएसपी का झंडा बैनर आदि लेकर चुनाव लड़ते रहे। सामान्य सीटों पर तो पार्टी को ज्यादा नुकसान नहीं हुआ लेकिन सुरक्षित सीटों पर पार्टी के कई उम्मीदवार खड़े होने की वजह से ऐसा नहीं हो सका। इसका ज्यादातर लाभ विरोधी पाॢटयों को पहुंच गया, इससे काफी कुछ सबक सीख कर अब पार्टी के लोग खुद ही आगे की ऐसी गलती नहीं करेंगे।बसपा मुखिया मायावती ने कहा कि बसपा का यूपी के कुछ बड़े जिलों को छोड़कर अधिकांश जिलों में अच्छा प्रदर्शन रहा है। इनमें भी खासकर मथुरा, आगरा, मेरठ, बुलंदाशहर, गाजियाबाद, सहारनपुर, मुरादाबाद, हापुड़, शाहजहांपुर, कानपुर देहात, जालौन, बांदा, चित्रकूट, लखीमपुर खीरी, हरदोई, सुल्तानपुर, बलरामपुर, संत कबीर नगर, महाराजगंज, आजमगढ़, मऊ, प्रयागराज, भदोही, मिर्जापुर, चंदौली आदि जिले में हमारी पार्टी का प्रदर्शन काफी बेहतरीन ही रहा है। उन्होंने कहा कि चुनाव में पार्टी के लोगों ने कोरोना नियमों का पालन करते हुए जिस प्रकार जबरदस्त मेहनत करके अपना-अपना रिजल्ट दिखाया है, वह सराहनीय है। अगर चुनाव में सब कुछ स्वतंत्र और निष्पक्ष ढंग से होता तो बीएसपी के कई उम्मीदवार एक सीट पर खड़े नहीं होते तो निश्चित ही बीएसपी का प्रदर्शन और भी ज्यादा बेहतर हो सकता था।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »