Pages Navigation Menu

Breaking News

सीबीआई कोर्ट ;बाबरी विध्वंस पूर्व नियोजित घटना नहीं थी सभी 32 आरोपी बरी

कृष्ण जन्मभूमि विवाद- ईदगाह हटाने की याचिका खारिज

सिनेमा हॉल, मल्टीप्लैक्स, इंटरटेनमेंट पार्क 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत

यूपी-बिहार में बिजली गिरने से 100 से ज्यादा लोगों की मौत

Death toll from lightningनई दिल्ली। देश में मानसून आते ही भारी बारिश का दौर शुरू हो गया है। देश के अलग-अलग हिस्सों में आंधी-तूफान के साथ ही भारी बारिश हो रही है। वहीं, गुरुवार को भारी बारिश के बीच बिजली गिरने से बिहार और उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। इस मुश्किल घड़ी में पीएम मोदी ने भी दुख जताया है। बिहार में बिजली गिरने से 83 और उत्तर प्रदेश में बिजली गिरने से 28 लोगों की मौत हुई है। बिजली गिरने से कई लोग बुरी तरह से झुलस भी गए हैं। बिहार और उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बिजली गिरने से 100 से ज्यादा यानी  111 लोगों की जान गई है।बिजली गिरने से हुए मौतों पर पीएम मोदी ने दुख जताया है। पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा कि बिहार और उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में भारी बारिश और आकाशीय बिजली गिरने से कई लोगों के निधन का दुखद समाचार मिला हैं। राज्य सरकारें तत्परता के साथ राहत कार्यों में जुटी हैं। इस आपदा में जिन लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है उनके परिजनों के प्रति मैं अपनी संवेदना प्रकट करता हूं।

बिहार के इन प्रमुख जिलो में बिजली गिरने से मौत

बिहार के गोपालगंज जिले में बिजली गिरने से 13 लोगों की जान गई है। पूर्णिया में 2, जमुई में 2, जहानाबाद में 2 लोगों की जान गई है। सारण में 1, जहानाबाद में 2, सीतामढ़ी में 1, नवादा में 8 और पूर्णिया में 2 लोगों की जान बिजली गिरने से हुई है।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर मंडल में बिजली गिरने से सबसे ज्यादा मौत

उत्तर प्रदेश में बिजली गिरने से सबसे ज्यादा मौतें गोरखपुर में हुई हैं। भारी बारिश के दौरान बिजली की चपेट में आने से गोरखपुर-बस्ती मंडल में 13 लोगों की मौत हो गई और नौ लोग बुरी तरह से झुलस गए हैं। यह सभी लोग अपने खेतों में काम कर रहे थे। इसमें सर्वाधिक नौ लोगों की मौत देवरिया जनपद में हुई है। सिद्धार्थनगर जिले में तीन और कुशीनगर में एक व्यक्ति की मौत हो गई है। बिजली गिरने से बुरी तरह से झुलसे सभी नौ लोग देवरिया जिले के हैं। इन सभी लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।देवरिया जनपद के विभिन्न थाना क्षेत्रों में गुरुवार को बारिश के बीच बिजली गिरने से सात वर्ष की बालिका और किसान समेत नौ लोगों की मौत हो गई तथा नौ लोग झुलस गए। इसमें से अधिकांश लोग अपने खेतों में काम करने के लिए गए थे।

28 तक आकाशीय बिजली और वज्रपात का खतरा

उत्तरी बिहार के अधिकांश जिलों में 28 जून तक वज्रपात का खतरा है। इस दौरान भारी बारिश भी होगी। बिहार से लेकर राजस्थान तक ट्रफ लाइन बनने से राज्य में कंवर्जेस जोन बन गया है। यह जोन ऐसा क्षेत्र है, जहां पर गर्म एवं ठंडी हवाएं आपस में टकराती हैं। गर्म एवं ठंडी हवाओं के टकराने से बिजली क़़डकती है, जिसे स्थानीय भाषषा में ठनका गिरना भी कहते हैं।

 खुले में मोबाइल का इस्तेमाल न करें

मौसम विभाग के विशेषषज्ञों का कहना है कि बिजली कड़कने के दौरान खुले में मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। ऐसी स्थिति में मोबाइल से कॉल न करें। मोबाइल को तत्काल बंद कर दें। बिजली क़़डकने के दौरान मोबाइल का उपयोग करने से सेट में भी ग़़डब़़डी होने की आशंका रहती है। इसके अलावा विद्युत सुचालक चीजों से दूर रहें तो ज्यादा ठीक है।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *