Pages Navigation Menu

Breaking News

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए ऑपरेशन गंगा

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

हरियाणा: 10 साल पुराने डीजल, पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध नहीं

सच बात—देश की बात

ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री को आधा घंटा इंतजार कराया, र‍िपोर्ट सौंपी और चली गईं

Mamata_pti_4नई दिल्ली: यास चक्रवात  से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल (West Bengal) और ओडिशा (Odisha) के प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे किया. इस दौरान पीएम मोदी ने दोनों राज्यों के लिए राहत पैकेज का भी ऐलान किया.पीएम मोदी ने तत्काल राहत गतिविधियों के लिए 1,000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता की घोषणा की. इसमें से ओडिशा को तुरंत 500 करोड़ रुपये दिए जाएंगे. जबकि शेष बचे 500 करोड़ रुपये पश्चिम बंगाल और झारखंड के लिए होंगे. उन्होंने बताया नुकसान का आंकलन करने के बाद ही ये राशि जारी की जा रही है. हालांकि इस फैसले पर पीएम ने रिव्यू मीटिंग की थी, जिसमें पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़, सीएम ममता बनर्जी, केंद्रीय मंत्री और बंगाल से सांसद देबाश्री चौधरी और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान मौजूद रहना था. लेकिन इस बैठक में ममता बनर्जी 30 मिनट की देरी से पहुंचीं. इतना ही नहीं, राज्य के मुख्य सचिव भी देरी से पहुंचे. इसके बाद भी ममता मीटिंग में नहीं रुकीं. उन्होंने साइक्लोन से राज्य में हुए नुकसान से जुड़े कुछ दस्तावेज दिए और चली गईं. सूत्रों के मुताबिक, ममता बनर्जी का कहना था कि उन्हें दूसरी मीटिंग्स में जाना है. ममता बनर्जी के इस रुख से केंद्र की सत्ताधारी पार्टी और टीएसमी के बीच एक बार फिर से टकराव बढ़ सकता है. हालांकि इस मीटिंग के दौरान राज्य के गवर्नर जगदीप धनखड़ पूरे समय मौजूद रहे.पश्चिम बंगाल चुनावों के बाद यह पहला मौका है कि जब पीएम मोदी और ममता बनर्जी का आमना-सामना हुआ। इससे पहले मोदी ने प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। ममता बनर्जी चक्रवात यास की वजह से पश्चिम बंगाल को 15 हजार करोड़ रुपये के नुकसान की बात कह चुकी हैं।

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »