Pages Navigation Menu

Breaking News

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

हरियाणा: 10 साल पुराने डीजल, पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध नहीं

सच बात—देश की बात

बाइडन की जीत पर 11 सीनेटर्स ने जताया विरोध

usa president electionअमेरिकी सीनेट के एक समूह ने कहा है कि जब तक कि मतदान में कथित गड़बड़ी की जांच के लिए एक आयोग का गठन नहीं होता तब तक वो जो बाइडन की जीत को प्रमाणित करने से इनकार कर देंगे.

टेक्सास से सीनेटर टेड क्रूज़ के नेतृत्व में 11 सीनेटर इन प्रमाणरहित आरोपों की जांच के लिए 10 दिनों की देरी चाहते हैं. हालांकि, इस कदम के सफल होने की उम्मीद नहीं है क्योंकि अधिकतर सीनेटर्स के छह जनवरी को होने वाले मतदान में जो बाइडन को समर्थन देने की उम्मीद है.राष्ट्रपति ट्रंप ने जो बाइडन की जीत को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था. वह बार-बार चुनाव में धोखाधड़ी का आरोप लगा रहे हैं. हालांकि, इसे लेकर कोई प्रमाण नहीं दिया गया है. इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में भी अपील की गई थी लेकिन कोर्ट ने उसे ख़ारिज कर दिया.हाउस ऑफ़ रिप्रेजेंटेटिव्स और सीनेट के सदस्यों की उठाई गई आपत्तियों पर दो घंटे चर्चा होगी जिसके बाद मतदान किया जाएगा.लेकिन, इलेक्टोरल वोट खारिज करने के लिए दोनों सदनो में बहुमत से आपत्तियां स्वीकार होनी ज़रूरी है.लेकिन, ऐसा होना संभव नहीं लगता क्योंकि डेमोक्रेट्स को हाउस ऑफ़ रिप्रेजेंटेटिव्स में बहुमत हासिल है. कुछ रिपब्लिकंस भी कह चुके हैं कि वो नतीजों का विरोध नहीं करेंगे.शीर्ष रिपब्लिकंस ने कहा है कि चुनाव को प्रमाणित करने में सीनेट की भूमिका काफी हद तक औपचारिक है और परिणामों को लेकर आगे लंबी बहस नहीं होनी चाहिए.उन्हें सिर्फ़ एक छोटी सी जीत मिली जो पेंसिल्वेनिया के पोस्टल बैलेट से जुड़ी हुई थी. इस राज्य में जो बाइडन को जीत मिली थी. शनिवार को उप-राष्ट्रपति माइक पेंस के चीफ़ ऑफ़ स्टाफ मार्क शॉर्ट ने कहा कि पेंस ने छह जनवरी को आपत्तियां जताने वाले सीनेटर्स के कदम का स्वागत किया है.इस तारीख़ को कांग्रेस पिछले महीने आए इलेक्टोरल कॉलेज के नतीजों को प्रमाणित करेगी. देश के सभी 50 राज्यों के इलेक्टोरल कॉलेज ने जो बाइडन को 306 मत मिलने की पुष्टि की थी. चुनाव में जीत के लिए इलेक्टोरल कॉलेज के 270 मतों की ज़रूरत होती है.मतदान के नतीजे वॉशिंगटन भेजे जाएंगे और 6 जनवरी को कांग्रेस के संयुक्त सत्र में आधिकारिक तौर पर उनकी गिनती होगी. ये प्रक्रिया का एक हिस्सा है. इस प्रक्रिया के तहत अंत में उप-राष्ट्रपति माइक पेंस सीनेट के अध्यक्ष होने क नाते जो बाइडन को विजेता घोषित करेंगे.इसके बाद जो बाइडन और नवनिर्वाचित उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस 20 जनवरी को शपथ ग्रहण करेंगे.

ट्रंप के सहयोगी क्या चाहते हैं

11 सीनेटरों के जारी किए गए बयान में कहा गया है कि नवंबर में हुए चुनाव में मतदाता धोखाधड़ी, चुनाव क़ानून के उल्लंघन और ठीक से लागू ना होने के और अन्य मतदान अनियमितताओं के असाधारण आरोप लगे हैं.फेडरल डिपार्टमेंट ऑफ़ जस्टिस की एक जांच में धोखाधड़ी के इन आरोपों के समर्थन में कोई प्रमाण नहीं मिले हैं. वर्ष 1877 के एक उदाहरण को ध्यान में रखते हुए सीनेटर्स आयोग बनाने की मांग कर रहे हैं.

साल 1877 में दोनों पार्टियों के तीन राज्यों में जीत का दावा करने के बाद जांच के लिए दोनों पार्टियों एक द्वी दलीय समिति का गठन किया गया था. इसे देखते हुए सीनेटर्स ने विवादित राज्यों में चुनाव के नतीजों की 10 दिनों की आपात जांच के लिए एक आयोग के गठन की मांग की है.

सीनेटर्स का कहना है, “एक बार जांच पूरी होने पर हर एक राज्य आयोग के नतीजों का मूल्यांकन करेगा और ज़रूरत होने पर अपने मतदान में बदलाव प्रमाणित करने के लिए एक विशेष विधायी सत्र का आयोजन करेगा.”

11 सीनेटर्स का ये कदम मिसूरी के सीनेटर जोश हॉले के बयान से अलग है. जोश हॉले ने कहा था कि वो चुनावी प्रमाणिकता के सामने इलेक्टोरल कॉलेज के नतीजों को खारिज करते हैं. कांग्रेस के नीचले सदन में रिपब्लिकंस का एक समूह चुनाव के नतीजों का विरोध करने की योजना बना रहे हैं.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »