Pages Navigation Menu

Breaking News

संघ कार्यालय पर संघी-कांग्रेसियों ने फहराया तिरंगा
पंपोर में मुठभेड़ में तीनों आतंकवादी मारे गए  
वाराणसी में केजरीवाल को दिखाए काले झंडे

उपेंद्र कुशवाहा ने किया मानव श्रृंखला का आयोजन, राजद का मिला साथ

khush-llपटना।केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा द्वारा मंगलवार को शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए मानव श्रृंखला का आयोजन किया है।उपेंद्र कुशवाहा ने इस श्रृंखला में हिस्सा लेने के लिए एनडीए के सभी घटक दलों के साथ-साथ विपक्षी पार्टियों को भी निमंत्रण भेजा।बिहार की प्रमुख विपक्षी पार्टी राजद के नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए उपेंद्र कुशवाहा की इस श्रृंखला का समर्थन किया है। उन्होंने लिखा कि  बिहार की बेबस एवं बदहाल शिक्षा व्यवस्था के विरुद्ध केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा द्वारा आयोजित ‘मानव कतार’ में राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे, उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी और तनवीर हसन जी सम्मिलित हुए हैं।

बिहार में हालांकि चुनाव के लिए काफी समय है लेकिन, पार्टियों में जोड़-तोड़ और साथ चलने छोड़ने की कवायद शुरू हो गयी है। चुनाव तक क्या होगा? कौन किसके साथ जाएगा? कौन कहां रहेगा? यह कहना मुश्किल है। हालांकि रालोसपा और राजद की दोस्ती के मायने अब जरूर तलाशे जाएंगे। आज जो हुआ है उसपर सबकी निगाहें हैं।रालोसपा के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा द्वारा राज्य में शिक्षा सुधार के लिए शिक्षा सुधार-मानव कतार का आयोजन राज्य के हर जिले में किया गया है जिसे लेकर मानव कतार तो बनी लेकिन इसे लेकर राजनीतिक महकमे में खलबली मचल गयी है और एनडीए में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा, एेसी बातें छनकर आ रही हैं।एक ओर उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा एनडीए के घटक दलों में शामिल है और उन्होंने एनडीए समेत सभी विपक्षी पार्टियों से भी शिक्षा में सुधार को लेकर आयोजित मानव श्रृंखला में शामिल होने की अपील की थी, जिसके बाद एनडीए के नेता तो इस मानव श्रृंखला में शामिल नहीं हुए लेकिन प्रमुख विपक्षी दल राजद के इस श्रृंखला में शामिल होने से खलबली मच गई है।

राजद नेता मुख्य आयोजन स्थल भी पहुंचे और उपेंद्र कुशवाहा का हाथ थामकर मंच तक भी गए और उनकी खूब सराहना भी की। हालांकि जदयू ने यह कहकर किनारा कर लिया कि जिस आयोजन में राजद के नेतागण शामिल होंगे उस आयोजन में हम शामिल नहीं हो सकते। तो वहीं, भाजपा नेताओं ने भी इससे कन्नी काट लिया।इससे इतर, कांग्रेस ने बड़ी चाल चली और कार्यकारी प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा कि हम रालोसपा और राजद की नजदीकी से काफी खुश हैं, ये भविष्य के लिए अच्छा संकेत है।वहीं रालोसपा नेता नागमणि ने धमकी देते हुए कहा कि जदयू के नेता जो आजकल बड़ी बयानबाजी कर रहे हैं, उन्हें होश में रहना चाहिए। नहीं तो अंजाम बहुत बुरा होगा। मेरा नाम नागमणि है और मैं दुश्मनों के लिए नाग हूं और दोस्तों के लिए मणि हूं। उपेंद्र कुशवाहा ने संभावना जताते हुए कहा कि हमें लगा था बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ आयोजित श्रृंखला में मेरी पार्टी के कार्यकर्ता भी शामिल हुए थे, लिहाजा इस श्रृंखला में भी एनडीए के घटक दलों के कार्यकर्ताओं को भाग लेना चाहिए था।वहीं, दूसरी ओर तेजस्वी यादव ने भी ट्वीट कर राजद नेताओं के मानव कतार में शामिल होने को लेकर खुशी व्यक्त की है।

ठीक राज्य सरकार द्वारा दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ बनी मानव श्रृंखला के दसवेें दिन उपेंद्र कुशवाहा ने शिक्षा में सुधार के लिए मानव कतार बनायी और उसमें राजद की भागीदारी देखकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। इसके बाद उस चर्चा को हवा मिल गई है जब कुशवाहा ने राज्य सरकार की शिक्षा नीति को लेकर सवाल उठाए थे।इसके बाद आज एनडीए के घटक दलों ने कुशवाहा का साथ नहीं देकर इस बात को हवा दे दी है कि एनडीए में सबकुछ सामान्य नहीं है। क्योंकि नीतीश कुमार की पार्टी जदयू और भाजपा दोनों ने रालोसपा के कुशवाहा से दूरी बनाए रखना ही बेहतर समझा है, अब देखना है कि ये कौन सा नया राजनीतिक समीकरण तय होगा, ये देखना होगा।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *