Pages Navigation Menu

Breaking News

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

हरियाणा: 10 साल पुराने डीजल, पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध नहीं

सच बात—देश की बात

अमेरिका और चीन के राजनयिकों के बीच कोरोना को लेकर तीखी भिड़ंत!

china vs americaबीजिंग: अमेरिका और चीन के शीर्ष राजनयिकों के बीच माना जा रहा है कि तीखी बहस हुई है, जिसमें बीजिंग ने कहा कि उसने अमेरिका से कहा है कि वह उसके आंतरिक मामलों में दखलअंदाजी बंद करे. चीन ने अमेरिका पर कोविड-19 महामारी के उत्पत्ति स्थान मामले का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया. वहीं, अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कहा कि ब्लिंकन ने वायरस की उत्पत्ति स्थान को ले कर पारदर्शिता बरतने और सहयोग करने की जरूरत पर जोर दिया, जिसमें चीन में (विश्व स्वास्थ्य संगठन) विशेषज्ञों की अगुवाई में दूसरे चरण की जांच शामिल है.चीन के वरिष्ठ विदेश नीति सलाहकार यांग जिएची और अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के बीच शुक्रवार को फोन पर बातचीत हुई, जिसमें हांगकांग में स्वतंत्रता पर अंकुश, शिंजियाग क्षेत्र में मुसलमानों को बड़े पैमाने पर हिरासत में रखने साहित अनेक मुद्दों पर बातचीत हुई.

दरअसल सार्स सीओवी-2 के उत्पत्ति के स्थान संबंधी जांच की मांग चीन के लिए परेशानी की बात है, क्योंकि ऐसी अफवाहें हैं कि यह प्रयोगशाला में बनाया गया और वहां से वुहान में फैला.यांग ने इन बातों को बकवास बताया और कहा कि चीन इन बातों से बेहद चिंतित है. सरकारी समाचार समिति शन्हुआ की एक रिपोर्ट में यांग के हवाले से कहा गया, ” अमेरिका में कुछ लोग ने वुहान प्रयोगशाला से लीक होने संबंधी कहानियां बनाई है, जिसे ले कर चीन बेहद चिंतित है. चीन अमेरिका से तथ्यों और विज्ञान का सम्मान करने, कोविड-19 की उत्पत्ति का राजनीतिकरण करने से बचने और महामारी से निपटने के लिए वैश्विक सहयोग पर ध्यान केन्द्रित करने की अपील करता है.”अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कहा कि ब्लिंकन ने वायरस की उत्पत्ति स्थान को ले कर पारदर्शिता बरतने और सहयोग करने की जरूरत पर जोर दिया, जिसमें चीन में (विश्व स्वास्थ्य संगठन) विशेषज्ञों की अगुवाई में दूसरे चरण की जांच शामिल है.

डोनाल्ड ट्रंप ने चीन से 10 ट्रिलियन डॉलर हर्जाना देने को कहा था
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तरी कैरोलाइना में शनिवार को रिपब्लिकन पार्टी के एक सम्मेलन में कहा था कि चीन को भारी मुआवजा देना चाहिए. ट्रंप कोविड-19 को चीन वायरस और वुहान वायरस बताते आए हैं. उन्होंने कोविड-19 के कारण हुई मौतों और विनाश के लिए अमेरिका और दुनिया को हर्जाने के रूप में 10 ट्रिलियन डॉलर (10 खरब डॉलर) का भुगतान करने के लिए कहा था. चीन ने कहा कि जवाबदेही उन राजनीतिज्ञों की है जिन्होंने लोगों के जीवन और स्वास्थ्य की अनदेखी की.

चीन ने ट्रंप को जिम्मेदारियों से बचने का आरोप लगाया
डोनाल्‍ड ट्रंप के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि ट्रंप के कार्यकाल के दौरान 24 मिलियन (2.4 करोड़) से अधिक कोविड-19 मामले थे और मरने वालों की संख्या 410,000 से अधिक थी. वांग ने कहा, ”ट्रंप ने बार-बार तथ्यों की अनदेखी की और महामारी से निपटने में विफल रहने की अपनी जिम्मेदारियों से बचने और लोगों का ध्यान हटाने का प्रयास किया.” उन्होंने कहा, ”हम मानते हैं कि अमेरिकी लोगों को सही समझ है कि किसे जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए. ये वे पाखंडी राजनीतिज्ञ हैं, जिन्होंने लोगों के जीवन और स्वास्थ्य की अनदेखी की है और उन्हें जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए.”

डोनाल्‍ड ट्रंप कई बार चीन पर आरोप लगा चुके हैं
बता दें डोनाल्‍ड ट्रंप चीन पर कई बार यह आरोप लगा चुके है कि चीन अपने देश में वायरस को नियंत्रित करने में विफल रहा और इसके बाद यह पूरी दुनिया में फैल गया. हालांकि चीन इन आरोपों को लगातार खारिज करता आया है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »