Pages Navigation Menu

Breaking News

31 दिसंबर तक बढ़ी ITR फाइलिंग की डेडलाइन

 

कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मौत को रोकने में 96.6 फीसदी तक कारगर

अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए ना हो; पीएम नरेंद्र मोदी

सच बात—देश की बात

बंगाल में राजनीति की आड़ में जिहाद, चुनाव बाद हिंसा लोकतंत्र के लिए खतरा

west bengal voilanceकोलकाता: पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हिंसा लोकतंत्र के लिए खतरा है. पूर्वी क्षेत्र में सक्रिय रहे इन पदाधिकारी का कहना है कि आरएसएस ने इस मामले में एक देशव्यापी अभियान शुरू करने का संकल्प लिया है. आरएसएस के पदाधिकारी का दावा है कि तृणमूल कांग्रेस उनके खिलाफ खड़े होने वालों को चुप कराने की कोशिश कर रही है, संघ के नेताओं ने हिंसा प्रभावित परिवारों की मदद करने और उनकी सुरक्षा के लिए उपाय करने का संकल्प लिया है.राज्य में चुनाव बाद हिंसा में 28 लोगों की मौत हो गई है। हजारों लोग सीमावर्ती राज्य असम में पलायन कर चुके हैं।

‘राजनीतिक हिंसा के रूप में पेश हो रहीं स्थितियां’
संघ का मानना है कि हिंसा को राजनीतिक के रूप में पेश किया गया हो सकता है, लेकिन टीएमसी के साथ जिहादी तत्वों की मिलीभगत से इनकार नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि टीएमसी ने हमेशा अपने अजेंडे का समर्थन करने वाली पार्टियों से हाथ मिलाया है. आरएसएस पदाधिकारी ने कहा कि हम चाहते हैं कि लोगों को पता चले कि पश्चिम बंगाल में क्या हो रहा है. हम उम्मीद करते हैं कि ममता बनर्जी हिंसा को रोकें. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी बंगाल में इस तरह की हिंसा को क्यों नहीं रोक रही हैं? उन्होंने कहा, ‘जिहादी तत्वों ने पहले कांग्रेस और वाम दलों का समर्थन किया और अब वे टीएमसी के साथ हैं.’

बंगाल से संघ को खत्म करने के प्रयास
उन्होंने कहा, ‘संघ के कार्यकर्ताओं और मुख्य रूप से अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वर्ग से आने वाले कार्यकताओं पर हमले हुए हैं. ये हमले इसलिए किये जा रहे हैं क्योंकि हमारी विचारधारा से संबंध रखने वाली भाजपा ने उन विधानसभा क्षेत्रों में अपनी पैठ बढा ली है जो अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति बहुल हैं.’ उन्होंने दावा किया कि संघ और उसके आनुषांगिक संगठनों के सतत कार्यो की बदौलत भाजपा ने पहली बारआरएसएस के पदाधिकारी ने कहा कि हमारे स्वसंसेवकों एवं कार्यकर्ताओं पर लगातार हमला गहरी चिंता का विषय है और इस चुनौतिपूर्ण समय में हम उन्हें अकेला नहीं छोड़ेंगे. हम उन्हें प्रेरित करने तथा सामाजिक एवं आर्थिक सुरक्षा सुनिश्चित करने में मदद के लिये कार्यक्रम शुरू करने की योजना बना रहे हैं. राज्य में सभी 294 सीटों पर चुनाव लड़ा था. लेकिन अब राज्य में संघ की पूरी व्यवस्था को खत्म करने का प्रयास किया जा रहा है.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »