Pages Navigation Menu

Breaking News

राम मंदिर के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिए 5 लाख 100 रुपये

 

भारत में कोरोना टीकाकरण अभियान शुरू

किसानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें, उन्हें गुमराह न करें; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

बाइडेन की शपथ में नहीं जाएंगे ट्रंप, हिंसा पर मांगी माफी

usa president electionवाशिंगटन । अमेरिकी संसद पर समर्थकों के धावा बोलने से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पूरी तरह घिर गए हैं। उन पर महाभियोग चलने का खतरा मंडरा रहा है। डेमोक्रेट सांसदों ने इसके लिए उप राष्ट्रपति माइक पेंस और कैबिनेट पर दबाव बढ़ा दिया है। अल्टीमेटम दिया है कि अगर उन्होंने इस दिशा में कुछ नहीं किया तो वे इसके लिए कदम उठाएंगे। हालांकि ट्रंप के कार्यकाल में महज 12 दिन बचे हैं और उन्होंने समर्थकों के कृत्य पर अफसोस जाहिर करते हुए माफी मांगी है और यह कहा है कि वह 20 जनवरी को शांतिपूर्ण तरीके से सत्ता का हस्तांतरण कर देंगे।

बाइडन के शपथ ग्रहण में नहीं जाएंगे ट्रंप

इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जो बाइडन को सत्ता देने के लिए तैयार हो गए हैं। लेकिन उन्‍होंने कहा है कि वह 20 जनवरी को नए राष्ट्रपति जो बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं जाएंगे। उन्‍होंने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा, यह उन सभी के लिए है जो मुझसे पूछ रहे हैं कि मैं 20 जनवरी को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में नहीं जाऊंगा या नहीं… द न्यूयॉर्क टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप खुद को माफी देने के बारे में अपने समर्थकों और कानूनी विशेषज्ञों के साथ मंत्रणा भी कर रहे हैं। दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र कहे जाने वाले अमेरिका में बुधवार को हजारों ट्रंप समर्थकों ने कैपिटल कहे जाने वाले संसद परिसर पर धावा बोल दिया था। इसके लिए ट्रंप ने उकसाया था। करीब चार घंटे चले उपद्रव के दौरान लोकतंत्र को बंधक बना लिया गया था।

महाभियोग चलाने की मांग

इस दौरान जमकर तोड़फोड़ और गोलीबारी हुई थी। पुलिस की कार्रवाई में पांच लोगों की मौत हो गई थी और कई घायल हुए थे। हमले के दौरान संसद में बाइडन की जीत पर मुहर लगाने की कार्यवाही चल रही थी। भावी राष्ट्रपति जो बाइडन ने हिंसा के लिए ट्रंप को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि उनकी लोकतंत्र विरोधी बातों से हिंसा भड़की थी। जबकि उनकी डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों ने ट्रंप को राष्ट्रपति से हटाने और महाभियोग चलाने की मांग की है।

संसद में लाया जाएगा महाभियोग

संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने कहा कि ट्रंप को तत्काल पद से हटाना समय की जरूरत है। उन्होंने उप राष्ट्रपति माइक पेंस और कैबिनेट से मांग की है कि वे संविधान के 25वें संशोधन के जरिये ट्रंप को राष्ट्रपति पद से हटा दें। अगर ऐसा नहीं किया गया तो संसद में महाभियोग लाया जाएगा। ऊपरी सदन सीनेट में डेमोक्रेट नेता चक शुमर ने कहा कि ट्रंप खतरनाक हैं और उन्हें पद से तत्काल हटाए जाने की आवश्यकता है।

ट्रंप बोले, अराजकता से हूं आहत

प्रतिनिधि सभा की सहायक स्पीकर कैथरिन क्लार्क ने बताया, ‘डेमोक्रेट्स महाभियोग लाने की तैयारी कर रहे हैं। इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए हर हथियार का इस्तेमाल करेंगे।’ इधर, व्हाइट हाउस ने गुरुवार को एक वीडियो जारी किया, जिसमें ट्रंप ने कहा, ‘सभी अमेरिकियों की तरह मैं भी हिंसा और अराजकता से आहत हूं। हिंसा में शामिल लोग हमारे देश का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं।’

माफी पर क्या हैं अधिकार

अमेरिकी राष्ट्रपति को माफी देने का अधिकार है, लेकिन खुद को माफी देने की शक्ति का प्रयोग अभी तक नहीं किया गया है। इस अधिकार की वैधानिकता को लेकर विशेषज्ञों में भी मतभेद है। न्याय विभाग के एक कानूनी मेमो में बताया गया है कि राष्ट्रपति खुद को माफी नहीं दे सकते। लेकिन वह इस्तीफा देकर उप राष्ट्रपति को अपना कार्यभार सौंपकर माफी देने का आग्रह कर सकते हैं। हालांकि इस कानूनी पहलू की बाध्यता नहीं है।

एक पुलिस अधिकारी की मौत

कैपिटल हिंसा के दौरान घायल हुए एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई। इससे हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर पांच हो गई। इधर, एफबीआइ ने रिपब्लिकन और डेमोक्रेट पार्टियों के दफ्तरों में पाइप बम रखने वालों पर 50 हजार डॉलर (करीब 36 लाख रुपये) के इनाम का एलान किया है। कानून प्रवर्तन एजेंसी ने कहा कि बम रखने वालों के बारे में जानकारी देने पर यह इनाम दिया जाएगा।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *