Pages Navigation Menu

Breaking News

अयोध्या विकास प्राधिकरण की बैठक में सर्वसम्मति से राम मंदिर का नक्शा पास

मानसून सत्र 14 सितंबर से 1 अक्टूबर तक चलेगा, दोनों सदन अलग-अलग समय पर चलेंगे

  7 सितंबर से चरणबद्ध तरीके से मेट्रो सेवाएं होंगी शुरू, 12 सितंबर तक सभी मेट्रो लगेंगीं चलने 

उइगर मुस्लिमों के शोषण पर अमेरिका ने चीन को दी चेतावनी

amirica pompeo19_20412430वॉशिंगटन: अमेरिका  ने चीन  को एक और झटका देते हुए उइगर मुसलमानों द्वारा बनाए जाने वाले उत्पादों के आयात पर रोक लगा दी है. ट्रंप प्रशासन ने यह कदम चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (CPC) की उइगर और अन्य अल्पसंख्यक विरोधी नीति के मद्देनजर उठाया है.विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि हम CPC द्वारा मानवाधिकारों का उल्लंघन कर अल्पसंख्यकों से जबरन काम  करवाने की निंदा करते हैं. अमेरिका ऐसे उत्पादों का आयात नहीं करेगा, जो उसके मूल्यों के खिलाफ हैं. चीन में प्रताड़ित उइगर और अन्य अल्पसंख्यकों द्वारा निर्मित उत्पादों को अब अमेरिका में एंट्री नहीं मिलेगी.

दमनकारी नीतियों के खिलाफ 
उन्होंने आगे कहा कि अमेरिका चीन की दमनकारी नीतियों के खिलाफ खड़ा है. जिस तरह से चीन में धार्मिक या जातीय अल्पसंख्यक समूहों का शोषण किया जा रहा है, उसे हम स्वीकार नहीं कर सकते. बीजिंग को चाहिए कि वो शिनजियांग प्रांत में अल्पसंख्यकों के साथ जारी बर्बरता पर तुरंत रोक लगाए.

प्रतिबंधित सूची में डाला
यूएस कस्टम्स एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन (US Customs and Border Protection) ने एक आदेश जारी करते हुए उत्तर-पश्चिमी चीन में संचालित चार कंपनियों से सामान आयात करने पर रोक लगा दी है. अमेरिका को शक है कि इन कंपनियों में उइगर और अन्य अल्पसंख्यकों से जबरन श्रम कराया जाता है. शिनजियांग प्रांत की कपड़े और कॉटन के सामान, कंप्यूटर पार्ट्स और हेयर प्रोडक्ट्स बनाने वालीं कंपनियों को प्रतिबंधित कंपनियों की सूची में डाला गया है.

कई देशों में भेजे जाते हैं
अमेरिका का मानना है कि इन कंपनियों में अल्पसंख्यकों को कैद करके उनसे जबरन काम करवाया जा रहा. कंपनियों द्वारा तैयार उत्पाद अमेरिका सहित कई अन्य देशों में भेजे जाते हैं. यूएस कस्टम्स एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन के कार्यवाहक आयुक्त मार्क मॉर्गन ने कहा कि जबरन श्रम न केवल मानवाधिकारों का उल्लंघन है, बल्कि यह मानवीय दृष्टिकोण के भी खिलाफ है. हम ऐसे किसी उत्पाद को अपने देश में एंट्री नहीं दे सकते, जो लोगों को प्रताड़ित करके तैयार किये जाते हैं.

इन पर लगा बैन
होमलैंड सिक्योरिटी के कार्यवाहक उप सचिव केन क्यूकेनेली  के मुताबिक, शिनजियांग प्रांत स्थित लोप काउंटी नंबर 4 वोकेशनल स्किल एजुकेशन एंड ट्रेनिंग सेंटर में उइगर और अन्य अल्पसंख्यकों को कैद करके रखा गया है और उनसे जबरन श्रम कराया जाता है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *